Jagran Josh Logo

क्रिएटिव लोगों के लिए कुछ बेहतरीन जॉब ऑप्शन्स

Mar 5, 2018 10:01 IST
  • Read in English
Jobs Best Suited to People with an Artistic Personality
Jobs Best Suited to People with an Artistic Personality

अक्सर क्रिएटिव लोग अपने लिए उपयुक्त जॉब तलाशते समय परेशान हो जाते हैं और उन्हें अपनी  पसंद की जॉब प्राप्त करने के लिए काफी संघर्ष करना पड़ता है. बहुत बार वे स्वयं को स्टेंडर्ड टाइम 9-5 की जॉब के लायक नहीं समझते हैं क्योंकि इस किस्म की जॉब में कोई क्रिएटिविटी नहीं होती है. बहुत बार ऐसा भी होता है कि जब किसी व्यक्ति को उसकी पसंद की जॉब मिल भी जाती है तो उन्हें अपने काम के लिए उनकी उम्मीद से काफी कम सैलरी पैकेज मिलता है. इसलिये, एक आम धारणा बन चुकी है कि किसी आर्टिस्टिक करियर को अपनाने पर आपको किसी अन्य पेशे के बजाय काफी कम कमाई होती है. लेकिन, यह सच नहीं है. जो लोग आर्टिस्टिक विषयों में ग्रेजुएशन की डिग्री प्राप्त करते हैं उनके पास काफी बढ़िया कौशल सेट होता है और लोगों के विश्वास से बिलकुल विपरीत, आर्टिस्टिक करियर लोगों को करियर के बेहतरीन अवसर उपलब्ध करवाता है और आर्टिस्टिक लोग आजकल अपने कार्यक्षेत्र की टॉप इंडस्ट्रीज में काम करने का अवसर प्राप्त कर सकते हैं.

कॉलेज स्टूडेंट्स अपना करियर चुनते समय रखें इन 7 बातों का ध्यान

आर्टिस्टिक व्यक्तित्व के लोगों के लिए कुछ बहुत ज्यादा कमाई वाले करियर ऑप्शन्स यहां पेश हैं:

आर्ट डायरेक्टर

जब हम क्रिएटिव करियर ऑप्शन्स की बात करते हैं तो ‘आर्ट डायरेक्टर’ का करियर काफी प्रभावी जॉब टाइटल लगता है. असल में, आर्ट डायरेक्टर्स उच्च-स्तर के एग्जीक्यूटिव्स होते हैं जो किसी क्रिएटिव प्रोजेक्ट के लिए डिज़ाइनर्स की टीम को मैनेज करते हैं. किसी आर्ट डायरेक्टर का काम कई क्रिएटिव कार्यक्षेत्रों से संबद्ध होता है और उन्हें अलग-अलग इंडस्ट्रीज में अलग-अलग जिम्मेदारियां सौंपी जाती है. लेकिन, आमतौर पर उन्हें प्लानिंग, वैचारिक लेआउट, फोटोग्राफ्स की डिजाइनिंग, एडवरटाइजमेंट्स, मैगजीन्स, न्यूज़पेपर, फिल्म सेट्स की विजूअल रूपरेखा आदि का कार्य सौंपा जाता है. लेकिन, किसी आर्ट डायरेक्टर की जिम्मेदारियां सिर्फ इन्हीं कामों तक नहीं सिमट जाती हैं क्योंकि वे अपने क्रिएटिव प्रोजेक्ट के लीडर होते हैं. जो व्यक्ति अपनी टीम को प्रेरित कर सकते हैं, वे अपेक्षित लक्ष्य प्राप्त कर लेते हैं. आर्ट डायरेक्टर बनने के लिए आपके पास आर्ट, डिज़ाइन, फोटोग्राफी या किसी संबद्ध विषय में ग्रेजुएशन की डिग्री होनी चाहिए और अपने टैलेंट को प्रदर्शित करने के लिए काम का उपयुक्त अनुभव भी होना चाहिए. कुछ एडमिनिस्ट्रेटिव पोजीशन्स के लिए कैंडिडेट्स के पास एमबीए या एमएफए की डिग्री भी होनी चाहिए.

