Search

ये 10 गुण जो दिला सकते हैं आपको बैंक में नौकरी

प्रधानमंत्री जन धन योजना जैसी सरकारी योजनाओं द्वारा समर्थित बैंकिंग क्षेत्र में हाल ही में बहुत अधिक उछाल देखा गया है। इस उछाल ने बैंकिंग क्षेत्र में कुशल एवं योग्य मानवपूंजी की आवश्यकता को बढ़ा दिया है जो निजी क्षेत्र के बैंकों और सरकार क्षेत्र के बैंकों में बढे अवसरों से स्पष्ट पता चलता है।

Feb 20, 2018 17:31 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
10 Great Qualities a PSU Bank Employee should possess
10 Great Qualities a PSU Bank Employee should possess

प्रधानमंत्री जन-धन योजना जैसी सरकारी योजनाओं द्वारा समर्थित बैंकिंग क्षेत्र में हाल ही में बहुत अधिक उछाल देखा गया है। इस उछाल ने बैंकिंग क्षेत्र में कुशल एवं योग्य मानवपूंजी की आवश्यकता को बढ़ा दिया है जो निजी क्षेत्र के बैंकों और सरकार क्षेत्र के बैंकों में बढे अवसरों से स्पष्ट पता चलता है। बैंकिंग क्षेत्र में करिअर खासकर जब बात सरकारी क्षेत्र के बैंकों की आती है तो यह इस देश के युवाओं के बीच पसंदीदा विकल्प बन जाता है। आईबीपीएस बैंक पीओ, एसबीआई पीओ, लिपिक और विशिष्ट अधिकारी परीक्षाओं की लोकप्रियता और बढ़ती प्रतिस्पर्धा सूचकांक से इस पाठ्यक्रम में अधिक उम्मीदवारों के शामिल होने के रूझान का स्पष्ट संकेत मिलता है।

आईबीपीएस या संबंधित बैंकों द्वारा केंद्रीकृत रोजगार परीक्षाओं के माध्यम से सामान्य भर्ती तंत्र और स्नातक की न्यूनतम योग्यता ने बैंकिंग को उम्मीदवारों के लिए बेहद आकर्षक करिअर बना दिया है। कभी कभी बैंकिंग क्षेत्र में जाने वाले कुछ उम्मीदवार खुद से अक्सर ये प्रश्न पूछते हैं कि क्या उनमें वाकई सरकारी क्षेत्र के बैंक कर्मचारी बनने के लिए सभी अनिवार्य गुण हैं? ऐसे विद्यार्थियों की मदद करने के लिए हमने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में सफल करिअर बनाने के लिए प्रत्येक बैंकिंग पेशेवर में होने वाले शीर्ष 10 गुणों की एक सूची तैयार की है।

यदि आप बैंक पीओ परीक्षा में असफ़ल हो रहे है तो इन 6 स्टेप्स को अपनाए !

1. बेहतर संगठन कौशल

बैंक में काम करने वाले पेशेवरों को कई जिम्मेदारियां निभानी होती है और एक ही समय में कई काम का प्रबंधन करना होता है। खास तौर पर क्योंकि वे पैसे के लेने – देन का मामला देखते हैं, इसलिए पीएसयू बैंक कर्मचारियों के लिए सुनियोजिक मन और विवरणों पर ध्यान देना बहुत महत्वपूर्ण है। उन्हें न सिर्फ महत्वपूर्ण चीजों को देखने में सक्षम होना चाहिए बल्कि किसी भी प्रकार की अनियमितताओं और गलत कार्यों पर नजर भी रखनी चाहिए। साथ ही इन गलतियों के बड़ा मुद्दा बनने से पहले हल कर देना चाहिए। बेहतर संगठन कौशल बैंक रिकॉर्ड्स और दस्तावेजों के रख–रखाव और प्रबंधन में भी मदद करते हैं जो कि संगठन के लिए बेहद महत्वपूर्ण है।

2. बेहतरीन संचार कौशल


वस्तुतः किसी भी क्षेत्र में बेहतरीन संचार कौशल अनिवार्य गुण होता है लेकिन बैंकिंग क्षेत्र के पेशेवरों के लिए इसका काफी महत्व है। बैंकिंग पेशेवर सीधे– सीधे ग्राहकों से बातचीत करते हैं और इसलिए उन्हें ग्राहकों के साथ विश्वास बनाने के लिए बेहतरीन लिखित एवं मौखिक संचार कौशलों को विकसित करने की आवश्यकता होती है। बैंक के अधिकारियों के लिए अपने अधीनस्थों के साथ बिना किसी संशय के महत्वपूर्ण नीति मामलों पर बातचीत करने के लिए भी उनमें संचार कौशल का होना अनिवार्य है।  

बैंकिंग परीक्षाओ के लिए अंग्रेजी भाषा की तैयारी कैसे करे?

