हॉस्टल में परेशान करने वाले रूममेट के साथ रहने के कारगर टिप्स

वैसे तो कॉलेज के दिन बड़े ही ख़ुशगवार प्रतीत होते हैं लेकिन, क्या हो अगर कॉलेज हॉस्टल में आपको किसी ऐसे रूममेट के साथ अपना हॉस्टल रूम शेयर करना पड़े जो आपको काफी परेशान करे. यहां आपके लिए पेश हैं कुछ जरुरी टिप्स जिनकी सहायता से आप ऐसे किसी भी रूममेट से बड़ी आसानी से निपट सकते हैं.

Created On: Jan 29, 2020 15:21 IST
How to deal with a difficult roommate?
How to deal with a difficult roommate?

वैसे तो कॉलेज के दिन बड़े ही ख़ुशगवार प्रतीत होते हैं लेकिन, कॉलेज हॉस्टल में रहने पर आप अपने जीवन में काफी एडजस्टमेंट करना सीख जाते हैं. फिर भी, क्या हो अगर कॉलेज हॉस्टल में आपको किसी ऐसे रूममेट के साथ अपना हॉस्टल रूम शेयर करना पड़े जो आपको काफी परेशान करे. अक्सर कॉलेज हॉस्टल में सभी रूममेट्स से निपटना आसान नहीं होता है. प्राइवेसी न मिल पाना और अपने जीवन में किसी की निरंतर उपस्थिति के साथ एडजस्ट करना आसान नहीं होता है. अगर किसी बुरे संयोग से आप किसी बुरे या अजीब रूममेट के साथ फंस जाएं तो आपके मन की शांति कहीं खो सकती है. किसी बदमिजाज रूममेट के साथ गुजारा करना काफी मुश्किल साबित हो सकता है, इस हद तक मुश्किल कि आपको ऐसा लगने लगता है कि आप अपने दिमाग का संतुलन खो रहे हैं. लेकिन एक्सपर्ट्स के मुताबिक, अगर आप अपने मन में ठान लें तो कुछ भी असंभव नहीं है. अपना मानसिक संतुलन खोये बिना और बिना किसी परेशानी के इस तरह के रूममेट्स से निपटने के लिए कुछ आसान तरीके हैं. नीचे कुछ ऐसे सकारात्मक टिप्स पेश किये जा रहे हैं जिनसे आप किसी परेशान करने वाले रूममेट से निपट सकते हैं:

  • अपने रूममेट को साफ शब्दों में बताएं अपनी परेशानी

यदि आप कई छोटे-मोटे इशारे करते-करते थक गए हैं जिनका कोई नतीजा नहीं निकलता है तो इससे पहले कि आपका और अधिक समय बरबाद हो, किसी भी मुद्दे पर सीधे और साफ तौर पर अपने रूममेट से बातचीत करना सबसे अच्छा है. लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आप एक दूसरे के साथ झगड़ा या मार-पीट करने लगें. निश्चित रूप से आप निराश हो सकते हैं इसलिये, आपको अपने रूममेट को अपने मन की बात अवश्य बतानी चाहिए और वह भी बड़े ही स्पष्ट शब्दों में. लेकिन कोई ऐसी समस्या नहीं है जिसका हल शांतिपूर्ण बातचीत से न निकल सके. सीधे और साफ शब्दों में अपनी बात कहें लेकिन अपमानजनक तरीके से नहीं. उनसे तर्क करने का प्रयास करें और किसी वयस्क की तरह समस्याएं हल करने की कोशिश करें. ऐसा भी हो सकता है कि आपके रूममेट को यह पता ही न हो कि उसकी आदतें आपको परेशान कर रही हैं. अगर आप उसे इस बारे में विनम्रता से बताते हैं तो आप दोनों के बीच समझौता भी हो सकता है.

  • अपने जरुरी सामान को लॉक लगाकर रखें

कभी-कभी ज्यादा दोस्ताना रूम मेट्स से भी निपटना मुश्किल हो जाता है. वे लगातार बातें करते रहते हैं, भले ही आप उनकी किसी बात में दिलचस्पी न ले रहे हों. सबसे बुरी बात तो यह है कि आप उन्हें किसी बात के लिए मना नहीं कर पाते, फिर चाहे आपने उन्हें हर हालत में मना करने का मन बना रखा हो. वे हमेशा आपके साथ चिपके रहते हैं, आपकी अनुमति के बिना आपकी चीजें उधार लेते या इस्तेमाल करते हैं, आपको यह सोचने के लिए छोड़ देते हैं कि आपकी काली जैकेट आखिर गई कहां.... जबकि आपका रूममेट आपकी वह जैकेट पहन कर अपनी डेट पर चला जाता है. ऐसे लोगों के साथ एक कमरे में रहते समय अपने सामान को ताले और चाबी में रखना ही बेहतर होता है. यहां तक ​​कि अगर आप उन्हें बता दें कि वे आपकी मर्जी के बिना आपके सामान का इस्तेमाल न करें तो भी वे किसी एक या दूसरे तरीके से इस बारे में आपकी बात को अनदेखा करने की कोशिश कर सकते हैं. उनके साथ लड़ाई मोल लेने का कोई फायदा नहीं है क्योंकि उनका मतलब आपको कोई नुकसान पहुंचाना नहीं होता और वे आपकी बरदाश्त से बाहर कुछ ज्यादा ही दोस्ताना होते हैं.

