Jagran Josh Logo

IAS टॉपर्स द्वारा सुझाई गई किताबें

Feb 8, 2018 10:49 IST
  • Read in English
Best Books for IAS Preparation given by IAS Toppers
Best Books for IAS Preparation given by IAS Toppers

IAS की प्रारंभिक परीक्षा पास करने के लिए UPSC IAS टॉपर्स ने क्या पढ़ा है? UPSC सिविल सर्विसेज की प्रीलिम्स में सफल होने के लिए सबसे अच्छी किताबें कौन सी हैं? ये सभी सवाल एक IAS उम्मीदवार के मन में अक्सर उठते रहते हैं. इनका जवाब पाने का सबसे अच्छा तरीका है IAS परीक्षा जैसी सबसे कठिन परीक्षा में सफल हो चुके रोल मॉडल के नक्शे कदम पर चलना.

17 ऐसी वेबसाइट जो आपके IAS बनने के सपने को कर सकती हैं साकार

IAS प्रीलिम्स UPSC परीक्षा का पहला और सबसे महत्वपूर्ण चरण होता है और ज्यादातर उम्मीदवार इसी चरण में बाहर हो जाते हैं. इसलिए, IAS प्रीलिम्स की तैयारी के लिए अतिरिक्त कड़ी मेहनत करने की जरूरत है, कभी– कभी छात्र कुछ महीनों तक पूरी तरह से समर्पित होकर IAS प्रीलिम्स की तैयारी करते हैं.

IAS बनने की इच्छा रखने वाले प्रत्याशियों के लिए अक्सर IAS टॉपर्स रोल मॉडल माने जाते हैं l ऐसी स्थिति में IAS टॉपर्स द्वारा पढ़ी गई किताबों, स्रोतों और अध्ययन सामग्रियों से खुद को लैस करना बेहद जरुरी हो जाता है. आमतौर पर यह देखा गया है कि सही जानकारी और मार्गदर्शन के अभाव में IAS उम्मीदवार गलत पठन सामग्री को पढ़ने में अपना वक्त बर्बाद कर देते हैं जो IAS की तैयारी में बिल्कुल काम नहीं आएगा.

IAS Exam में हर वर्ष पूछे जाने वाले 10 सर्वाधिक महत्वपूर्ण टापिक्स

यहां हम सिविल सर्विसेज की प्रारंभिक परीक्षा (प्रीलिम्स एग्जामीनेशन) के लिए IAS टॉपर्स द्वारा सुझाई गई सबसे महत्वपूर्ण किताबों की सूची आपसे साझा कर रहे हैं. यहां हम आपको UPSC  प्रिलिम्स 2017 के लिए अनिवार्य रूप से पढ़ी जाने वाली सभी किताबों की सूची दे रहे हैं.  यह आपकी तैयारी को सशक्त बनाएंगें और यूपीएससी आईएएस परीक्षा 2017 में सफल होने में भी आपकी मदद करेंगें.

IAS प्रीलिम्स के लिए सबसे अच्छी किताबें :

आरएस शर्मा (पुरानी एनसीईआरटी) का ‘प्राचीन भारत (एंसीएंट इंडिया– Ancient India)’  यूपीएससी आईएएस प्रिलिम्स के सिलेबस को अच्छे से कवर करता है और आपको कई प्रश्न ऐसे मिल जाएंगें जो सीधे– सीधे इस किताब से पूछे गए हों.

सतीश चंद्र (पुरानी एनसीईआरटी) की मध्ययुगीन भारत का इतिहास मध्ययुगीन इतिहास खंड में अधिक प्रासंगिक किताब है क्योंकि इसमें भारत के मध्ययुगीन इतिहास के विषयों को अच्छी तरह से बताया गया है.

स्पेक्ट्रम पब्लिकेशन के ‘A brief history of modern India’ के साथ– साथ सुजाता मेनन की ‘Concise history of modern India’ किताब में आईएएस प्रीलिम्स परीक्षा के लिए आधुनिक इतिहास के पाठ्यक्रम की अच्छी कवरेज है.

• भारतीय संस्कृति खंड के लिए प्रत्याशियों को स्पेक्ट्रम पब्लिकेशन की ‘facets of Indian culture’ पढ़नी चाहिए. इसके अलावा उन्हें सांस्कृतिक संसाधन एवं प्रशिक्षण केंद्र की वेबसाइट को भी देखना चाहिए.

