सौरमंडल के 10 ग्रह जिनके पास प्राकृतिक उपग्रहों की संख्या सबसे ज्यादा है

ब्रह्मांड में लगभग 100 अरब या उससे भी ज्यादा मंदकिनी (Galaxy) हैं और आकाशगंगा या मिल्की वे या क्षीरमार्ग या मन्दाकिनी हमारी गैलेक्सी को कहते हैं, जिसमें पृथ्वी और हमारा सौर मण्डल स्थित है। इस लेख में हमने सौरमंडल के 10 ग्रहों को सूचीबद्ध किया है जिनके पास प्राकृतिक उपग्रहों की संख्या सबसे ज्यादा है जो UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है।
Nov 21, 2018 14:10 IST
    Top 10 Planets with the Largest Number of Natural Satellite HN

    ब्रह्मांड में लगभग 100 अरब या उससे भी ज्यादा मंदकिनी (Galaxy) हैं और आकाशगंगा या मिल्की वे या क्षीरमार्ग या मन्दाकिनी हमारी गैलेक्सी को कहते हैं, जिसमें पृथ्वी और हमारा सौर मण्डल स्थित है। आकाशगंगा, तारों की एक व्यवस्था है जिसमें बड़ी संख्या में गैस के बादल पाये जाते हैं, जिनमें से कुछ तो  बहुत विशाल  होते हैं। गैस के बने इन्हीं बादलों में नए तारों का जन्म होता है और गुरुत्वाकर्षण बल द्वारा ये आपस में जुड़े रहते हैं।

    सौरमंडल के 10 ग्रह जिनके पास प्राकृतिक उपग्रहों की संख्या सबसे ज्यादा है

    सौरमंडल के 10 ग्रहों की सूची पर नीचे चर्चा की गयी है जिनके पास प्राकृतिक उपग्रहों की संख्या सबसे ज्यादा है:

    10. एरिस

    ज्ञात सौर मंडल में यह सबसे बड़ा बौना ग्रह है। जनवरी 2005 में माइक ब्राउन के नेतृत्व में पालोमर वेधशाला आधारित टीम द्वारा खोजा गया था।

    उपग्रहों की संख्या (चंद्रमा): 1

    9. मकेमैक

    यह एक बौना ग्रह है और 31 मार्च, 2005 को माइकल ई ब्राउन की अगुआई वाली एक टीम द्वारा खोजा गया था। यह उन निकायों में से एक है जिसने प्लूटो को ग्रह के रूप में अपनी स्थिति खोने का कारण बना दिया है।

    उपग्रहों की संख्या (चंद्रमा): 1

    8. पृथ्वी

    यह सूर्य से तीसरा ग्रह और ज्ञात ब्रह्माण्ड में एकमात्र ग्रह है जहाँ जीवन है।

    उपग्रहों की संख्या (चंद्रमा): 1

    7. हौमा

    यह नेप्च्यून की कक्षा से ऊपर एक बौना ग्रह है।

    उपग्रहों की संख्या (चंद्रमा): 2

    6. मंगल ग्रह

    यह सौरमंडल में सूर्य से चौथा ग्रह है। पृथ्वी से इसकी आभा रक्तिम दिखती है, जिस वजह से इसे "लाल ग्रह" के नाम से भी जाना जाता है।

    उपग्रहों की संख्या (चंद्रमा): 2

    5. यम या प्लूटो ग्रह

    यह सौर मण्डल का दुसरा सबसे बड़ा बौना ग्रह है। इसको कभी सौर मण्डल का सबसे बाहरी ग्रह माना जाता था, लेकिन अब इसे सौर मण्डल के बाहरी काइपर घेरे की सब से बड़ी खगोलीय वस्तु माना जाता है।

    उपग्रहों की संख्या (चंद्रमा): 5

    क्या आप जानते हैं हमारे सौर मण्डल के किस ग्रह का गुरुत्वाकर्षण बल सबसे ज्यादा है?

    4. नेप्च्यून या वरुण ग्रह

    यह हमारे सौर मण्डल में सूर्य से आठवाँ ग्रह है। व्यास के आधार पर यह सौर मण्डल का चौथा बड़ा और द्रव्यमान के आधार पर तीसरा बड़ा ग्रह है।

    उपग्रहों की संख्या (चंद्रमा): 14

    3. यूरेनस या अरुण ग्रह

    यह हमारे सौर मण्डल में सूर्य से सातवाँ ग्रह है। व्यास के आधार पर यह सौर मण्डल का तीसरा बड़ा और द्रव्यमान के आधार पर चौथा बड़ा ग्रह है।

    उपग्रहों की संख्या (चंद्रमा): 27

    2. शनि

    यह सूर्य से छठां ग्रह है तथा बृहस्पति के बाद सौरमंडल का सबसे बड़ा ग्रह हैं।

    उपग्रहों की संख्या (चंद्रमा): 62

    1. बृहस्पति

    यह सूर्य से पांचवाँ और हमारे सौरमंडल का सबसे बड़ा ग्रह है। यह गैसों और तरल पदार्थों से बना हुआ है।

    उपग्रहों की संख्या (चंद्रमा): 67

    सौर मंडल के सबसे बड़े प्राकृतिक उपग्रहों की सूची

    सौरमंडल के 10 ग्रह जिनके पास प्राकृतिक उपग्रहों की संख्या सबसे ज्यादा है

    ग्रहों के नाम

    उपग्रहों की संख्या (चंद्रमा)

    1. बृहस्पति

    67

    2. शनि

    62

    3. यूरेनस

    27

    4. नेप्च्यून

    14

    5. प्लूटो

    5

    6. मंगल ग्रह

    2

    7. हौमा

    2

    8. पृथ्वी

    1

    9. मकेमैक

    1

    10. एरिस

    1

    एक अनुमान के अनुसार बिग बैंग घटना करीब 15 अरब वर्ष (15x109) पहले हुई थी जिसकी वजह से आकाशगंगाओं को एक दूसरे से दूर होना पड़ा। कुछ वैज्ञानिक ऐसे भी हैं जो मानते हैं कि ब्रह्मांड हर समय और हर बिन्दु पर एक जैसा ही दिखता है।

    ब्रह्मांड के घटक : तारे, तारामंडल व आकाशगंगा

    Loading...

    Register to get FREE updates

      All Fields Mandatory
    • (Ex:9123456789)
    • Please Select Your Interest
    • Please specify

    • ajax-loader
    • A verifcation code has been sent to
      your mobile number

      Please enter the verification code below

    Loading...
    Loading...