Search

सन 2019 तक विश्व की जीडीपी में सबसे अधिक योगदान करने वाले देश कौन होंगे

विश्व बैंक द्वारा इस वर्ष की शुरूआत में अनुमान लगाया गया कि 2017-2019 की अवधि में वैश्विक अर्थव्यवस्था की जीडीपी वृद्धि दर 2.8% रहने की संभावना है. लेकिन एक अहम् सवाल यह उठता है कि वास्तव में विकास कहाँ होगा? क्या यह विकास उन विकसित देशों में होगा जहाँ पर विकास दर 2% की स्थिर दर से बढ़ रही है या फिर उन विकसशील देशों में होगा जहाँ पर 7% से 8% की विकास दर होना कोई बड़ी बात नही है.
Nov 5, 2017 11:34 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon
World Bank Report
World Bank Report

विश्व बैंक द्वारा इस वर्ष की शुरूआत में अनुमान लगाया गया कि 2017-2019 की अवधि में वैश्विक अर्थव्यवस्था की जीडीपी वृद्धि दर 2.8% रहने की संभावना है. लेकिन एक अहम् सवाल यह उठता है कि वास्तव में विकास कहाँ होगा? क्या यह विकास उन विकसित देशों में होगा जहाँ पर विकास दर 2% की स्थिर दर से बढ़ रही है या फिर उन विकसशील देशों में होगा जहाँ पर 7 से 8% की विकास दर होना कोई बड़ी बात नही है.
यह लेख विश्व बैंक की एक रिपोर्ट पर आधारित है जिसमे यह बताया गया है कि 2017-2019 की अवधि में विश्व की विकास दर में सबसे अधिक योगदान किन देशों का होगा.
वैश्विक विकास कहाँ हो रहा है?
इस रिपोर्ट के अनुसार विश्व की जीडीपी का आधा विकास चीन और अमेरिका में हो रहा है. विश्व बैंक का अनुमान कहता है कि वर्तमान की 75 ट्रिलियन डॉलर की वैश्विक अर्थव्यवस्था में अगले 3 सालों में 6.5 ट्रिलियन डॉलर(खरब डॉलर) की वृद्धि हो जाएगी.
जानें दुनिया के इन देशों में प्रति व्यक्ति कितना कर्ज है?
आइये जानते हैं कि अगले तीन सालों में विश्व के किन देशों का कितना प्रतिशत योगदान होगा.

देश

   वैश्विक जीडीपी में योगदान

1. चीन

35.2 %

2. अमेरिका

17.9 %

3. भारत

8.6 %

4. यूरो जोन

7.9 %

5. इण्डोनेशिया

2.5 %

6. दक्षिण कोरिया

2.0 %

7. ऑस्ट्रेलिया

1.8 %

8. कनाडा

1.7%

9. ब्रिटेन

1.6%

10. जापान

1.5 %

11. टर्की

1.2%

12. मैक्सिको

1.2%

13. ब्राज़ील

1.2 %

14. ईरान

1.0 %

15. रूस

1.0 %

भले ही चीन में विकास दर धीमी हो गयी हो लेकिन विश्व बैंक का अनुमान है कि चीन की अर्थव्यवस्था की विकास दर वर्ष 2018 और 2019 दोनों में 6.3% रहेगी. विश्व बैंक के अनुमान के अनुसार 2017 से 2019 की अवधि में चीन वैश्विक जीडीपी में 35.2% का योगदान देगा और इससे देश के आर्थिक उत्पादन में 2.3 खरब डॉलर का उछाल आएगा.
हालांकि यू.एस. को भी वैश्विक जीडीपी का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बनाने की उम्मीद है, लेकिन आने वाले वर्षों में विश्व बैंक ने उनके अनुमानों को लेकर चेतावनी दी है. बैंक का यह भी मानना है कि ट्रम्प प्रशासन द्वारा प्रस्तावित टैक्स में कटौती के चलते अमेरिकी और वैश्विक अर्थव्यवस्था में बहुत वृद्धि हो सकती है.
चीन, भारत, यूरोजोन और यू.एस. का वैश्विक विकास में योगदान किसी को चौकाने वाला तथ्य नही है, लेकिन दुनिया का चौथा सबसे अधिक आबादी वाला देश इंडोनेशिया का विश्व अर्थव्यवस्था में 2.5% का योगदान और 2017-2019 की समयावधि में 5.3% और 5.5% की वृद्धि के साथ देश की अर्थव्यवस्था (आकार 941 बिलियन डॉलर) में 160 अरब डॉलर की वृद्धि सबसे अधिक चौकाने वाला तथ्य है.
ऐसे अन्य देश जो कि 1% या अधिक का वैश्विक जीडीपी में योगदान देंगे उनके नाम हैं:  
दक्षिण कोरिया (2.0%), ऑस्ट्रेलिया (1.8%), कनाडा (1.7%), ब्रिटेन (1.6%), जापान (1.5%), ब्राजील (1.2%), तुर्की (1.2%), मैक्सिको (1.2% ), रूस (1.0%), और ईरान (1.0%).
इस रिपोर्ट में सभी भारतवासियों के लिए खुशखबरी है क्योंकि भारत कई विकसित देशों को पछाड़कर वैश्विक जीडीपी में योगदान करने वाला तीसरा सबसे बड़ा देश बनने जा रहा है.
जानें हर भारतीय के ऊपर कितना विदेशी कर्ज है?