ग्राफ़िक डिज़ाइनर

ग्राफ़िक डिज़ाइनर्स अपने क्लाइंट्स के लिए क्रिएटिव ग्राफ़िक्स और अन्य विजूअल इमेजेज तैयार करते हैं. इस जॉब के लिए आपके पास क्रिएटिव स्किल के साथ-साथ बढ़िया बिजनेस सेंस भी होना चाहिए. इस जॉब में आपको क्लाइंट की जरूरतों के अनुसार विजूअल इमेजेज, इलस्ट्रेशन्स, टेक्स्ट, एनीमेशन्स और प्रमोशनल मेटीरियल तैयार करना होता है. इस जॉब के तहत आपको मैगजीन्स, वेबसाइट्स, न्यूज़पेपर्स, जर्नल्स और अन्य ऐसे पब्लिकेशन मीडियम्स के लिए विशिष्ट सॉफ्टवेयर पर लोगोस, ब्रोशर्स, एडवरटाइजमेंट्स, एनीमेशन्स, इलस्ट्रेशन्स आदि तैयार करने होते हैं. आपको एडवरटाइजर्स, प्रमोशनल मैनेजर्स, पब्लिक रिलेशन्स विशेषज्ञों, मार्केटिंग मैनेजर्स, कैंपेन प्लानर्स और टीम के ऐसे अन्य क्रिएटिव मेंबर्स के साथ मिलकर अपना काम करना पड़ता है. किसी ग्राफ़िक डिज़ाइनर के तौर पर नौकरी प्राप्त करने के लिए आपके पास ग्राफ़िक डिजाइनिंग, फाइन आर्ट्स या किसी संबद्ध विषय में ग्रेजुएशन की डिग्री होनी चाहिए. आप किसी डिज़ाइन स्टूडियो में फुल टाइम जॉब या एक फ्रीलांसर के तौर पर जॉब कर सकते हैं.

आर्टिस्ट एजेंट/ बिजनेस मैनेजर

आर्टिस्ट एजेंट्स वे लोग होते हैं जो आर्ट इंडस्ट्री में एक्सपर्ट होते हैं और उन्हें हमेशा अपने कार्यक्षेत्र में नवीन और लेटेस्ट ट्रेंड्स की अच्छी जानकारी होती है. ये अक्सर आर्टिस्ट्स को रिप्रेजेंट करते हैं और आर्टिस्ट्स के टैलेंट्स को भी प्रोमोट करते हैं. बदले में आर्टिस्ट्स इन आर्टिस्ट एजेंट्स को इनके काम के आधार पर कमीशन या फीस देते हैं. ये एजेंट्स आर्टिस्ट की तरफ से उनकी आर्ट या कार्य को प्रदर्शित करने और बेचने के लिए उपयुक्त स्थान की भी तलाश करते हैं. ये लोग आर्टिस्ट के करियर को प्रोमोट करने के लिए नीतिगत योजनायें भी बनाते हैं जिसमें आमतौर पर आर्टिस्ट के कॉन्ट्रैक्ट्स, पेमेंट्स की बातचीत, मीटिंग्स अरेंज करना, सीधे मार्केटिंग कैंपेन्स, पब्लिक रिलेशन्स और ऐसे ही अन्य संबद्ध कार्य शामिल होते हैं. आर्ट एजेंट्स के पास अक्सर आर्ट हिस्ट्री में ग्रेजुएशन की डिग्री होती है और शुरू में उन्होंने आर्टिस्ट के तौर पर काम किया होता है. अपने कार्यक्षेत्र में काफी अनुभव प्राप्त करने के बाद ये आर्टिस्ट एजेंट के तौर पर काम करना शुरू कर देते हैं.