सांस्कृतिक संसाधन और प्रशिक्षण केंद्र की वेबसाइट से भारतीय संस्कृति :  देश में जारी कुछ सांस्कृतिक गतिविधियों और मुद्दों से अपने नोट्स को अपडेट करने और उसी अनुसार तैयारी करने में यह मददगार होता है.

भारतीय भूगोल की तैयारी के लिए एनसीईआरटी की पुरानी किताबें सबसे अधिक पसंद की जाती है. भौतिक भूगोल के लिए गोह चेंग लीऑन्ग की ‘certificate physical and human geography’ अधिक अच्छा विकल्प है. भौतिक भूगोल का अध्ययन करने के दौरान छात्रों को ऑक्सफोर्ड स्कूल के एटल्स को जरूर देखना चाहिए.

 IAS की तैयारी करने से पहले 5 बातें जिन पर गौर करना है बेहद जरूरी

• भारतीय राजनीति की तैयारी के लिए जिन किताबों को पढ़ने की सबसे अधिक सलाह दी जाती है उनमें हैं लक्ष्मीकांत द्वारा रचित ‘Indian polity’ और डी.डी.बासु की 'an introduction to the constitution of India' . भारतीय राजनीति पर उपरोक्त मानक किताबों के साथ इस विषय की तैयारी के लिए आईएएस प्रत्याशियों को भारतीय राजनीति पर पुराने एनसीईआरटी की किताबों को जरूर पढ़ना चाहिए.

• अर्थशास्त्र के मूल सिद्धांतों और शब्दावलियों के लिए, आईएएस की तैयारी के लिए एनसीईआरटी की किताबें काफी हैं. कक्षा 12वीं की पाठ्यपुस्तक से मैक्रोइकोनॉमिक्स की पढ़ाई करना अनिवार्य है क्योंकि इसमें भारतीय अर्थव्यवस्था की मूल शब्दावलियां दी गई हैं जो देश के वृद्धि और विकास को समझने में काफी मदद करती हैं.

• भारतीय अर्थव्यवस्था पर और पढ़ने के लिए सबसे अनुशंसित किताबें हैं रमेश सिंह की ‘Indian Economy’, मिश्रा और पुरी की ‘Indian Economy’ और Economic Survey (इकोनॉमिक सर्वे) आदि .

• पर्यावरण एवं पारिस्थितिकी खंड की तैयारी के लिए आईएएस के प्रत्याशियों को एनआईओएस द्वारा पर्यावरण एवं पारिस्थितिकी तंत्र पर दी जाने वाली अध्ययन सामग्रियों को जरूर पढ़ना चाहिए. इसके अलावा उन्हें पर्यावरण एवं वन मंत्रालय, भारत सरकार और संयुक्त राष्ट्र के यूएनएफसीसीसी के विकास परियोजनाओं के बारे में जानकारी रखनी चाहिए.   .

विश्लेषणात्मक तर्कशास्त्र (analytical reasoning) खंड में ज्यादतर उम्मीदवार आरएस अग्रवाल की किताब को पसंद करते हैं लेकिन वे एमके पांडे की  Analytical Reasoning से भी मदद ले सकते हैं. आरएस अग्रवाल में विभिन्न विषयों पर अच्छी कवरेज है लेकिन कंप्रिहेंशन के मामल में एमके पांडे के विश्लेषण और व्याख्या कहीं अधिक एडवांस और अच्छी है.

• गणित की तैयारी के लिए एस चांद पब्लिकेशन की आरएस अग्रवाल काफी है. इस किताब में आईएएस के सिलेबस की व्यापक कवरेज है और इसे पढ़ने के बाद किसी और किताब को अलग से पढ़ने की जरूरत नहीं है.

• करेंट अफेयर्स के लिए द हिन्दू अखबार, पत्रिकाएं और डिजिटल मीडिया के अन्य प्लेटफॉर्म पर जाकर खबरें पढ़ने की सबसे अधिक सिफारिश की जाती है.

