Search

जानें ट्रेन 18, दूसरी वंदे भारत एक्सप्रेस के बारे में

दूसरी वंदे भारत एक्सप्रेस या ट्रेन 18 भारतीय रेलवे द्वारा वैष्णो देवी मंदिर की यात्रा करने वाले भक्तों के लिए एक उपहार है. यह उच्च यातायात दिल्ली-कटरा मार्ग पर चलेगी. आइये दूसरी वंदे भारत एक्सप्रेस के बारे में और जानते हैं जैसे इसके जरिये दिल्ली से कटरा पहुंचने में कितना समय लगेगा, ट्रेन की विशेषताएं, यह ट्रेन अन्य ट्रेनों से अलग कैसे है, इत्यादि.
Jul 23, 2019 15:28 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon
Second Vande Bharat Express, Train 18
Second Vande Bharat Express, Train 18

दूसरी वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन सप्ताह में तीन दिन दिल्ली से कटरा रूट पर चलेगी. यह एक उच्च गति वाली ट्रेन है जो दिल्ली-कटरा के बीच यात्रा के समय को 12 घंटे से घटाकर 8 घंटे करेगी. आपको बता दें कि पहली वंदे भारत एक्सप्रेस या ट्रेन 18 को दिल्ली-वाराणसी रूट पर लॉन्च किया गया था. दूसरी वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन सप्ताह में तीन दिन चलने का प्रस्ताव है जो प्रत्येक सोमवार, गुरुवार और शनिवार को चलेगी. लेकिन, इसे मांग के अनुसार दो दिन और बढ़ाया जा सकता है.

दूसरी वंदे भारत एक्सप्रेस की कुछ रोचक विशेषताएं इस प्रकार हैं:

- दूसरी वंदे भारत एक्सप्रेस एक सेमी हाई स्पीड ट्रेन है जो 130 किमी/ घंटा की रफ़्तार से दौड़ेगी और लगभग 4 घंटे का समय श्रद्धालुओं का बचाएगी.

- ट्रेन सुबह 6 बजे दिल्ली से रवाना होगी और दोपहर 2:00 बजे कटरा पहुंचेगी. उसी दिन अपनी वापसी यात्रा में, यह कटरा से दोपहर 3:00 बजे रवाना होगी और 11 बजे दिल्ली पहुंचेगी. दिल्ली से कटरा पहुंचने से पहले अंबाला, लुधियाना और जम्मू तवई रेलवे स्टेशन पर दो- दो मिनट रुकेगी.

- वर्तमान में, एक सुपरफास्ट ट्रेन को कटरा से दिल्ली तक पहुंचने में लगभग 655 किमी की दूरी तय करने में लगभग 12 घंटे लगते हैं. लेकिन दूसरी वंदे भारत एक्सप्रेस को दिल्ली से कटरा पहुंचने में केवल 8 घंटे ही लगेंगे.

- ट्रेन के पुराने संस्करण में पेंट्री के लिए पर्याप्त जगह नहीं थी लेकिन दूसरी वंदे भारत एक्सप्रेस को अपग्रेड किया गया है जिसमें यात्रियों के लिए भोजन रखने के लिए अधिक जगह होगी.

जानें भारत के पहले अंतर्राष्ट्रीय मानक रेलवे स्टेशन के बारे में

- इंटीग्रल कोच फैक्ट्री ने ट्रेन 18 का निर्माण किया है और ट्रेन के मौजूदा डिजाइन में कुछ बदलाव भी किए हैं. यानी पशुओं के कारण होने वाले नुकसान से बचने के लिए ट्रेन को मजबूत एल्यूमीनियम-क्लैड नॉज कवर से सुसज्जित किया गया है.

- ट्रेन की अद्भुत विशेषताओं में से एक यह है कि पथराव से बचने के लिए खिड़कियों पर एक विशेष फिल्म प्रदान की गई है.

- इसमें एडजस्टेबल सीट्स, बेहतर वॉश बेसिन, वाईफाई और इंफोटेनमेंट सिस्टम होगा.

- ट्रेन में दो बैठने के विकल्पों के साथ पूरी तरह से वातानुकूलित कुर्सी कारों के कोच हैं: इकॉनमी और एग्जीक्यूटिव क्लास.

Second Vande Bharat Express features

Source: www.team-bhp.com

- ट्रेन के दरवाजे मेट्रो ट्रेन की तरह स्वचालित हैं. जब तक ट्रेन का दरवाज़ा पूर्ण रूप से बंद नहीं होगा ट्रेन स्टार्ट नहीं होगी और जब तक ट्रेन पूर्ण रूप से रुकेगी नहीं तब तक ट्रेन का दरवाज़ा खुलेगा नहीं.

- दूसरी वंदे भारत एक्सप्रेस में ड्राइवरों का केबिन प्रत्येक छोर पर वायुगतिकीय है. ड्राइवरों का केबिन पूरी तरह से कम्प्यूटरीकृत और आसानी से संचालित होगा.

- ट्रेन में टच कंट्रोल के साथ रीडिंग लाइटें होंगी. क्या यह आश्चर्यजनक नहीं है? यह विश्व स्तरीय ट्रेन का एहसास देगा.

- स्वच्छता बनाए रखने के लिए ट्रेन में बायो-वैक्यूम शौचालय स्थापित किए गए हैं और प्रत्येक कोच के लिए भारतीय और पश्चिमी सुसंस्कृत शौचालय दोनों शामिल हैं.

- प्रत्येक सीट के लिए चार्जिंग सॉकेट होगा.

- इसमें जीपीएस के साथ एक सूचना स्क्रीन भी है. इसलिए, अब यात्रियों को आगामी स्टेशन के लिए बार-बार पूछने या चेक करने की आवश्यकता नहीं है और न ही लाइव स्थिति को बार-बार देखने की आवश्यकता है. सभी कोचों में दो सूचना स्क्रीन हैं, जो दोनों तरफ लगाई गई हैं. इसके माध्यम से, यात्री ट्रेन, वर्तमान स्टेशन, आगामी स्टेशन इत्यादि की गति के बारे में देख सकते हैं.

- यात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए हर कोच में सीसीटीवी कैमरे भी लगाए गए हैं.

इसलिए, दूसरी वंदे भारत एक्सप्रेस वैष्णो देवी मंदिर जाने वाले भक्तों के लिए कोई उपहार से कम नहीं है. अन्य एक्सप्रेस ट्रेनों की तुलना में इससे सफर करने में कम समय लगेगा. ट्रेन का ट्रायल जुलाई 2019 में शुरू किया गया है और जल्द ही यह दिल्ली से कटरा रूट के लिए स्टार्ट की जाएगी.

भारतीय रेलवे स्टेशन बोर्ड पर ‘समुद्र तल से ऊंचाई’ क्यों लिखा होता है?

रेलवे से जुड़े ऐसे नियम जिन्हें आप नहीं जानते होंगे