आर्ट प्रोफेसर

किसी भी विषय के प्रोफेसर की तरह ही आर्ट प्रोफेसर का कार्य आर्ट पढ़ाना होता है. इसमें विभिन्न आर्ट किस्मों पर लेक्चर देना, आर्ट के इतिहास, विभिन्न आर्टिस्ट्स और उनके स्टाइल के बारे में समझाना और स्टूडेंट्स के मौजूदा टैलेंट्स में सुधार करना आदि काम शामिल होते हैं. अपने टीचिंग सब्जेक्ट के अनुसार इनकी क्लास किसी सामान्य कमरे या स्टूडियो में लगती है. ये छात्रों के लिए कोर्स करिकुलम बनाने के साथ ही असाइनमेंट्स और प्रोजेक्ट्स भी तैयार करते हैं. आर्ट गैलरीज और म्यूजियम्स में अपने छात्रों को समय-समय पर लेकर जाना भी इनकी जॉब में शामिल होता है. अगर आप किसी विश्वविद्यालय या वैसे ही किसी इंस्टिट्यूट में प्रोफेसर के तौर पर कार्य करते हैं तो आपको रिसर्च, महत्वपूर्ण रिव्यूज, डाक्यूमेंट्स और आर्टवर्क्स का विश्लेषण करने जैसे कार्य भी करने होते हैं. आपको अपने कार्यक्षेत्र में लेटेस्ट विकास के साथ अपडेटेड रहने के साथ ही अपने रिसर्च वर्क को किसी मशहूर जर्नल में पब्लिश करना होता है. किसी आर्ट प्रोफेसर की जॉब प्राप्त करने के लिए आपके पास  अपने कार्यक्षेत्र में समुचित अनुभव के साथ विजूअल आर्ट्स या आर्ट हिस्ट्री विषय सहित एजुकेशन में मास्टर डिग्री होनी चाहिए. अगर आप किसी मशहूर कॉलेज या विश्वविद्यालय में काम करना चाहते हैं तो आपके पास आर्ट फील्ड में डॉक्टोरल डिग्री होनी चाहिए.

कमर्शियल आर्टिस्ट

कमर्शियल आर्टिस्ट्स विभिन्न प्लेटफॉर्म्स के लिए ग्राफ़िक्स और इमेजेज तैयार करने का काम करते हैं. ऐसे आर्टिस्ट्स की सबसे ज्यादा जरूरत एडवरटाइजिंग कैंपेन्स, प्रिंट, ऑनलाइन मैगज़ीन, फिल्म निर्माण, एनीमेशन्स और ऐसी अन्य क्रिएटिव फ़ील्ड्स में होती है. किसी कमर्शियल आर्टिस्ट के तौर पर, आप अपने क्लाइंट्स और अन्य टीम मेंबर्स के साथ मिलकर विचारों का मंथन करने और डिजाइनों में सुधार करने से संबद्ध अनेक कार्य करते हैं. आपको अपने क्लाइंट के टारगेट बाजारों, बजट संबंधी मुद्दों और अन्य प्रोजेक्ट उद्देश्यों की काफी अच्छी समझ होनी चाहिए. आपका मुख्य काम अपने क्लाइंट द्वारा दिए गए विवरण के अनुसार आइडियाज को समझाना और क्लाइंट की जरूरतों के अनुसार ड्राफ्ट्स तैयार करना होता है. आप के पास अपनी सहूलियत के अनुसार किसी एजेंसी में किसी कर्मचारी या फ्रीलांसर के तौर पर काम करने की आजादी होती है. आपको विज्ञापन एजेंसियों, प्रकाशन कंपनियों, ग्राफिक डिजाइनिंग फर्मों, खेल डिजाइनिंग कंपनियों, एनीमेशन स्टूडियो या अन्य संबद्ध संगठनों में भी काम मिल सकता है. किसी कमर्शियल आर्टिस्ट के तौर पर जॉब प्राप्त करने के लिए आपके पास ग्राफ़िक डिजाइनिंग या किसी अन्य आर्ट कोर्स में बैचलर डिग्री होनी चाहिए.

