स्ट्रेस बस्टर: कॉलेज छात्र ये टिप्स अपनाकर रहें हमेशा टेंशन फ्री

कॉलेज के छात्र जब अपनी एकेडमिक और सोशल लाइफ में सामंजस्य लाने की कोशिश करते हैं, उस समय इन छात्रों को स्वाभाविक रूप से तनाव रहता है. इस आर्टिकल में हम कॉलेज के छात्रों के लिए हमेशा टेंशन फ्री रहने के कुछ टिप्स दे रहे हैं.

Some stress busters for college students
Some stress busters for college students

टेंशन से किसी का भी भला नहीं होता, लेकिन प्रत्येक कॉलेज के अधिकतर छात्र परीक्षा में बेहतर प्रदर्शन का दबाव, भविष्य के बारे में अनिश्चितता और असीमित उम्मीदों के कारण अक्सर काफी तनाव महसूस करने लगते हैं. इसलिए कॉलेज लाइफ को टेंशन फ्री रखने के लिए कॉलेज के छात्रों को इस आर्टिकल में दिए जा रहे महत्त्वपूर्ण टिप्स को जरुर फ़ॉलो करना चाहिए ताकि वे अपने जीवन में हमेशा ही आत्मविश्वास के साथ आगे बढ़ें और अपने जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में कामयाबी हासिल करें. इस आर्टिकल में हम कॉलेज में पढ़ने वाले सभी छात्रों के लिए टेंशन फ्री रहने के कुछ असरदार टिप्स की जानकारी पेश कर रहे हैं जिन्हें अपनाकर कॉलेज छात्र हमेशा प्रसन्न और तनाव मुक्त/ टेंशन फ्री रह सकते हैं. इस आर्टिकल को आगे पढ़कर जानिये आपको टेंशन फ्री रखने वाले कौन से हैं वे कारगर टिप्स:

टेंशन के समय दस मिनट वाली ट्रिक आजमायें

आपने लोगों को यह कहते हुए अवश्य  सुना होगा कि जब आप बहुत ज्यादा टेंशन में हो तो सबकुछ छोड़कर आपको बिलकुल शांत हो जाना चाहिए और लम्बी गहरी साँस लेनी चाहिए. हाँ यह बिलकुल सही है. लम्बी साँस लेने की यह दस मिनट की तकनीक न सिर्फ आपको राहत देती है बल्कि आपके दिमाग में एक साथ उठ रहे अनगिनत विचारों पर भी थोड़ी देर के लिए रोक लगाकर आपको नए सिरे से सोचने की क्षमता  प्रदान करती है.

अपने तनाव का कारण जानने का करें प्रयास

जब भी आप टेंशन में होते हैं उसके कारण को जानने की कोशिश करें. उन समस्याओं के बारे में सोचें जिनसे आप गुजर रहे हैं. इनका भविष्य में अगले पांच साल तक आप पर क्या प्रभाव होगा ? इस बात पर भी ध्यान दें. अगर आपका मन उस विषय में सोचने का नहीं भी कर रहा है तो भी आप जिस समय उस टेंशन से गुजर रहे हैं उसका वर्तमान और भविष्य के परिप्रेक्ष्य आप पर क्या प्रभाव होगा ? अपने आप से प्रश्न पूछिए और सही उत्तर दे कर अपने आप को संतुष्ट कीजिये. ऐसी कौन सी चीज है जो आपको परेशान कर रही है. परीक्षा, आपके साथी, दोनों समान रूप से आपको परेशान कर रहे हैं. यदि वास्तव में ऐसा है तो इस समस्या का समाधान तलाशिए और परिस्थिति को अपने अनुकूल बनाने का प्रयास कीजिये.