एमएचई (सीसैट) की जेनरल स्टडीज पेपर 2 मैनुअल : यह किताब परीक्षा के निर्धारित सिलेबस पर आधारित है. इसकी विषयवस्तु सिलेबस के अनुसार है. विषयवस्तु को निर्धारित सिलेबस के आधार पर सात व्यापक खंडों में बांटा गया है. सभी खंडों में अलग– अलग मात्रा में अभ्यास हेतु प्रश्न दिए गए हैं जो परीक्षा के लिहाज से अच्छे हैं.

इंजीनियरिंग कॉलेज में पढ़ते हुए IAS की तैयारी कैसे करें?

Importance of Ncerts in Ias

IAS Main (IAS की मुख्य परीक्षा):

जनरल स्टडीज IAS मेन्स पेपर -1

आर.एस. शर्मा का प्राचीन इतिहास (पुराना एनसीईआरटी): इस किताब में समय काल और राजवंशों की व्यापक कवरेज दी गई है लेकिन प्रत्येक अध्याय का सिर्फ सामाजिक– सांस्कृतिक और धार्मिक दृष्टिकोण ही महत्वपूर्ण है और इसे अलग से नोट किया जाना चाहिए.  

नितिन सिंघानिया की कला एवं संस्कृति : यह किताब प्रिलिम्स के साथ– साथ मेन्स के लिए भी मायने रखती है. इस पूरी किताब को कम– से– कम एक बार पूरा पढ़ने की सलाह दी जाती है क्योंकि इसे परीक्षा को ध्यान में रखते हुए बेहद सरल शब्दों में लिखा गया है.

बिपिन चंद्रा का आधुनिक इतिहास ( The modern history) ( पुराना एनसीईआरटी): एनसीईआरटी की यह किताब आधुनिक काल के आरंभ और संघर्ष के वर्षों का संक्षिप्त परिचय प्रदान करती है. परीक्षा के दृष्टिकोण से किताब को अच्छी तरह से पढ़ने से विषयों का सार तैयार करने में मदद मिलेगी.

राजीव अहीर की The spectrum of modern India: यह किताब प्रत्येक उम्मीदवार के लिए पढ़ना अनिवार्य है क्योंकि यह किताब प्रिलिम्स के साथ– साथ मेन्स के लिए भी बहुत उपयोगी है. खासकर, स्वतंत्रता संग्राम के लिए आधुनिक इतिहास पर लिखे गए अध्याय बेहतरीन हैं. (1857-1947).

पॉलिटिक्स इन इंडिया सिंस इंडिपेंडेंस ( Politics in India since Independence– NCERT): भारत में आजादी के बाद राजनीतिक विकास पर यह एनसीईआरटी की नई किताब है. इसमें प्रशासनिक एवं राजनीतिक बदलाव जैसे आपातकाल, पंजाब संकट और स्वतंत्रता के बाद भारत ने जितने भी युद्ध लड़े हैं, के बारे में लिखा गया है.

बिपिन चंद्रा की India since Independence (पुराना एनसीईआरटी): यह बहुत बड़ी किताब है और इस किताब से स्वतंत्रता के बाद सामाजिक एवं आर्थिक समेकन पर और संविधान निर्माण, प्रिंस्ले स्टेट के समेकन और सामाजिक बदलावों पर लिखे कुछ अध्यायों से नोट्स तैयार करने की सलाह दी जाती है.

अर्जुन देव की World History (पुराना एनसीईआरटी): कक्षा 12वीं की एनसीईआरटी की इस किताब में भारत को प्रभावित करने वाला विश्व इतिहास, विश्व युद्धों से लेकर शीत युद्ध काल तक, के सभी विषयों पर विस्तार से लिखा गया है.

Fundamentals of Physical Geography (एनसीईआरटी): भौगोलिक  घटनाओं और जैसा कि पाठ्यक्रम में लिखा है, विश्व के भौतिक भूगोल की विशिष्टाताओं जैसी कुछ विशेष विषयों की तैयारी के लिए यह बेहद बुनियादी किताब है.

Fundamentals of Human Geography (एनसीईआरटी): इस किताब में भूगर्भीय गतिविधियों के आधार पर विश्व के अलग– अलग स्थानों पर प्राथमिक, द्वितीयक और तृतियक गतिविधियों पर विशेष अध्याय हैं, जो परीक्षा के लिए बहुत महत्वपूर्ण है.

