Jagran Josh Logo

आप भी करना चाहते हैं अपनी याददाश्त को मज़बूत तो जाने ये 9 कारगर उपाय

Sep 2, 2016 17:38 IST

    हेल्दी मेमोरी के लिए अपने मस्तिष्क को प्रशिक्षित करें

    कई बार याद करने के बावजूद परीक्षा में आप उत्तर याद नहीं रख पाते!

    पिछले सप्ताह मैंने कौन सी फिल्म देखी थी?

    कृपया आप मुझे माफ करें, मैं आपका नाम भूल गया। नाम याद रखने के मामले में मैं बहुत भुलक्कड़ हूं।

    इस प्रकार हर व्यक्ति अक्सर बातें भूल जाता है। यह एक प्रकार की भावना है। जैसे– जैसे हमारी उम्र बढ़ती है, हमारा मस्तिष्क और याददाश्त उस प्रकार काम नहीं करते जैसे कि किया करते थे। अपने मस्तिष्क की पूरी क्षमता का उपयोग करने के लिए, आपको उसे सक्रीय और प्रखर रखने की जरूरत होती है ।

    यहां हम आपके लिए मस्तिष्क को तेज बनाने वाली कुछ रणनीतियां लाए हैं जो आपको चीजों को बेहतर तरीके से याद रखने और नई चीजों को अधिक तेजी से सीखने में मदद करेंगी। इन टिप्स पर गौर करें–

    1. अपने मस्तिष्क को प्रेरित करें


    व्यायाम सिर्फ शरीर को व्यायाम नहीं कराता बल्कि यह आपके मस्तिष्क को भी व्यायाम करने में मदद करता है। व्यायाम इंसुलीन प्रतिरोध को कम कर, मस्तिष्क कि नई रक्त कोशिकाओं में रक्त का सही संचालन कर मस्तिष्क को लाभ पहुंचाता है। मस्तिष्क की प्लास्टिसिटी पर एक अनुसंधान के अनुसार व्यायाम मस्तिष्क की तंत्रिकाओं में नए न्यूरॉन्स ( मस्तिष्क को संकेत भेजने वाली विशेष कोशिकाएं) को जोड़ने में मदद करता है जिससे सीखने की आदत में सुधार करने में मदद मिलती है। व्यायाम से न्यूरोट्रांसमीटरों का भी  अधिक प्रवाह होता है । न्यूरोट्रांसमीटर मस्तिष्क का एक रसायन होता है जो तंत्रिका कोशिकाओं के बीच संकेतों का प्रसारण करता है। इसलिए अपने मस्तिष्क को चलाने के लिए अपने शरीर को गतिशील रखें। तेज गति से चलना, तैरना और नृत्य करना ये सभी बेहतरीन व्यायाम हैं। शारीरिक तंदुरुस्ति प्रत्यक्ष रूप से हमारे मस्तिष्क को प्रभावित करती है और मस्तिष्क किस प्रकार विकसित होगा और कार्य करेगा, में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

    2. स्वस्थ आहार

    गुणकारी भोजन जैसे आपके पूरे स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है वैसे ही आपके मस्तिष्क के लिए भी अच्छा हो सकता है। आप जो खाना खाते हैं वह आपके याददाश्त को विकसित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। दीर्घकालिक स्मृति के लिए वसा के स्वस्थ मिश्रण वाले भोजन को आहार में शामिल करना महत्वपूर्ण है। कुछ बेहतरीन भोजन विकल्पों में मछली और गहरे हरे रंग की सब्जियां हैं। अनाज और मेवे भी अच्छा पोषण देते हैं और मस्तिष्क की नई कोशिकाओं के उत्पादन गति को बढ़ाकर आपकी याददाश्त की शक्ति में सुधार लाने में मदद करते हैं।