अपने दोस्तों और हितेषियों के संपर्क में रहें  

कभी कभी आपको अपने जीवन में एक ऐसे शख्स की आवश्यक्ता होती है जिससे आप अपने मन की बात कर सके, अपनी समस्याओं को शेयर कर सकें. वो व्यक्ति कोई भी हो सकता है, आपके मित्र, माता पिता सहयोगी आदि. उन्हें कॉल करें, उनसे अपनी समस्याएं बताएं,हो सके तो उसका समाधान भी पूछे, कुछ न कुछ रास्ता अवश्य निकलेगा. संयोगवश अगर अपने माता पिता के किसी सोंच, विचार या आचरण वश आपको परेशानी हो रही हो तो इसे अपने किसी विश्वसनीय और समझदार साथी से कहें, उसका उचित और नैतिक समाधान ढूंढने की कोशिश करें. आप कभी कभी पुस्तकालय में जाकर कुछ रुचिकर साहित्य का अध्ययन कर या फिर आपको जो कुछ भी देखना अच्छा लगता हो उसे देखकर आनन्दित होते हुए तनाव मुक्त हो सकते हैं.

‘मी’ टाइम अर्थात खुद को दें रोज़ कुछ समय

लोगों से मिलना जुलना, उनके विचारों को जानना तथा अपने विचारों को उनके साथ साझा करना एक अच्छी बात है लेकिन अपने व्यक्तित्व के सम्पूर्ण विकास हेतु आपको अपने ऊपर भी ध्यान देना चाहिए. अपने आप के साथ कुछ समय बिताइए. टहलने के लिए कहीं बहार जाइये, अपने आप को शांत रखने के लिए प्रकृति का आनन्द उठाते हुए अपने अंतर्मन से बाते करें. कभी कभी अपनी क्षमता से अधिक कार्य करना, जरुरत से अधिक की इच्छा रखना तथा बहुत महत्वाकांक्षी होने के कारण आपके दिमाग में भिन्न भिन्न विचारों के सृजन से आपको बेचैनी महसूस होती है. अपने आप को शांत रखें और अपना काम ईमानदारी पूर्वक करते हुए इन विचारों को अपने ऊपर हावी नहीं होने दें.

अपने स्वास्थ्य का रखें पूरा ख्याल  

कॉलेज जाने वाले छात्र अपनी पर्सनालिटी को लेकर सजग तो रहते हैं लेकिन अपने स्वास्थ्य पर पूरा ध्यान नहीं देते. जल्दबाजी में नाश्ता नहीं करना, फास्टफूड और जंक फूड का ज्यादा इस्तेमाल करना आदि उनके आदत में शुमार होता है.ध्यान रखिये स्वस्थ्य शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क का विकास होता है. आपकी शारीरिक गतिविधि और शारीरिक स्वस्थ्य आपके मानसिक गतिविधि और मानसिक स्वस्थ्य को पूरी तरह प्रभावित करता है. सुबह के समय जिम जाएं या फिर मॉर्निंग वाक पर जाएं ताकि आपके फेफेड़े को शुद्ध ऑक्सीजन मिल सके. शारीरिक गतिविधियों की आवश्यक्ता वाले खेलों में भी भाग ले. अगर आप नियमित रूप से ऐसा करते हैं तो आप स्वस्थ्य रहने के अलावा अपने आप में एक नयी स्फूर्ति का एहसास करेंगे. इससे आपका तनाव भी दूर होगा. तनाव को दूर करने के प्राचीन तरीके जैसे योग आदि का भी आप सहारा ले सकते हैं. दलिया, फल, सब्जियां,दही,मांस बादाम,दूध और अंडे जैसी चीजों का सेवन करें इससे आपके शरीर के प्रोटीन की कमी दूर होगी तथा आप चुस्त दुरुस्त बने रहेंगे. अगर आपको नींद नहीं आती है, तो केला, दूध या टर्की जैसी चीजों का सेवन करें. ये ट्रिप्टोफैन के स्रोत हैं और न्यूरोट्रांसमीटर सेरोटोनिन के लिए एक बिल्डिंग ब्लॉक  का काम करते हैं. मेलाटोनिन और कैमोमाइल की चाय सदियों से तनाव से राहत पहुँचाने वाली पेय पदार्थ के रूप में प्रयोग की जाती है. तनाव की स्थिति और सही नींद के लिए कभी कभी आप इस पेय पदार्थ का सेवन कर सकते हैं. 