India: Physical Environment (एनसीईआरटी): भारतीय भौतिक भौगोलिक विशेषताओं और पारिस्थितिकीय अंतःक्रिया की मूल बातों की तैयारी इस किताब से आसानी से की जा सकती है. इसमें भारतीय जलवायु और समग्र रूप में वनस्पति जैसे विषय को कवर किया गया है, जो इसे समझने में आसान बनाता है.

India People and Economy (एनसीईआरटी): इस किताब में भारतीय भौतिक पर्यावरण किस प्रकार मानवीय गतिविधियों को प्रभावित करता है और अपने प्राथमिक संसाधनों पर निर्भर करना  किस प्रकार हमारी अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों में विकास ला रहा है, जैसे विषयों को कवर किया गया है. 

Indian Society (एनसीईआरटी): एनसीईआरटी की इस किताब से भारतीय समाज का उद्भव और भारतीय समाज के विकास को प्रभावित करने वाले  विभिन्न वर्गों के बारे में आसानी से तैयारी की जा सकती है. यह किताब आपको भारतीय समाज के प्रथाओं और प्रवृत्तियों के अस्तित्व पर विकासवादी दृष्टिकोण प्रदान करेगी.

Social Change and Development in India (एनसीईआरटी): वैश्वीकरण, भारतीय परिवार बोध और महिला संगठन जैसे प्रासंगिक विषयों की तैयारी इस किताब से की जा सकती है. यह आपको देश के विकास में सामाजिक मुद्दों के प्रभाव पर प्रगतिशील दृष्टिकोण देगा.

IAS बनने की प्रेरक कहानियाँ

जनरल स्टडीज IAS मेन्स पेपर 2

Indian Constitution at Work (एनसीईआरटी): विज्ञान पृष्ठभूमि वाले छात्रों को, जिनके लिए भारतीय राजनीति और आम तौर पर यह कैसे काम करती है, को समझने के लिए इस किताब को जरूर पढ़ना चाहिए.

लक्ष्मीकांत की Indian Polity: आईएएस के प्रिलिम्स के साथ– साथ मेन्स परीक्षा की तैयारी के लिए शायद भारतीय राजनीति का सबसे महत्वपूर्ण स्रोत है . इसमें प्रसिद्ध न्यायिक मामलों के उदाहरण के साथ भारतीय संवैधानिक तंत्र पर विस्तृत ब्यौरा दिया गया है. किसी भी जारी घटना के स्थिर हिस्से की तैयारी इस किताब से की जा सकती है. इस किताब को शुरु से अंत तक पढ़ें औऱ जहां तक संभव हो सके बातों को याद करने की कोशिश करें. मुख्य परीक्षा के लिए सभी परंपरागत विषयों की तैयारी इस किताब से की जा सकती है.

डी.डी. बासु की Introduction to the Constitution of India: भारतीय संविधान का निर्माण, प्रस्तावना और मौलिक अधिकार जैसे विषयों की तैयारी के लिए इस किताब की सिफारिश सबसे अधिक की जाती है. वजह है संवैधानिक व्याख्या की दिशा में इस किताब का अनूठा दृष्टिकोण.

लक्ष्मीकांत की Governance in India: लोकतंत्र में सिविल सेवकों की भूमिका, प्रशासन में पारदर्शिता और समाज में ई–गवर्नेंस जैसे विषयों की तैयारी इस किताब से की जा सकती है. यह प्रशासनिक सुधारों पर विस्तृत राय भी प्रदान करता है.

इंडिया ईयर बुकः भारत सरकार द्वारा शुरु की गईं नई योजनाओं पर नोट्स तैयार करने के लिए कल्याण योजनाओं, शिक्षा, स्वास्थ्य और गैर–सरकारी संगठनों पर कुछ खास अध्याय ही इस किताब से पढ़े जा सकते हैं.

Contemporary World Politics (एनसीईआरटी): आजादी के बाद भारतीय विदेश नीति की मूल बातों को समझने के लिए एनसीईआरटी का यह किताब अच्छा स्रोत है. अंतरराष्ट्रीय राजनीति में भारत के रवैये का अंदाजा लगाने के लिए इसे एक ही बैठक में पढ़ लिया जाना चाहिए..

