जाने पहाड़ी क्षेत्रों में हिमस्खलन होने के 9 कारण कौन से हैं?

हिमस्खलन या एवलांच (avalanche) किसी ढलान वाली सतह पर तेज़ी से हिम के बड़ी मात्रा में होने वाले बहाव को कहते हैं। यह आमतौर पर किसी ऊँचे क्षेत्र में उपस्थित हिमपुंज या संचित बर्फ में अचानक अस्थिरता पैदा होने से आरम्भ होते हैं। इस लेख में हमने 9 कारको पर चर्चा की है जिनकी वजह से हिमस्खलन या एवलांच होने की संभावनाये बढ़ जाती है।
Dec 4, 2018 12:13 IST
    9 Causes for Avalanche in the Mountain Region HN

    हिमस्खलन या एवलांच (avalanche) किसी ढलान वाली सतह पर तेज़ी से हिम के बड़ी मात्रा में होने वाले बहाव को कहते हैं। यह आमतौर पर किसी ऊँचे क्षेत्र में उपस्थित हिमपुंज या संचित बर्फ में अचानक अस्थिरता पैदा होने से आरम्भ होते हैं।

    हिमस्खलन या एवलांच होने के 9 महत्वपूर्ण कारण

    हिमस्खलन या एवलांच होने के कई कारण हो सकते हैं और उन्ही में से कुछ महत्वपूर्ण कारकों पर नीचे चर्चा की गई है:

    1. भारी हिमपात (Heavy Snowfall)

    किसी भी ऊँचे पर्वतीय भागों में भारी बर्फ़बारी या हिमपात होने के कारण पर्वत ढलानों पर बर्फ संचय हो जाता है जिसके वजह से पर्वत के अस्थिर क्षेत्रों में हिमस्खलन का कारक बनता है।

    2. हवा की दिशा (Wind Direction)

    हवा की दिशा पहाड़ पहाड़ों के ढलानों पर बर्फबारी के पैटर्न के साथ-साथ बर्फ संचय के पैटर्न को भी निर्धारित करती है। यदि तेज हवा चलती है या बहती है तो पहाड़ों के ऊपरी खड़ी ढलान को ट्रिगर कर सकती है जिसकी वजह से हिमस्खलन या एवलांच होती है।

    3. बर्फ की परतें (Layering of Snow)

    धीरे-धीरे हिमपात या बर्फ़बारी के कारण पहाड़ों के ढलान पर बर्फ की परत बन जाती है जिसकी वजह से बर्फ से ढके पहाड़ों के ढलान को अतिसंवेदनशील बना देती है।

    4. स्टीपर ढलान (Steeper Slopes)

    गुरुत्वाकर्षण के प्रभाव से भी हिमस्खलन होता है। यदि पर्वत की ढलानों पर बर्फ़बारी की वजह से स्टीपर ढलान का निर्माण हो जाता है और यही परत दर परत जमी बर्फ बहुत ज्यादा दबाव बढ़ने की वजह से ये परतें खिसक जाती हैं और तेज़ी से नीचे की ओर फ़िसलने लगती हैं।

    विश्व के स्थलीय बायोम क्षेत्र कौन से हैं

    5. उच्च तापमान (Higher Temperatures)

    तापमान, हिमस्खलन या एवलांच के लिए महत्वपूर्ण कारकों में से एक है क्योंकि उच्च तापमान की वजह से परत दर परत जमी बर्फ की सतह परत पिघल जाती है। संचित बर्फ नीचे फिसलने के कारण ऊपरी परत अतिसंवेदनशील हो जाती है और नीचे की ओर फ़िसलने लगती हैं।

    6. भूकंप (Earthquakes)

    यह उन महत्वपूर्ण कारकों में से एक है जो परत दर परत जमी बर्फ को ट्रिगर करता हैं क्योंकि भूकंपीय लहरें परत दर परत जमी बर्फ में कंपन पैदा करता है और उन्हें अतिसंवेदनशील बना देता है जिसके वजह से हिमस्खलन या एवलांच होने की संभावनाये बढ़ जाता है।

    7. मशीनों और विस्फोटकों द्वारा निर्मित कंपन (Movements or Vibrations Produced By Machines and Explosives)

    जैसा कि हम जानते हैं कि दिन-प्रतिदिन जनसंख्या बढ़ती जा रही है, जिसके लिए जनसंख्या की आवश्यकता को पूरा करने के लिए विकास गतिविधियों पहाड़ों तक पहुच गयी है। जिसकी वजह से परत दर परत जमी बर्फ को विसर्जित कर सकती है और हिमस्खलन या एवलांच होने की संभावनाये बढ़ जाती है।

    ओजोन प्रदूषण क्या है और यह स्वास्थ्य को कैसे प्रभावित करता है?

    8. वनोन्मूलन (Deforestation)

    वनों को पृथ्वी के फेफड़ों के रूप में जाना जाता है। वे कार्बन डाइऑक्साइड (CO2) को अवशोषित करते हैं जो एक ग्रीनहाउस गैस है। विगत कुछ दशकों से घरेलू, औद्योगिक और यांत्रिक जरूरतों के लिए अत्याधिक वनों की कटाई हो रही है। जिसके कारण ग्लोबल वार्मिंग हो रही है जिससे बर्फीले पहाड़ तक पिघल रहे हैं और पृथ्वी जलमग्न होने की संभावनाये बढ़ रही हैं।

    9. शीतकालीन खेल गतिविधियां (Winter Sports Activities)

    शीतकालीन खेल जैसे स्की करते लोग, स्नोमोबाईल या जानवरों की अत्याधिक आवाजाही गतिविधियों की वजह से परत दर परत जमी बर्फ विसर्जित हो सकती है और हिमस्खलन या एवलांच होने की संभावनाये बढ़ जाती है।

    स्मोग क्या है और यह हमारे लिए कैसे हानिकारक है?

    Loading...

    Register to get FREE updates

      All Fields Mandatory
    • (Ex:9123456789)
    • Please Select Your Interest
    • Please specify

    • ajax-loader
    • A verifcation code has been sent to
      your mobile number

      Please enter the verification code below

    Loading...
    Loading...