इंटीरियर डिज़ाइनर

इंटीरियर डिज़ाइनर्स ऐसे पेशेवर होते हैं जो भवन की आंतरिक साज-सज्जा (इंटीरियर डिजाइनिंग) का काम करते हैं. उन्हें इंटीरियर्स के विशेष डिज़ाइन तैयार करने के साथ ही सुरक्षा, सुंदरता, स्टाइल और डिज़ाइन की उपयोगिता का पूरा ध्यान रखना होता है. किसी इंटीरियर डिज़ाइनर के तौर पर, आपको अपने क्लाइंट्स के साथ मिलकर काम करना होता है, अपने क्लाइंट्स की जरूरतों को अच्छी तरह समझना होता है और उनकी पसंद के अनुसार ही डिज़ाइन तैयार करके देने होते हैं. इसके अलावा, आपको उपलब्ध स्थान के वास्तविक उपयोग को ध्यान में रखकर ही बढ़िया से बढ़िया डिज़ाइन तैयार करना होता है. आप अपने डिज़ाइन पेपर्स पर या कंप्यूटर पर विशेष सॉफ्टवेयर पर भी तैयार कर सकते हैं. आपके कार्यक्षेत्र में यह बहुत जरुरी है कि कॉन्ट्रैक्टर्स, आर्किटेक्ट्स, स्ट्रक्चरल इंजीनियर्स के साथ मिलकर बिल्डिंग रेगुलेशन्स के अनुकूल काम करने के लिए आपका नेटवर्क काफी मजबूत हो ताकि आप अपने क्लाइंट की जरूरतों के अनुसार अपना प्रोजेक्ट पूरा कर सकें. बहुत से डिज़ाइनर किसी विशेष स्ट्रक्चर या स्टाइल को चुनते हैं. इस फील्ड में भी आप अपनी सहूलियत के अनुसार रेगुलर जॉब या फ्रीलांसिंग पर काम कर सकते हैं. इस जॉब के लिए आपके पास इंटीरियर डिजाइनिंग या ड्राइंग में बैचलर डिग्री होनी चाहिए और आपको अपनी फील्ड में इस्तेमाल किये जाने वाली डिजाइनिंग सॉफ्टवेयर की काफी अच्छी जानकारी होनी चाहिए. आप अपनी फील्ड में ज्यादा तरक्की पाने के लिए एडवांस लेवल के कोर्स कर सकते हैं.  

फ्रीलांस राइटर

फ्रीलांसर राइटर्स असल में ऑनलाइन, प्रिंट, टेलीविज़न या रेडियो आदि के लिए आर्टिकल्स, स्टोरीज, बुक्स या अन्य कंटेंट मैटर की रिसर्च करते हैं और विषयवस्तु तैयार करते हैं. आपको विभिन्न सोर्सेज से जानकारी और सूचना स्वयं एकत्रित करनी होगी और फैक्ट्स चेक करने के बाद कंटेंट तैयार करके उस कंटेंट को पब्लिश करने या क्लाइंट को भेजने से पहले उसकी एडिटिंग और अंतिम ड्राफ्ट को रिव्यू करना होगा. टेक्निकल बैकग्राउंड वाले लोग टेक्निकल राइटिंग का काम कर सकते हैं लेकिन इसके लिए बढ़िया एजुकेशनल बैकग्राउंड के साथ ही आपको अपनी राइटिंग फील्ड की काफी अच्छी जानकारी होनी चाहिए. कंटेंट राइटिंग के तहत आप एकेडेमिक राइटिंग, स्क्रिप्ट राइटिंग, मशहूर लोगों के लिए स्पीच और जर्नलिज्म जैसे क्षेत्रों में काम कर सकते हैं. फ्रीलांसर राइटर बनने के लिए आपको क्रिएटिव राइटिंग में किसी डिग्री की जरूरत नहीं होती है. लेकिन अपने कार्यक्षेत्र के अनुसार आप विभिन्न कोर्सेज जैसे, जर्नलिज्म, इंग्लिश लिटरेचर, स्क्रिप्ट राइटिंग और अन्य संबद्ध कोर्स कर सकते हैं. इंजीनियरिंग के किसी विषय में डिग्री प्राप्त करने के बावजूद भी आपके पास यदि बढ़िया राइटिंग स्किल्स हैं तो आप लिखना शुरू कर सकते हैं. फ्रीलांस राइटिंग के लिए आपको किसी राइटिंग कोर्स में डिग्री की कोई जरूरत नहीं है लेकिन आपमें अपने काम के संबंध में क्रिएटिविटी और समर्पण के साथ ही मोटिवेशन होना चाहिए.

जानिये कॉलेज स्टूडेंट्स के लिए वर्क एक्सपीरियंस क्यों है जरुरी ?