3. सटीकता एवं दक्षता

यह बात खुद को काफी अच्छे से व्यक्त करता है। पैसे के मामले, चाहे वह व्यक्तिगत हो या बैंक की आवश्यकताओं के लिए, की देखरेख में सटीकता एवं दक्षता की आवश्यकता होती है। किसी चीज को टेलर (गणक) द्वारा सिर्फ नोटों की गिनती करने, जैसा सरल समझना, तब भी जब एक नोट न हो या उसकी गिनती गलत की गई हो, बैंक के लिए प्रमुख मुद्दा बन सकता है, इसलिए बैंक के कर्मचारियों को अपनी नौकरी की जवाबदेहियों के संदर्भ में बेहद उच्च स्तर की सटीकता विकसित करना अत्यंत महत्वपूर्ण है। इसके अलावा संचालन दक्षता कर्मचारियों को समय की कमी का सामना करने में भी मदद करते हैं।


4. गणितीय एवं विश्लेषणात्मक क्षमता

बाजार के रूझानों की भविष्यवाणी, ग्राहकों की प्रतिक्रियाएं, वित्तीय क्षेत्र में कार्यक्रम आधारित उतार– चढ़ाव और अन्य ऐसे की काम आज के बैंकिंग संचालन का आंतरिक हिस्सा बन चुके हैं। आज के ज्यादातर पीएसयू बैंक के कर्मचारियों द्वारा वित्तीय मामलों से प्रत्यक्ष रूप से निपटने की बात पर ध्यान दें तो जब बात गणितीय और विश्लेषणात्मक क्षमताओं की आती है तो उनके द्वारा कुछ खास कौशलों एवं योग्यताओं का प्रदर्शन करना महत्वपूर्ण हो जाता है।

5. सहयोगी एवं मित्रतापूर्ण व्यक्तित्व

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक कर्मचारी के मुख्य गुणों में से यह एक है।  बैंक पीओ और बैंक लिपिक परीक्षा के माध्यम से चुने गए ज्यादातर उम्मीदवार अपने आरंभिक वर्षों में संबंधित शाखाओं में नियुक्त किए जाएंगे। यहां वे हितधारकों, ग्राहकों और अन्य कर्मचारियों से सीधे– सीधे बातचीत करेंगे। वित्त उद्योग एक ऐसा सेवा क्षेत्र हैं जो मुख्य रूप से ग्राहकों के भरोसे और विश्वास पर चलती है। ग्राहकों, खाता धारकों एवं निवेशकों का भरोसा और विश्वास जीतने के लिए कर्मचारियों को अपने दैनिक जीवन में सहयोगी एवं मित्रतापूर्ण दृष्टिकोण अपनाना होगा।

6. तीव्र ग्रहण शक्ति

ई– बैंकिंग सुविधाओं के शुरु होने और बैंक के काम में तकनीक के व्यापक उपयोग के साथ यह क्षेत्र प्रकृति से बेहत गतिशील हो गया है। सरकारी क्षेत्र के बैंकों को निजी क्षेत्र से काफी दबाव मिल रहा है और दोनों ही क्षेत्रों के बैंकों ने ग्राहकों के लिए अपनी सेवाओं को अधिक आकर्षक बनाने के लिए अपने संचालन में तकनीकी प्रगति को शामिल किया है। जारी विकास के साथ कदम– से– कदम मिलाने और शीर्ष स्थान पर आने के लिए सरकारी क्षेत्र के बैंक कर्मचारियों को तेजी से सीखने वाला बनना होगा। उन्हें ऐसा बनना होगा जो न सिर्फ नई तकनीक को तेजी से समझ सके बल्कि नई प्रक्रियाओं को भी अपना सके और बैंक के अलग– अलग कार्यों के सुचारू संचालन को सुनिश्चित कर सके।  

