Search

मध्यकालीन इतिहास: भक्ति आंदोलन पर आधारित सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी सेट X

भक्ति आन्दोलन मध्‍यकालीन भारत का सांस्‍कृतिक इतिहास में एक महत्‍वपूर्ण पड़ाव था। इस काल में सामाजिक-धार्मिक सुधारकों की धारा द्वारा समाज विभिन्न तरह से भगवान की भक्ति का प्रचार-प्रसार किया गया। यह एक मौन क्रान्ति थी।मध्यकालीन इतिहास: भक्ति आंदोलन सेट X में सामान्य ज्ञान के 10 वतुनिष्ठ प्रश्नों को शामिल किया गया है, जो UPSC-Prelims/SSC/CDS/NDA, राज्य स्तरीय परीक्षाओं एवं रेलवे जैसी विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे अभ्यर्थियों के लिए काफी उपयोगी है|
Feb 12, 2018 10:36 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon
GK Questions with Answers on Medieval History Bhakti Movement Set X in Hindi
GK Questions with Answers on Medieval History Bhakti Movement Set X in Hindi

भक्ति आन्दोलन मध्‍यकालीन भारत का सांस्‍कृतिक इतिहास में एक महत्‍वपूर्ण पड़ाव था। इस काल में सामाजिक-धार्मिक सुधारकों की धारा द्वारा समाज विभिन्न तरह से भगवान की भक्ति का प्रचार-प्रसार किया गया। यह एक मौन क्रान्ति थी।मध्यकालीन इतिहास: भक्ति आंदोलन सेट X में सामान्य ज्ञान के 10 वतुनिष्ठ प्रश्नों को शामिल किया गया है, जो UPSC-Prelims/SSC/CDS/NDA, राज्य स्तरीय परीक्षाओं एवं रेलवे जैसी विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे अभ्यर्थियों के लिए काफी उपयोगी है|

1. भक्ति आंदोलन से संबंधित निम्न कथनों में से कौन सा सही है?

A. भक्ति आंदोलन के प्रमुखों में से एक रामानंद ने भगवान के रूप में राम पर ध्यान केंद्रित किया था।

B. श्री रामानुजाचार्य एक भारतीय दार्शनिक थे और उन्हें प्रमुख वैष्णव संत के रूप में जाना जाता था|

C. उपरोक्त दोनों

D. उपरोक्त में कोई भी नहीं

Ans: C

2. निम्नलिखित में से कौन सा कारण भारत में भक्ति आंदोलन का कारण बना?

A. जाति विभाजन

B. अस्पृश्यता

C. कर्मकाण्ड

D. उपरोक्त सभी

Ans: D

3. निम्नलिखित कथनों में से कौन-सा भगवाकरण और कृष्ण पंथ (भक्ति पंथ) के बारे में सही नहीं है?

I. भगवाकरण, वैष्णव की एक शाखा है जहां भक्त भगवान विष्णु के विभिन्न अवतारों की पूजा करते हैं।

II. भगवाकरण या वैष्णव धर्म के मूल का वर्णन उपनिषदों में किया गया है क्योंकि 'चंडोज्ञ उपनिषद' में कृष्ण का वर्णन ऋषि घोराके एक शिष्य के रूप में किया गया है।

कोड:

A. केवल I

B. केवल II

C. I और I दोनों

D. उपरोक्त में कोई नहीं

Ans: D

4. निम्न में से भक्ति आंदोलन की विशेषताओं से संबंधित सही कथन कौन सा है?

A. इसके समर्थकों ने 'भगवान की एकता' का प्रचार किया और 'ईश्वर के प्रति समर्पण' पर बल दिया|

B. यह सभी मनुष्य में समानता और विश्व बंधुत्व पर जोर देता है।

C. A और B दोनों

D. उपरोक्त में कोई नहीं

Ans: C

5. धर्मशास्त्र के स्कूल अचिंत्यभेदभेदत्वकी शुरूआत किसने की थी?

A. चैतन्य

B. मीराबाई

C. तुलसीदास

D. सूरदास

Ans: A

6. निम्नलिखित भक्ति संतों में से किसने गुजरात में वैष्णव पंथ को लोकप्रिय बनाया?

A. चैतन्य

B. नारासी

C. तुलसीदास

D. शंकरदेव

Ans: B

7. निम्नलिखित भक्ति संतों में से किसने विनय-पत्रिका और कवितावली की रचना की?

A. चैतन्य

B. शंकर देव

C. तुलसीदास

D. नारासी

Ans: C

8. चैतन्य की जीवनी किनसे लिखी है?

A. कविराज कृष्णदास

B. नामदेव

C. शंकर देव

D. A और B दोनों

Ans: A

9. रुद्र सम्प्रदाय स्कूल.....द्वारा स्थापित किया गया था:

A. रामानंद

B. वल्लभाचार्य

C. नारासी

D. चैतन्य

Ans: B

10. किस भक्ति संत ने शुद्धवादिता वेदांत (शुद्ध गैर द्वैतवाद) और दर्शन का प्रतिपादन किया था जिसे पुष्टिमार्ग (अनुग्रह का मार्ग) भी कहा जाता है?

A. रामानुज

B. रामानंद

C. वल्लभाचार्य

D. नरसी मेहता

Ans: C

उपरोक्त लेख में हमने भक्ति आंदोलन पर आधारित सामान्य ज्ञान के 10 वतुनिष्ठ प्रश्नों को शामिल किया है, जो UPSC-Prelims/SSC/CDS/NDA, राज्य स्तरीय परीक्षाओं एवं रेलवे जैसी विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे अभ्यर्थियों के लिए काफी उपयोगी है|

सामान्य ज्ञान क्विज  |  इतिहास क्विज