Jagran Josh Logo

जानें 100 दिनों में IAS प्रारंभिक परीक्षा की तैयारी कैसे करें

Mar 14, 2018 15:35 IST
  • Read in English
Civil Services Preliminary Exam 2018
Civil Services Preliminary Exam 2018

हाल ही में, केंद्रीय लोक सेवा आयोग (UPSC) ने सिविल सर्विसेज परीक्षा (CSE) 2018 की अधिसूचना जारी की है तथा आवेदन की प्राप्ति की आखिरी तारीख 6 मार्च 2018 है। IAS प्रारंभिक परीक्षा आयोजित होने के अभी लगभग 100 दिन बाकी है जिसकी तैयारी के लिए जागरणजोश अध्ययन की रणनीति प्रदान कर रहा है। इस लेख में दी गई रणनीति IAS उम्मीदवारों के लिए, 03 जून 2018 को आयोजित की जाने वाली IAS प्रारंभिक परीक्षा के लिए रणनीति बनाने में मदद करेगा।

ये गलतियां आपको IAS बनने से रोक सकती हैं

यहां इस लेख में IAS उम्मीदवारों को यह सलाह दी गई है कि वह आने वाले 100 दिनों में IAS प्रारंभिक परीक्षा को पास करने के लिए किन-किन सुझावों का पालन करें:

एनसीईआरटी (NCERT) पाठ्य पुस्तकों का सार (crux) पढ़ें।

IAS प्रारंभिक परीक्षा को पास करने के लिए राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) द्वारा प्रकाशित पाठ्य-पुस्तकों का अध्ययन अवश्य चाहिए। IAS टॉपर्स हमेशा यह सुझाव देते हैं कि IAS उम्मीदवार IAS की तैयारी की शुरुआत एनसीईआरटी की पाठ्य-पुस्तकों से करें और इन पाठ्य-पुस्तकों को पढ़ने के पश्चात ही अन्य अध्ययन सामग्री पढ़ें। एनसीईआरटी की पुस्तकें IAS उम्मीदवारों को वैचारिक स्पष्टता प्रदान करती हैं जो कि IAS परीक्षा की तैयारी के लिए अहम माना जाता है।

चूंकि, एनसीईआरटी की पाठ्य-पुस्तकों को 100 दिनों के कम समय में सूक्ष्मता से अध्ययन करना कठिन है इसलिए IAS उम्मीदवारों को सलाह दी जाती है कि वह बाजार में उपलब्ध एनसीईआरटी की पाठ्य-पुस्तकों की सार (crux) अवश्य पढ़ें।

जानें कैसे करें IAS परीक्षा की तैयारी बिना पुस्तकों के

पिछले प्रश्नपत्रों का विश्लेषण करें

IAS परीक्षा के पैटर्न को समझने के लिए IAS उम्मीदवार IAS परीक्षा के पिछले वर्षों में पूछे गए प्रश्न-पत्रों का विश्लेषण कर सकते हैं। यह अभ्यास IAS उम्मीदवारों को विभिन्न वर्गों में अंकों के वितरण को समझने तथा IAS परीक्षा के महत्वपूर्ण बिन्दुओं को अच्छी तरह समझने में सहायता करता है। IAS उम्मीदवारों के लाभ हेतु, यहां इस लेख में हमनें IAS परीक्षा के कुछ महत्वपूर्ण बिन्दुओं पर प्रकाश डाला है जो कि IAS परीक्षा में अक्सर पूछा जाता है।

पिछले वर्षों के प्रश्न-पत्रों का विश्लेषण करने के पश्चात, IAS उम्मीदवार IAS परीक्षा के प्रश्न-पत्र के पैटर्न को समझ सकते हैं। यह अभ्यास विभिन्न वर्गों में अंकों के वितरण को समझने और IAS परीक्षा की दृष्टि से महत्वपूर्ण क्षेत्रों की पहचान करने में उम्मीदवारों की सहायता करता है। उम्मीदवारों के लाभ के लिए, हमने कुछ महत्वपूर्ण क्षेत्रों की पहचान की है जिन्हें अक्सर IAS परीक्षा में पुछा जाता है, वो इस प्रकार हैः

भारत का इतिहास और भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन

  • हड़प्पा संस्कृति की विशेषताएं
  • प्राचीन इतिहास के धर्मों का अध्ययन- विशेष रूप से बौद्ध धर्म तथा जैन धर्म के बारे में।
  • मौर्य-काल
  • आधुनिक भारतीय इतिहास- महात्मा गांधी के आगमन के बाद भारतीय स्वतंत्रता संग्राम।
  • सन् 1925 से 1946 के बीच की योजनाएं, समीतियां एवं सम्मेलन
  • कांग्रेस पार्टी के सभी सत्रों का अध्ययन तथा उनके अध्यक्षों और संबंधित महत्वपूर्ण घटनाओं का अध्ययन।
  • जवाहर लाल नेहरू, शाहिद भगत सिंह, चंद्रशेखर आजाद, मोतीलाल नेहरू, बाल गंगाधर तिलक और लाला लाजपत राय की स्वतंत्रता संग्राम में भूमिका।
  • नेहरु रिपोर्ट, गोलमेज सम्मेलन, पूना समझौता और शिमला सम्मेलन।
  • ब्रिटिश शासन के तहत शिक्षा-व्यवस्था।
  • आधुनिक भारत में महिलाओं की सामाजिक स्थिति।
  • राजा राम मोहन रॉय, ईश्वरचंद विद्यासागर और ज्योतिबा फुले की भूमिका