शशि थरूर की Pax Indica: यह एक संदर्भ पुस्तक है और संयुक्त राष्ट्र एवं अन्य प्रासंगिक अंतरराष्ट्रीय मंच पर भारत के रूख को समझने के लिए इसे जरूर पढ़ना चाहिए.

UPSC की तैयारी में खर्चे

जनरल स्टडीज IAS मेन्स पेपर 3:

11वीं और 12वीं कक्षा की एनसीईआरटी की Indian Economy: जैसा कि हमने आईएएस प्रिलिम्स के जनरल स्टडीज पेपर । के लिए किताबों का सुझाव दिया है, आर्थशास्त्र की बुनियादी समझ के लिए भी एनसीईआरटी की उन्हीं किताबों को पढ़ा जाएगा.

रमेश सिंह की Indian Economy for Civil Services Exam: एनसीईआरटी की किताबों से मूल आधार बना लेने क बाद, अगले स्तर की तैयारी इस किताब से शुरु की जा सकती है. इसमें यूपीएससी की तैयारी के लिए सिलेबस के सभी प्रासंगिक विषयों को विशेष रूप से दिया गया है.

उमा कपिला की Indian Economy: आजादी के बाद से भारतीय अर्थव्यवस्था के बारे में पढ़ने के लिए यह उत्कृष्ट स्रोत है क्योंकि इसमें योजना युग के आरंभिक चरणों में किए गए आर्थिक सुधारों के ज्वलंत मुद्दे दिए गए हैं.

आर्थिक सर्वे और राजकोषीय बजट ( Economic Survey and Fiscal Budget): बीते वर्ष के प्रश्नपत्रों को देखने से यह पता चला है कि कुछ प्रश्न सीधे– सीधे वार्षिक वित्तीय कथन से पूछे जाते हैं. इसलिए, आर्थिक सर्वे और बजट की मुख्य विशेषताओं को जरूर पढ़ना चाहिए. लेकिन इस मामले में प्रत्याशियों  को बेहद चयनात्मक होना चाहिए क्योंकि ये संसाधान बहुत बड़े एवं समझने में जटिल होते हैं.

India People and Economy (एनसीईआरटी):  इस किताब में भारतीय भौतिक पर्यावरण किस प्रकार मानवीय गतिविधियों को प्रभावित करती है और कैसे हमारे प्राथमिक संसाधनों पर निर्भरता हमारी अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों में विकास की वजह बन रही है, जैसे विषयों को कवर किया गया है. इसमें भारतीय कृषि और परंपराओं को समग्र रूप से कवर किया गया है जिससे इसे समझने में आसानी होती है.

आपदा प्रबंधन पर एआरसी रिपोर्टः यह रिपोर्ट भारत के आपदा या संकट प्रबंधन की वर्तमान स्थिति को समझने का सबसे अच्छा साधन है. इसके अलावा, इसमें आपदा को संभालने के लिए संस्थागत तंत्र पर महत्वपूर्ण  जानकारी भी होती है. यह अत्यधिक प्रामाणिक है और आपदा प्रबंधन के लिए सामाजिक तंत्रों को यहां से प्रत्यक्ष सुझाव दिया जा सकता है.

इंडिया ईयर बुकः भारत सरकार द्वारा शुरु की गईं नई योजनाओं पर नोट्स तैयार करने के लिए कल्याण योजनाओं, शिक्षा, स्वास्थ्य, आपदा प्रबंधन और आंतरिक सुरक्षा से संबंधित कुछ खास अध्याय ही इस किताब से पढ़े जा सकते हैं.

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के लिए: यह सच है कि जीएस पेपर III के लिए बाजार में विज्ञान और प्रौद्योगिकी हेतु इस प्रकार की कोई पठन सामग्री उपलब्ध नहीं है. कुछ प्रकाशक इस विषय पर भी किताब प्रकाशित कर रहे हैं लेकिन वे समय और पैसे दोनों की बर्बादी भर हैं.

जनरल स्टडीज IAS मेन्स पेपर 4:

नीतिशास्त्र के लिए इग्नू की पठन सामग्री: यह सामग्री पूरी तरह से उन छात्रों के लिए तैयार की गई है जो नीतिशास्त्र के लिए बिल्कुल नए हैं लेकिन इसमें नीतिशास्त्र की बुनियादी बातें और अखंडता का विषय भी है जो महत्व रखता है.