    3. पर्याप्त नींद लें


    रोजाना रात में 7 से 8 घंटों की नींद मस्तिष्क की शक्ति को बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। सोने के दौरान, हाल ही में प्राप्त जानकारी को मस्तिष्क खुद में बैठा लेता है। विशेषज्ञों के अनुसार न्यूरॉन्स के बीच संबंधों को मजबूत बनाने के लिए सोने का समय मस्तिष्क के लिए बेहद महत्वपूर्ण समय होता है। इसलिए यह हमें हमारे ज्यादातर कार्यों को याद रखने में मदद करता है। दिन में झपकी या थोड़े समय की नींद भी आपकी याददाश्त को दुरुस्त करने के साथ– साथ मस्तिष्क को रिचार्ज करने में मदद कर सकती है।

    4. तनाव से दूर रहें

    तनाव, चिंता या अवसाद ये सभी याददाश्त को कम करने, भ्रम और एकाग्रता की कमी में अपना महत्वपूर्ण योगदान देते हैं। तनाव और अवसाद आपके खून में कोर्टिसोल के स्तर को बढ़ा देते हैं। कोर्टिसोल तनाव वाला हार्मोन के तौर पर जाना जाता है और यह मस्तिष्क के कुछ हिस्सों को नष्ट कर देता है, खासकर हिप्पोकैंपस को, जहां मस्तिष्क अल्पकालिक स्मृतियों को संजो कर रखता है। इसलिए लंबे समय तक चलने वाला अवसाद मस्तिष्क के किसी भी नई चीज को याद रखने की क्षमता को नष्ट कर सकता है ऐसी किसी भी चीज से दूर रहने की कोशिश करें जो आपके लिए प्रमुख तनाव या चिंता का कारण बन सकता हो। तनाव को दूर करने की सबसे अच्छी दवा हंसी को माना गया है। हंसी में मस्तिष्क के कई क्षेत्र शामिल होते हैं और इस प्रकार उसका तनाव कम हो जाता है।

    5. ध्यान बहुत जरूरी है


    ध्यान मन को स्थिर करने की प्रक्रिया है। यह गहरी शांति की स्थिति होती है जो तभी प्राप्त होती है जब आपका मन शांत और मौन लेकिन फिर भी सतर्क हो। सदियों से लोग तनाव– उत्प्रेरित विचारों से मुक्ति पाने और गहन शांति की प्राप्ति के लिए ध्यान का माध्यम चुनते आए हैं। ध्यान पर किए गए कई अध्ययन बताते हैं कि यह चेतना का बदला हुआ रूप है जो मस्तिष्क में शीघ्र बदलावों को संकेत देता है, इससे ध्यान अवधि में बढ़ोतरी होती है, ध्यान केंद्रित करने की क्षमता बढ़ती है और याददाश्त में सुधार होता है। यह तनाव और चिंता को दूर करने में भी मददगार होता है। ध्यान हमें नकारात्मक विचारों को सकारात्मक विचारों में बदलना सीखाता है और रचनात्मक विचारों का हमारे भीतर सृजन करता है। इन सभी के परिणामस्वरूप एकाग्रता प्राप्त होती है जिससे याददाश्त में सुधार होता है।

    6. मल्टीटास्किंग से बचें


    जीवन की आपाधापी में हम अक्सर एक ही समय में कई काम करने की कोशिश करते हैं जिससे हमारे द्वारा गलतियां होने की संभावना बढ़ जाती है और साथ ही हम भुलक्कड़ भी हो जाते हैं। उदाहरण के लिए– फोन पर व्यस्तता और सामान उठाने के दौरान आपने अपनी कार की चाबी कहीं रख दी तो इस बात की संभावना अधिक है कि आप यह भूल जाएंगे कि आपने कार की चाबी कहां रखी थी। वास्तव में मस्तिष्क मल्टीटास्किंग नहीं करता। इसके बजाए वह एक चीज से दूसरी चीज पर ध्यान बदलता रहता है, जिससे एक काम पर ध्यान रखना और चीजों को याद रखना उसके लिए मुश्किल हो जाता है। अतः जब आप कई चीजों के साथ जूझ रहे होते हैं, खुद को रोकें और एक समय में एक ही काम पर ध्यान लगाएं।