जानिए बैंकिंग परीक्षा के पैटर्न में हुए बदलाव एवं इसमें महारत हासिल करने के तरीके

7. नेतृत्व क्षमता  

बैंक के कर्मचारी वित्त क्षेत्र के बड़े चक्र तक ही सीमित नहीं होते बल्कि वे किसी भी और प्रत्येक नीति या योजना के कार्यान्वयन के नेता होते हैं। इसलिए बैंक के अधिकारियों के लिए असाधारण नेतृत्व गुणों जो अधीनस्थों के साथ– साथ ग्राहकों के बीच सम्मान और विश्वास को प्रोत्साहित करे, का प्रदर्शन करना बहुत महत्वपूर्ण है।

8. प्रबंधन

पीएसयू बैंकों में अधिकारी स्तर पर नियुक्त लोगों के लिए यह बेहद महत्वपूर्ण है। पीएसयू बैंक के अधिकारियों के पास दैनिक संचालनों, वित्तीय दस्तावेजों, रिपोर्टिंग और कोर बैंकिंग कार्यों में किसी प्रकार की अनियमितताओं की जांच करने का काम होगा। अक्सर जनसाधारण स्तर वाले बैंक भी बुनियादी ढांचा के साथ– साथ कर्मचारियों के मामले में कम संसाधनका दवाब झेल रहे होते हैं। दक्षता के साथ इन सभी कार्यों को एक ही समय में संभालने के लिए एक बैंक अधिकारी को बेहतरीन प्रबंधक होना होगा। आपको सीमित  संसाधनों के साथ बैंक को चलाने हेतु प्रबंधन के सिद्धांतों और नवीन तकनीकों को लागू करना होगा।

जानिए SBI PO Exam 2018 की तैयारी के लिए आपको कौन सा न्यूज़ पेपर पढना चाहिए

9. चेतावनी और जागरूकता

वित्तीय मामलों से संबंधित काम जोखिम भरा होता है और बैंकिंग क्षेत्र के सभी पेशेवरों को इसे स्वीकारना चाहिए। बैंक अधिकारी भारतीय अर्थव्यवस्था के प्राथमिक संरक्षक होते हैं और उनकी जिम्मेदारी है कि वे बैंकिंग क्षेत्र में किसी भी प्रकार की वित्तीय अनियमितताओं या गलत काम को न होने दें। ऐसे करने के लिए, बैंक के कर्मचारी को बैंक और यहां तक की बैंक के बाहर भी अपने आस– पास होने वाली सभी घटनाओं पर नजर रखनी चाहिए। उन्हें सभी संभावित जोखिमों के बारे में जागरूक होना चाहिए और किसी भी प्रकार की अप्रिय घटना के मामले में उसके प्रभाव को न्यूनतम करने के लिए सुरक्षा तंत्र विकसित करना चाहिए।

10. ईमानदारी और वफादारी

सिर्फ ईमानदारी और वफादारी के कारण ही सरकार के साथ– साथ आम जनता दोनों ही के द्वारा बैंकिंग क्षेत्र में करिअर को सम्मान और आभार के साथ देखा जाता है। जब तक कि आप अपने व्यक्तित्व से  ईमानदारी और वफादारी का निश्चित भाव नहीं प्रदर्शित करते तब तक किसी भी व्यक्ति के लिए अपनी वित्तीय संपत्तियां आपके अधिकार में देना आसान नहीं होता। पीएसयू बैंक के कर्मचारी में ईमानदारी और वफादारी शायद सबसे महत्वपूर्ण और सबसे अधिक कम आंका जाने वाला गुण है।

उपर दिए गए गुण किसी भी पीएसयू बैंक के कर्मचारी के व्यक्तित्व के बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। प्रत्येक उम्मीदवार जो बैंकिंग पेशेवर के तौर पर अपना अच्छा करिअर बनाना चाहते है, को अपने व्यक्तित्व में इन गुणों को विकसित करना चाहिए।

बैंक परीक्षाओं की तैयारी करते समय आपको ' द हिंदू' अखबार क्यों पढ़ना चाहिए?

SBI PO परीक्षा 2018 की तैयारी के लिए सर्वश्रेष्ठ समाचार चैनल

Related Stories