माइकल सैंडेल की Justice: What’s the right thing to do?:  मनुष्य के जीवन में नैतिकता और नैतिक व्यवहार पर वास्तविक अंतर्दृष्टि देती है यह किताब. इसका प्रयोग नैतिकता क्या है और विश्व  के माहौल को यह किस प्रकार प्रभावित करता है, जैसे बुनियादी प्रश्नों का जबाव देने के लिए इसका प्रयोग किया जा सकता है.

12वीं कक्षा की एनसीईआरटी की मनोविज्ञान की किताब: इसकी उपयोगिता रवैया, दृष्टिकोण, विचार और धारणा जैसी कुछ विशेष अध्यायों को पढ़ने तक ही है.

जी. सुब्बा राव की Ethics, Integrity and Aptitude for Civil Services Examination: यह एक ही बार में पढ़ ली जाने वाली किताब नहीं है क्योंकि विषय को समझने में प्रयास और समय दोनों लगते हैं. भारतीय संदर्भ में यह आपको अच्छे उदाहरण देता है. .

नीरज कुमार की Lexicon for Ethics, Integrity & Aptitude for IAS General Studies: यह किताब नैतिकता और मूल्य प्रणाली की बुनियादी समझ देने और मुख्य परीक्षा में प्रासंगिकता के आधार पर दुहराने एवं अपने उत्तर को बेहतरीन बनाने की जरूरत को पूरा करने के लिए है.

नैतिकता पर प्रशासनिक सुधार आयोग की रिपोर्ट: यदि एक उम्मीदवार  अपने तर्क को किसी लॉजिकल स्टैंड से सही बताना चाहता है तो प्रशासनिक सुधार आयोग की अनुशंसाएं उसके उत्तर के निष्कर्ष को बेहतर बनाने में मदद कर सकती हैं.

आईएएस के लिए आवश्यक किताबें:

Subjects

Books

Subjects

Books

Ancient History

आरएस शर्मा (पुरानी एनसीईआरटी) का ‘प्राचीन भारत (एंसीएंट इंडिया– Ancient India)

World Geography

मानव भूगोल की बुनियादी बातों (एनसीईआरटी)

 

जीसी लोंग की प्रमाण पत्र भौतिक और मानव भूगोल

Medieval History

सतीश चंद्र (पुरानी एनसीईआरटी) की मध्ययुगीन भारत का इतिहास

Economy

भारत लोग और अर्थव्यवस्था (एनसीईआरटी)

 

रमेश सिंह की भारतीय अर्थव्यवस्था

Modern History

स्पेक्ट्रम पब्लिकेशन के ‘A brief history of modern India’ के साथ– साथ सुजाता मेनन की ‘Concise history of modern India’

Polity

लक्ष्मीकांत की भारतीय राजनीति

 

डीडी बसु की भारत के संविधान का परिचय

Indian Culture

स्पेक्ट्रम पब्लिकेशन की ‘facets of Indian culture’

नितिन सिंघानिया द्वारा कला और संस्कृति

सांस्कृतिक संसाधन एवं प्रशिक्षण केंद्र की वेबसाइट

Current Affairs

द हिंदू, इंडियन एक्सप्रेस, पीआईबी, जागरण जोश वेबसाइट

Physical Geography

जीसी लोंग की प्रमाण पत्र भौतिक और मानव भूगोल

Science & Tech

शंकर आईएएस के नोट्स

 

इसरो की वेबसाइट

Indian Geography

भारत: भौतिक पर्यावरण (एनसीईआरटी)

Environment & Ecology

समाचार पत्रों के माध्यम से जलवायु परिवर्तन पर हालिया घटनाएं

 

एनआईओएस अध्ययन सामग्री

आईएएस की तैयारी के लिए प्रभावशाली समय सारिणी कैसे बनाएं ?

Latest Videos

Register to get FREE updates

    All Fields Mandatory
  • (Ex:9123456789)
  • Please Select Your Interest
  • Please specify

  • By clicking on Submit button, you agree to our terms of use
    ajax-loader
  • A verifcation code has been sent to
    your mobile number

    Please enter the verification code below

Newsletter Signup
Follow us on
X

Register to view Complete PDF