एनिमेटर

एनीमेशन में मुख्य रूप से ऐसी इमेजेज तैयार करनी होती हैं जो स्क्रीन पर लाइव हो जाती हैं. किसी एनिमेटर के तौर पर, आप वेबसाइट्स, वीडियो, गेम्स, फीचर फिल्म्स और अन्य मीडिया में इस्तेमाल की जाने वाली चलती-फिरती इमेजेज तैयार करते हैं. आपको विशेष कंप्यूटर सॉफ्टवेयर, कंप्यूटर ग्राफ़िक्स और हैंडमेड ड्राइंग्स में ट्रेंड होना चाहिए ताकि आप विभिन्न किस्म के 2डी और 3डी एनीमेशन्स बना सकें. आपके काम में ड्राइंग्स, स्पेशलिस्ट सॉफ्टवेयर, मॉडल मेकिंग, एनीमेशन की प्रत्येक स्थिति के लिए अगल इमेजेज तैयार करना शामिल होता है. इस फील्ड में भी आप अपनी सहूलियत के अनुसार रेगुलर जॉब या फ्रीलांसिंग पर काम कर सकते हैं. किसी अच्छे एनीमेशन स्टूडियो में एंट्री लेवल की जॉब प्राप्त करने के लिए आपके पास आर्ट, कंप्यूटर ग्रफिक्स या किसी अन्य संबद्ध फील्ड में बैचलर डिग्री होनी चाहिए. आपके पास कार्य अनुभव, बढ़िया पोर्टफोलियो और बेहतरीन टेक्निकल स्किल्स भी होने चाहियें.

म्यूजिक प्रोड्यूसर

म्यूजिक प्रोड्यूसर का काम सॉन्ग्स तैयार करना होता है. आपके पास अच्छे नेटवर्किंग स्किल्स होने के साथ ही यंग टैलेंट को तलाशने का हुनर भी होना चाहिए. आपके पास म्यूजिक की बेहतरीन समझ और टैलेंट होने के साथ ही अपनी टारगेट मार्केट्स के मुताबिक म्यूजिक ट्रैक्स तैयार करने की काबिलियत होनी चाहिए. म्यूजिक प्रोड्यूसर बनने के लिए यह जरुरी नहीं है कि आपके पास म्यूजिक में डिग्री हो लेकिन, अगर आपके पास डिग्री हो तो आपको इससे काफी फायदा मिलेगा. इस कार्यक्षेत्र में कदम रखने से पहले आप ध्यान रखें कि इस कार्यक्षेत्र में जबरदस्त प्रतियोगिता के साथ-साथ काफी धीमा विकास होता है. आपके पास कुछ अलग धुनें या गीत तैयार करने का टैलेंट होना चाहिए ताकि आप भीड़ से अलग होकर इस क्षेत्र में नाम कमा सकें. इस जॉब में आपके पास इंस्ट्रुमेंटल और वोकल स्किल्स के साथ ही साउंड मिक्सिंग के भी काफी अच्छे स्किल्स होने चाहियें.

वीडियो एडिटर

किसी वीडियो एडिटर के तौर पर आप एक रॉ रिकॉर्डिंग को एक फिनिश्ड प्रोडक्ट के रूप में तैयार करते हैं ताकि उस रिकॉर्डिंग को वांछित प्लेटफॉर्म्स पर ब्रॉडकास्ट या अपलोड किया जा सके. आपका पोस्ट-प्रोडक्शन प्रोसेस में काफी अहम रोल होता है क्योंकि आप हाई-क्वालिटी अंतिम प्रोडक्ट पेश करने के लिए पूरी तरह जिम्मेदार होते हैं. कुछ प्रोजेक्ट्स में आपको रचनात्मक आजादी मिलती है लेकिन अधिकांश प्रोजेक्ट्स में आपको अपने क्लाइंट्स की इच्छा और निर्देशों के अनुसार कार्य करना पड़ता है. लेकिन, अगर आपको लगता है कि  आपके पास वीडियो तैयार करने और एडिट करने के अच्छे स्किल्स हैं तो यह आपके लिए उपयुक्त जॉब है. आप विज्ञापन एजेंसियों, प्रोडक्शन कंपनियों, टेलीविजन स्टूडियो या अन्य ऐसे संगठनों में काम कर सकते हैं. इस कार्यक्षेत्र में भी आप रेगुलर जॉब या फ्रीलांसिंग कर सकते हैं. लेकिन इस बात का पूरा ध्यान रखें कि यहां आपको बहुत कम समय में और काफी प्रेशर के तहत काम करना पड़ेगा.

