Search

भारत की पहली पानी के नीचे चलने वाली बुलेट ट्रेन

भारत की पहली बुलेट ट्रेन मुंबई और अहमदाबाद के बीच चलाई जाएगी ओर इस दूरी को तय करने में लगभग दो घंटे सात मिनट का समय लगेगा. इसमें काफी ऐसी खूबियाँ होंगी जो अभी तक किसी भी भारतीय ट्रेन में नहीं हुई हैं. आइये इस लेख के जरिये बुलेट ट्रेन के बारें में कुछ महत्वपूर्ण तथ्यों पर नज़र डालते हैं.
Jun 14, 2017 16:45 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon
First Bullet Train in India
First Bullet Train in India

भारत की पहली बुलेट ट्रेन मुंबई और अहमदाबाद के बीच चलाई जाएगी. ऐसी संभावना है कि इस बुलेट ट्रेन की अधिकतम गति 350 किमी प्रति घंटे और सामान्य गति 320 किमी प्रति घंटे होगी. ऐसा माना जा रहा है कि मुंबई और अहमदाबाद के बीच 508 किलोमीटर की दूरी तय करने में बुलेट ट्रेन को लगभग दो घंटे सात मिनट का समय लगेगा.
बुलेट ट्रेन में क्या-क्या सुविधाएँ होंगी

Facility-in-India-first-bullet-train
पहली भारत की बुलेट ट्रेन की खासियत यह होगी कि इसमें महिलाओं के लिये स्तनपान कराने की सुविधा, बीमार यात्रियों के लिये व्यवस्था, बच्चों के लिये भी चेंजिंग रूम होगा जिसमें बच्चों के लिये शौचालय, डायपर फेंकने के लिये व्यवस्था और बच्चों के हाथ धोने के लिये कम ऊंचाई वाले सिंक उपलब्ध होंगे. इसके अलावा गर्म पानी के साथ पश्चिमी तौर तरीके वाले अत्याधुनिक शौचालय की सुविधा भी उपलब्ध होगी जिसमें मेकअप के लिये तीन-तीन आईने लगे होंगे.

भारतीय रेल कोच पर अंकित संख्याओं का क्या अर्थ है?
समुद्र में भी चलेगी पहली भारत की बुलेट ट्रेन

India-Bullet-Train-underwater
इतना ही नहीं देश की पहली बुलेट ट्रेन में यात्रा करते समय यात्रियों को समुद्र में सवारी करने का भी रोमांचक मौका मिलेगा. 508 किमी लंबी मुंबई-अहमदाबाद हाई स्पीड रेल कॉरिडोर में समुद्र के नीचे 21 किमी लम्बी सुरंग होगी.

भारत में पहली बुलेट ट्रेन का निर्माण कार्य कब से शुरू होगा

Bullet-Train-Stations-in-India
Source: www.images.indianexpress.com
भारत सरकार की बुलेट ट्रेन की परियोजना का निर्माण कार्य 2017 से शुरू हो कर 2023 में समाप्त होने की संभावना है. यह जापान की 25 ई-5 शिंकासेन श्रृंखला जैसा होगा जिसमें 731 सीटें होंगी. ई-5 शिंकासेन बुलेट ट्रेन नई पीढ़ी की जापानी हाईस्पीड ट्रेन है. बुलेट ट्रेन के निर्माण में तकरीबन 980 अरब की लागत आएगी और जापान इसके निर्माण के लिए 8.11 अरब डॉलर से अधिक का ऋण देगा. बुलेट ट्रेन कौन-कौन रेलवे स्टेशनों से गुजरेगी इसका अभी निर्णय नहीं हुआ हैं पर प्रस्तावित फैसलों में मुंबई मेट्रोपॉलिटन क्षेत्र (एमएमआर) के कुछ स्थानों में ठाणे, विरार बोईसर और पालघर शामिल हैं और दूसरी तरफ अहमदाबाद के रास्ते पर वेप, सूरत और वडोदरा को शामिल करने की संभावना है.

भारतीय रेलवे द्वारा ट्रेन दुर्घटनाओं को रोकने के लिए कौनसे सुरक्षा उपाय किए जाते हैं
भारत की पहली बुलेट ट्रेन की और क्या खासियत हैं

india-bullet-train
Source: www.checktrainpnrstatus.com
ऐसा भारतीय रेल में पहली बार होगा जब बुलेट ट्रेन में महिलाओं एवं पुरुषों के लिये विशेष शौचालय एवं मूत्रालयों की व्यवस्था के साथ अलग आरामकक्ष की सुविधा भी होगी. हालांकि, ट्रेन में वैकल्पिक डिब्बों में मूत्रालय और शौचालय स्थापित किए जाएंगे। उदाहरण के लिए, कोच संख्या 1, 3, 5, 7 और 9 में शौचालय स्थापित किए जाएंगे, जबकि मूत्रालयों को कोच संख्या 2, 4, 6 और 8 में उपलब्ध कराया जाएगा.
भारत की पहली बुलेट ट्रेन में बिजनेस क्लास यात्रियों के लिए सामान रखने के लिए अलग स्थान होगा. बिजनेस क्लास यात्रियों के अलावा विशिष्ट श्रेणी के यात्री भी सफर करेंगें. जिसमें 698 सीटें विशिष्ट श्रेणी यात्रियों के लिए और 55 सीट्स बिजनेस क्लास के लिए निर्धारित की जाएंगी. इसका किराया तकरीबन 2800 रूपये हो सकता है.

भारतीय रेलवे में कैसे और किन मुद्दों पर अपनी शिकायतें दर्ज कर सकते हैं?