ये बिंदास हॉस्टल लाइफ टेक्ट्स हैं कॉलेज स्टूडेंट्स के लिए बहुत उपयोगी

  • अन्य रूममेट्स के साथ मिलकर निकालें अपनी परेशानी का समाधान

यह तरीका केवल तभी काम आ सकता है जब आप एक से अधिक रूममेट्स के साथ रह रहे हों. अगर सिर्फ आप और आपका रूममेट ही एक कमरा शेयर कर रहे हैं तो यह तरीका आपके लिए पूरी तरह बेकार है. हालांकि, अगर आप 3 या 4 लोगों के साथ रह रहे हैं तो मुसीबत बनने वाले के खिलाफ एक मोर्चा बांधना काफी संभव है. उदाहरण के लिए, यदि आपके पास कुछ निर्दिष्ट कार्य हैं और कोई रूम मेट  अपने दैनिक कार्य नहीं कर रहा है तो अन्य लोग उसके खिलाफ लड़ सकते हैं और उसे उसके काम करने के लिए बाध्य कर सकते हैं. लेकिन इसका अर्थ यह तो बिलकुल नहीं है कि आप उस व्यक्ति को धमकायें  या आतंकित करें. उससे पूछिए कि वह अपने काम को पूरा क्यों नहीं कर रहा है? अगर इसके पीछे वह कोई ठोस कारण बताता है तो आप किसी भी तरीके से उसकी मदद कर सकते हैं. लेकिन अगर वह बिना किसी ठोस कारण के ऐसा कर रहा है तो फिर आप पूरी तरह से उसके खिलाफ मोर्चा बांध सकते हैं.

  • बदल लें अपना हॉस्टल रूम

अगर कोई भी तरीका काम नहीं आता है और सब चीज़े आपको अपने हाथ से निकलती हुई नजर आती हैं  तो आप के पास अब केवल एक ही चारा बचा है और वह यह है कि आप जितनी जल्दी हो सके, वह रूम छोड़ दें. बस अपना बैग पैक करें और अपने रास्ते चलते बनें और यदि आप अपने कॉलेज हॉस्टल में रहते हैं तो अपने वार्डन से बात करें कि वे आपको किसी दूसरे रूममेट के साथ एडजस्ट करने की कोशिश करें क्योंकि कुछ लोग ऐसे होते हैं जिनके साथ तर्क नहीं किया जा सकता है और अगर किसी भी समय आप उनसे तर्क करने की कोशिश करते हैं तो यह सिर्फ आपकी ऊर्जा और समय की बरबादी ही  है. ऐसे लोगों के साथ किसी भी तरह की चर्चा या बहस करने से आपका केवल तनाव ही बढ़ेगा और आपके मन की शांति भंग हो जायेगी. आपके लिए वह रूम छोड़ देना ही बेहतर रहेगा ताकि आप दोनों ही शांति से रह सकें.

कॉलेज हॉस्टलर के लिए कुछ खास टिप्स

आप एक सख्त रूममेट के साथ कैसे गुजारा करते हैं यह पूरी तरह आप पर निर्भर करता है. इस समस्या से निपटने के लिए दोनों तरह के सकारात्मक और नकारात्मक तरीके हैं जिनका आप इस्तेमाल कर सकते हैं. लेकिन हिंसा के साथ इस स्थिति से निपटने की कोशिश से और कुछ भी नहीं होगा, लेकिन आपकी परेशानी कई गुना बढ़ जायेगी. शांतिपूर्ण तरीके से ऐसी परिस्थितियों से निपटना सबसे अच्छा है. अगर आपको लगता है कि स्थिति बहुत गम्भीर हो गई है और अब बातचीत से कोई हल नहीं निकल सकता है तो बस अपना बैग पैक करें और अपनी हॉस्टल वार्डन से रिक्वेस्ट करके अपना हॉस्टल रूम बदल लें.

जॉब, इंटरव्यू, करियर, कॉलेज, एजुकेशनल इंस्टीट्यूट्स, एकेडेमिक और पेशेवर कोर्सेज के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने और लेटेस्ट आर्टिकल पढ़ने के लिए आप हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर विजिट कर सकते हैं.

ये बिंदास हॉस्टल लाइफ टेक्ट्स हैं कॉलेज स्टूडेंट्स के लिए बहुत उपयोगी

Comment (0)

Post Comment

4 + 1 =
Post
Disclaimer: Comments will be moderated by Jagranjosh editorial team. Comments that are abusive, personal, incendiary or irrelevant will not be published. Please use a genuine email ID and provide your name, to avoid rejection.