अपने लक्ष्य हासिल करने की कोशिश लगातार करते रहें

कॉलेज में पढ़ने के जरिये आपका मुख्य लक्ष्य एक अच्छी नौकरी पाना ,व्यवसाय करना या फिर अपने करियर को समृद्ध बनाना होता है. अतः इन दिनों से ही इस विषय में सोचना शुरू करें.इसके लिए योजना बनाएं तथा योजना के अनुरूप सही दिशा में प्रयास करें.गौर कीजिये अगर योजना के अनुरूप कार्य करने में परेशानी हो रही है तो घबराएँ नहीं और ना ही टेंशन लें.शांत चित्त होकर स्थिर रूप से उसका समाधान निकालें. इसके अतरिक्त पैसे और शिक्षा के अतिरिक्त भी अगर आपका कोई पैशन है तो अपने शिक्षकों और अभिभावकों से उस पर खुलकर बात चित करें.

कभी कभी करें सैर-सपाटा

नए चीजों को सीखने तथा जानने के लिए कभी कभी यात्रा का प्लान करें. पैसों की बचत के लिहाज से आप अपने मित्रों के साथ आउट ऑफ स्टेशन जाने का प्लान करें. इससे आपको जीवन में एक अलग अनुभव प्राप्त होगा. आप भिन्न भिन्न प्रान्त के अलग अलग प्रकृति के लोगों से मिलेंगे जो आपको जीवन के बारे में बहुत कुछ सिखाएंगे. यात्रा के दौरान जब आप प्रकृति को बहुत नजदीक से देखते हैं तो आपको यह पता चलता है कि इतने बड़े ब्रह्मांड में आपकी समस्या तो बहुत छोटी है जिसे आपने कल्पनावश बहुत बड़ा बना रखा है.

जीयें अपने वर्तमान में

बेहतर होगा आप अतीत और भविष्य के विषय में सोचना छोड़कर जो आपके साथ अभी हो रहा है उस पर ध्यान दें. अतीत बीत चूका है हम चाहकर भी उसे बदल नहीं सकते, हाँ कुछ सीख जरुर ले सकते हैं. भविष्य अंजान है और पूरी तरह हमारे आज के कर्मों पर निर्भर है. अतः अपने वर्तमान पर ध्यान देते हुए स्थिर रूप से अपने लक्षित गंतव्य की ओर आगे बढ़ते रहिये.  सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि आप की अपनी खुशी से ज्यादा महत्वपूर्ण कुछ भी नहीं है. अतः दूसरों को खुश रखने के क्रम में अपने प्रकृति से छेड़छाड़ कत्तई नहीं करें. दूसरों के विचारों में फिट होने की कोशिश में अपने आप को कृत्रिम न बनाएं. आप अपने स्वाभाविक गति से आगे बढ़ें.ऐसा विश्वास रखें समय के साथ सब कुछ ठीक हो जायेगा.

जॉब, इंटरव्यू, करियर, कॉलेज, एजुकेशनल इंस्टीट्यूट्स, एकेडेमिक और पेशेवर कोर्सेज के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने और लेटेस्ट आर्टिकल पढ़ने के लिए आप हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर विजिट कर सकते हैं.

अन्य महत्त्वपूर्ण लिंक

कॉलेज स्टडीज़ के दौरान ये टिप्स फ़ॉलो करना है बहुत जरुरी

कॉलेज स्टूडेंट्स ये तरीके अपनाकर रह सकते हैं स्ट्रेस फ्री

ये हैं स्ट्रेस मैनेजमेंट की ऐसी प्रभावहीन टेक्निक्स जो बढ़ा देती हैं आपका स्ट्रेस लेवल

Related Categories

Jagran Play
खेलें हर किस्म के रोमांच से भरपूर गेम्स सिर्फ़ जागरण प्ले पर
Jagran PlayJagran PlayJagran PlayJagran Play

Related Stories