फोटोग्राफर

यह आजकल युवा वर्ग के बीच काफी पसंदीदा करियर ऑप्शन है. एक पेशेवर फोटोग्राफर के तौर पर आप लोगों, स्थानों, इवेंट्स, वाइल्डलाइफ, ट्रेवल आदि में से अपनी कोई खास फील्ड चुन सकते हैं. कुछ लोग फैशन, एडवरटाइजिंग, क्लिनिकल या वेडिंग फोटोग्राफी में भी स्पेशलाइजेशन करते हैं. अधिकतर पेशेवर फोटोग्राफर अकेले काम करना पसंद करते हैं. लेकिन इस फील्ड में एंट्री करने के लिए आपको शुरू में किसी प्रतिष्ठित फोटोग्राफर के साथ काम करना चाहिए ताकि आप अपने काम में महारत हासिल कर सकें और जब आप अपना काम शुरू करें तो उनके कॉन्टेक्ट्स आपके काम आ सकें. लेकिन, इस कार्यक्षेत्र में काम शुरू करने से पहले आपको इस बात का ख्याल रखना होगा कि यहां काम के घंटे निर्धारित नहीं होते हैं और आपको अपने काम के मुताबिक स्टूडियो के साथ ही बाहर कई स्थानों पर जाकर फोटोशूट्स लेने पड़ते हैं. वैसे तो इस फील्ड के लिए आपको कोई एकेडेमिक क्वालिफिकेशन नहीं चाहिए लेकिन, आजकल अधिकांश पेशेवर फोटोग्राफर्स टेक्निकल स्किल्स प्राप्त करने के लिए फोटोग्राफी में कोर्स करने लगे हैं.

इवेंट प्लानर

इवेंट प्लानर्स अपने क्लाइंट्स के लिए पार्टीज और इवेंट्स की व्यवस्था करते हैं. जो लोग पार्टीज करना पसंद करते हैं, उनके लिए यह उपयुक्त जॉब है. आपको अगर किसी ऐसे काम के लिए रुपये मिलें जिस काम को करना आपको काफी पसंद हो तो इससे बढ़कर आपको और क्या चाहिए? लेकिन यह काम काफी आसान नहीं है क्योंकि आपको बहुत बड़े प्रोजेक्ट्स जैसे एग्जीबिशन और ट्रेड शोज की भी व्यवस्था करनी पड़ती है. आपके काम में मुख्य रूप से क्लाइंट्स से मीटिंग, इवेंट डिटेल्स बनाना, लोकेशन्स की तलाश और इवेंट के लिए हरेक चीज़ की समुचित व्यवस्था करना शामिल होता है जैसे कोल्ड ड्रिंक्स ठंडे रहें, खाना गर्म परोसा जाए और लाइट्स तथा एयरकंडीशनिंग की समुचित व्यवस्था हो. आपको अपने काम के दौरान क्लाइंट के बजट का भी पूरा ध्यान रखना होता है और उसी बजट में बढ़िया इवेंट अरेंज करना पड़ता है. आपको इवेंट के लिए महत्वपूर्ण स्पीकर्स, सेलिब्रिटीज, ए/वी टीम्स और इक्विपमेंट्स सहित हरेक चीज़ की व्यवस्था करनी होती है. यह जॉब रोचक होने के साथ ही थकाऊ भी होती है. आपको अपना करियर शुरू करने से पहले इवेंट प्लानिंग में कोर्स कर लेना चाहिए. आप इस फील्ड में भी अपनी जरूरत और पसंद के मुताबिक रेगुलर जॉब या फ्रीलांसिंग कर सकते हैं.