     IIT JEE- 6 Months Pack. 300+ Online Tests (Apply code"save 10" and get 10% OFF)

    7. लिखें


    चीजों को लिखने की आदत भी उसे याद रखने में आपकी मदद कर सकता है। अध्ययन बताते हैं कि कलम और कागज का इस्तेमाल, न कि लैपटॉप, भी याददाश्त बढ़ाता है और इससे अवधारणाओं को याद रखने और समझने की क्षमता विकसित होती है। अपने दैनिक दिनचर्या की चीजों की सूची बनाएं और उसे अपडेट करते रहें। नई जानकारी को हाथ से लिखना वास्तव में उसे सशक्त बनाता है। लेख लिखना या ब्लॉग पर लिखना जैसी गतिविधियों से भी आपकी याद रखने और जानकारी को फिर से याद करने की क्षमता में सुधार लाने में मदद करेगा।

    8. अपने मस्तिष्क को चुनौती दें


    क्रॉसवर्ड पहेलियों जैसी गतिविधियों में, पढ़ाई कर या प्ले कार्ड में अपने मस्तिष्क को व्यस्त रख कर आप अपने मस्तिष्क को सक्रीय और सतर्क बना सकते हैं। इससे आपके याददाश्त को कमजोर होने से बचाने में भी मदद मिलेगी। यदि आप नई, आश्चर्यजनक जानकारी के साथ अपने मस्तिष्क को पर्याप्त चुनौती नहीं देंगे तो धीरे– धीरे यह कमजोर पड़ने लगेगा। अपने मस्तिष्क को चुनौती देने के लिए आपको अलग– अलग तरीके से काम करना होगा, नई भाषा सीखनी होगी, अखबार उठाना होगा और क्रॉसवर्ड पहेली बनानी होगी। असाधारण गतिविधियों में खुद संलिप्त करें क्योंकि मानसिक रूप से प्रेरित गतिविधियां आपके मस्तिष्क को सही स्थिति में बनाए रखती हैं।

    9. अपनी पूर्व स्मृतियों को याद करें


    हम में से ज्यादातर लोग जब परीक्षा में बैठते हैं, तब उन प्रश्नों के भी उत्तर याद नहीं कर पाते जिन्हें हमने तैयारी के दौरान बहुत अच्छी तरह से याद किए थे। वास्तव में मस्तिष्क में स्मृति को याद करना कंप्यूटर पर डिस्क से फाइल निकालने जैसा नहीं है। मस्तिष्क में स्मृतियां फिर से बनती हैं न कि प्राप्त की जाती हैं। कुछ विशेष घंटों तक पढ़ाई करने के बाद ब्रेक लें और आपने इस अवधि में जो भी पढ़ा है उसे फिर से एकत्र करें। किसी विषय या उत्तर को याद करने के दौरान उससे संबंधित अवधारणा के बारे में सोचें। यह आपके मस्तिष्क में आसानी से उत्तर तैयार करने में मदद करेगा। लेकिन यदि आप कुछ हिस्से याद नहीं कर पा रहे तो तुरंत किताब खोलें और उसी विषय को पढ़ें एवं एक पेज पर लिख कर उसका अभ्यास करें। यह मस्तिष्क में चीजों को गहरा पैठ बनाने में आपकी मदद करेगा।

    हमेशा इस बात का ध्यान रखें कि अगर किसी चीज को आप एक बार पढ़ते हैं, दो बार समझने की कोशश करते हैं और उसे तीन बार लिखते हैं तो वह तथ्य आप अपने जीवन में कभी नहीं भूलेंगे.

    CBSE Class 12th Solved Question Papers PCB - eBook (Apply code"save 25" and get 25% OFF)

    Commented

      Latest Videos

      Register to get FREE updates

        All Fields Mandatory
      • (Ex:9123456789)
      • Please Select Your Interest
      • Please specify

      • By clicking on Submit button, you agree to our terms of use
        ajax-loader
      • A verifcation code has been sent to
        your mobile number

        Please enter the verification code below

      Newsletter Signup
      Follow us on
      This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK
      X

      Register to view Complete PDF