IAS की तैयारी के लिए सबसे बेहतर शहर

भारतीय और विश्व भूगोल

  • भारत में मानसून से संबंधित अवधारणा (बहुत महत्वपूर्ण है)
  • भारत के विभिन्न भागों में जलवायु के प्रकार
  • विभिन्न प्रकार की मिट्टी और जलवायु के आधार पर फसलों की प्रकार
  • भारत के जल-विभाजन
  • प्रमुख नदियों-किनारे स्थित शहरें
  • राष्ट्रीय राजमार्ग
  • राष्ट्रीय जलमार्ग

भारतीय राजव्यवस्था

  • केंद्रीय कार्यकारिणी
  • राज्य कार्यकारी
  • सुप्रीम कोर्ट
  • उच्च न्यायालय
  • मौलिक अधिकार
  • मौलिक कर्तव्य
  • संसदीय कार्यवाही
  • रिट्स के प्रकार
  • बिलों के प्रकार
  • संघ और राज्य में संबंध
  • आपातकालीन के प्रावधान

पर्यावरण और पारिस्थितिकी

  • पर्यावरण और पारिस्थितिकी से संबंधित बुनियादी अवधारणाएं
  • पिछले 25 वर्षों में संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन और पर्यावरण से संबंधित समझौते
  • महत्वपूर्ण संरक्षित क्षेत्रों का अध्ययन

IAS बनने की प्रेरक कहानियाँ

अभ्यास परीक्षण (प्रेक्टिस टेस्ट)

IAS उम्मीदवारों के लिए महत्वपूर्ण सुझाव यह है कि हर विषयों पर आधारित अभ्यास अवश्य करें तथा मोक-टेस्ट के माध्यम सें अपनी तैयारी का परीक्षण अवश्य करें। IAS उम्मीदवारों द्वारा यह प्रयास उन्हें उनके कमजोर और मजबूत क्षेत्रों की पहचान करने में सहायता प्रदान करेगा। कमजोर क्षेत्रों की पहचान करने के बाद उन क्षेत्रों को सुधारने हेतु नीचे दिए गए सुझाव के अनुसार निम्नलिखित अध्ययन सामग्रियों को अवश्य पढ़ेंः

आवश्यक किताबें

भारत का इतिहास और भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन

  • राजीव आहिर (स्पेक्ट्रम प्रकाशन) द्वारा आधुनिक भारत का संक्षिप्त इतिहास
  • बिपिन चंद्रा द्वारा आधुनिक भारत का इतिहास
  • नितिन सिंघानिया द्वारा भारतीय कला और संस्कृति

भारतीय और विश्व भूगोल

  • गोह चेंग लेओंग द्वारा भौतिक और मानव भूगोल
  •  माजिद हुसैन द्वारा भारत की भूगोल

भारतीय राजव्यवस्था और प्रशासन

  • लक्ष्मीकांत द्वारा भारतीय राजनीति
  • डी डी बासु द्वारा भारत के संविधान का परिचय

आर्थिक और सामाजिक विकास

  • रमेश सिंह द्वारा भारतीय अर्थव्यवस्था
  • मिश्रा और पुरी द्वारा भारतीय अर्थव्यवस्था

पर्यावरण और पारिस्थितिकी

  • शंकर आईएएस अकादमी द्वारा पर्यावरण

उपरोक्त पुस्तकों के अलावा, निम्नलिखित सरकारी संस्था द्वारा-प्रकाषित पत्रिकाए IAS परीक्षा के लिए सहायक हैः

  • इंडिया ईयर बुक
  • केंद्रीय बजट 2018-19
  • आर्थिक सर्वेक्षण 2017-18
  • नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ ओपन स्कूल (एनआईओएस) द्वारा प्रकाशित पुस्तकें
  • योजना और कुरुक्षेत्र पत्रिकाएं

जानें, आईएएस और पीसीएस में क्या अंतर है?

दैनिक समाचार पत्रों को रोजाना अवश्य पढ़ें

करेंट अफेयर्स IAS परीक्षा का एक अभिन्न अंग है जिसके लिए रोजाना समाचार पत्र पढ़ना IAS परीक्षा की तैयारी की दृष्टि से महत्वपूर्ण समझा जाता है। IAS उम्मीदवारों को यह सुझाव दिया जाता है कि रोजाना वह कम-से-कम एक अख़बार अवश्य पढ़ें तथा दैनिक अखबारों में दि हिंदू अखबार IAS परीक्षा की तैयारी के लिए सर्वश्रेष्ठ मान जाता है। IAS उम्मीदवारों को अखबार पढ़ने के पश्चात महत्वपूर्ण घटनाओं पर नोट्स भी अवश्य बनाना चाहिए।

रिविजन

दैनिक आधार पर किए गए अध्ययन को दोहराना बहुत ही आवश्यक है जिसके लिए पूरे सप्ताह में एक दिन का पूरा समय अवश्य आवंटित करना चाहिए। यदि आप महीनों पहले पढ़े विषय एवं टॉपिक को दोहराते नहीं हैं, तो उस विषय को भूलने की संभावनाएं बनी रहती है। मार्च के महीने में, IAS उम्मीदवारों का ध्यान विभिन्न विषयों के पढ़ने के अलावा उसे दोहराने पर केन्द्रित होना चाहिए, अप्रैल और मई के महिने में, IAS उम्मीदवारों को विषयों को दोहराने के साथ-साथ अभ्यास पर भी अवश्य ध्यान देना चाहिए।

जागरण जोश की ओर से शुभकामनाएं!

IAS उम्मीदवारों के लिए शीर्ष 10 प्रेरणादायक Quotes

Latest Videos

Register to get FREE updates

    All Fields Mandatory
  • (Ex:9123456789)
  • Please Select Your Interest
  • Please specify

  • By clicking on Submit button, you agree to our terms of use
    ajax-loader
  • A verifcation code has been sent to
    your mobile number

    Please enter the verification code below

Newsletter Signup
Follow us on
X

Register to view Complete PDF