मेकअप आर्टिस्ट

ये वे लोग होते हैं जो किसी भी व्यक्ति की शक्ल बदलने में सक्षम होते हैं और लोगों को सुंदर दिखने में मदद करते हैं. वैसे तो किसी मेकअप आर्टिस्ट का काम काफी आसान लगता है लेकिन, असल में यह काफी मुश्किल काम होता है. आपको विभिन्न रंग-रूप, शक्ल और आकार के लोगों का मेकअप करना होता है और उन्हें सुंदर बनाना पड़ता है. आपको लोगों के रूप-रंग के मुताबिक मेकअप, पेंट, विग्स और संबद्ध एक्सेसरीज का इस्तेमाल करना होता है. आप फिल्म, थिएटर सेट, लाइव-परफॉरमेंस, वेडिंग्स, फैमिली फंक्शन या ऐसे अन्य प्रोग्राम्स में मेकअप आर्टिस्ट के तौर पर काम कर सकते हैं. आप एंटरटेनमेंट, फैशन, कॉस्मेटिक्स या संबद्ध इंडस्ट्रीज में किसी टीम के मेंबर के तौर पर या अकेले पेशेवर के तौर पर भी काम कर सकते हैं. इस फील्ड में काम शुरू करने से पहले आप मेकअप आर्टिस्ट्री या कॉस्मेटोलोजी या किसी संबद्ध विषय में डिग्री प्राप्त करने के बाद किसी अच्छे पेशेवर के पास ट्रेनिंग अवश्य लें.

गेम डिज़ाइनर

अगर आपको वीडियो गेम्स खेलना अच्छा लगता है तो आप एक गेम डिज़ाइनर के तौर पर अपना करियर शुरू कर सकते हैं. गेम डिज़ाइनर्स नई-नई कंप्यूटर गेम्स बनाते हैं. वे अपनी गेम के रूल्स, सेटिंग, स्टोरी और कैरेक्टर आदि तैयार करते हैं. गेम डिज़ाइनर को प्रोग्रामर्स, आर्टिस्ट्स, एनिमेटर्स, प्रोड्यूसर्स और ऑडियो इंजीनियर्स के साथ मिलकर काम करना होता है ताकि गेम काफी अच्छी बने. अक्सर गेम डिज़ाइनर्स ग्रेजुएट्स होते हैं. एम्पलॉयर्स अक्सर गेमिंग इंडस्ट्री में अनुभव प्राप्त उम्मीदवारों को काम पर रखना चाहते हैं. उदाहरण के लिए, किसी फ्रेशर के बजाय इस फील्ड में किसी गेम टेस्टर को ज्यादा आसानी से जॉब मिलती है. आप टेक्नोलॉजिकल डेवलपमेंट्स पर एक शॉर्ट-टर्म कोर्स कर सकते हैं ताकि आपको इस फील्ड में इस्तेमाल किये जाने वाले सॉफ्टवेयर की जानकारी मिल जाए. लेकिन, आपको जॉब करते हुए ही अपने काम की प्रैक्टिकल जानकारी मिलती है. यह वीडियो गेम लवर्स के लिए सबसे उपयुक्त करियर ऑप्शन है.

सारांश

इसलिये, फ्रेंड्स यहां हमने आपकी सहूलियत के लिए क्रिएटिव व्यक्तित्व के लोगों के लिए कुछ रोचक और बहुत अच्छी कमाई वाले करियर ऑप्शन्स की सूची पेश की है. अब, देर किस बात की है? आप अपनी पसंद का करियर ऑप्शन चुनें और वह पेशा अपनाने की पूरी कोशिश करें. आपकी कड़ी मेहनत जरुर सफल होगी.

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? यदि हां ! तो इसे अपने दोस्तों और सहपाठियों के साथ अवश्य शेयर करें. कॉलेज स्टूडेंट्स, करियर और कॉलेज लाइफ से संबंधित ऐसे और अधिक आर्टिकल पढ़ने के लिए www.jagranjosh.com/college पर विजिट करें. इसके अलावा, आप नीचे दिए गए बॉक्स में अपना ईमेल-आईडी सबमिट करके भी ये आर्टिकल सीधे अपने इनबॉक्स में प्राप्त कर सकते हैं.

Latest Videos

Register to get FREE updates

    All Fields Mandatory
  • (Ex:9123456789)
  • Please Select Your Interest
  • Please specify

  • ajax-loader
  • A verifcation code has been sent to
    your mobile number

    Please enter the verification code below

Newsletter Signup
Follow us on
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK
X

Register to view Complete PDF