जेईई एडवांस्ड-2017: आइआइटी में प्रवेश की स्मार्ट तैयारी

जेईई एडवांस्ड परीक्षा 21 मई को होनी है| इस लेख में हम जानेंगे की कैसे बचे हुए दिनों में तैयारी की जाये जिससे जेईई एडवांस्ड परीक्षा में अधिकतम अंक प्राप्त किया जा सके| चूंकि एडवांस्ड सबसे कठिन प्रतियोगी परीक्षाओं में से एक है, इसलिए इसमें कामयाबी एक बड़ी चुनौती है। जानें फिटजी  के विशेषज्ञ रमेश बैटलिश के टिप्स...

JEE Advanced 2017

आइआइटी में प्रवेश पाने की चाह रखने वाले अभ्यर्थियों के सामने जेईई- एडवांस्ड के लिए अब कुछ ही दिन बचे हैं। यह परीक्षा 21 मई को होनी है। चूंकि एडवांस्ड सबसे कठिन प्रतियोगी परीक्षाओं में से एक है, इसलिए इसमें कामयाबी एक बड़ी चुनौती है। ऐसे में तैयारी की सही योजना और कड़ी मेहनत से कैसे पाएं अच्छा अंक। जानें फिटजी  के विशेषज्ञ रमेश बैटलिश के टिप्स...
जे ईई एडवांस्ड की तैयारी कर रहे सभी छात्र अभी अध्ययन के लिए एक टाइम-टेबल बनाकर सख्ती से इसका पालन करें। देर तक जाग कर पढ़ने की बजाय सुबह जल्दी उठ कर पढ़ें, क्योंकि इस समय आपका दिमाग अवधारणाओं को समझ कर उसे आसानी से याद रख पाता है। इसके अलावा, हर छात्र के लिए एकाग्रता बनाए रखने के लिए भी यह अनुकूल समय होता है। छात्र इस समय भौतिकी और रसायन विज्ञान पर अधिक ध्यान दें, क्योंकि इन विषयों के थ्योरी और एप्लीकेशन के सवालों को हल करने के लिए अधिक एकाग्रता की जरूरत होती है। चूंकि इस परीक्षा के लिए अब बहुत अधिक दिन नहीं बचे हैं, इसलिए हर विषय-गणित, भौतिकी, रसायन विज्ञान के लिए एक समय निर्धारित कर इनका अध्ययन करें। सबसे पहले तो इन विषयों के अनुसार हर दिन के समय को एक बराबर हिस्से में बांट लें। बहु-विकल्पीय सवालों तथा भौतिकी एवं गणित में थ्योरी के सवालों को पहले हल करें। खासतौर से उन अध्यायों से अपनी शुरुआत करें, जिनसे सबसे अधिक प्रश्न पूछे जाते हैं। इसके बाद उन अध्यायों पर आएं, जो कम महत्वपूर्ण हैं। साथ में सैंपल पेपर्स भी रोजाना हल करें। इसके अलावा, अपनी गति एवं समय-सीमा की जांच के लिए हर सप्ताह मॉक टेस्ट का अभ्यास करें। रिवीजन के लिए शॉर्ट नोट्स और फ्लैश काड्र्स बनाते रहें। फॉर्मूलों की भी एक शीट तैयार कर लें ताकि अवधारणाओं को जल्दी से दोहरा सकें।

इन 5 तरीको से आपकी पढ़ाई करने की क्षमता दुगनी हो जायेगी
नियमित करें पढ़ाई
छात्र इन बचे हुए दिनों में रोजाना एक बार में 5-6 घंटे की पढ़ाई करें। लेकिन हर 3 घंटे के बाद 20-25 मिनट का ब्रेक लेते रहें। इसके अलावा, कमजोर विषयों और अवधारणाओं के लिए अतिरिक्त समय दें। छात्रों को इस समय प्रश्नपत्र हल करने पर विशेष ध्यान देना चाहिए। हर पेपर के मूल्यांकन के बाद अपने कमजोर एरिया को पहचानें और उसे स्ट्रॉन्ग बनाएं। छात्र अभी एनसीईआरटी की किताबों के अलावा अभ्यास एवं जानकारी के लिए अतिरिक्त किताबों का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। जहां तक हो सके, जेईई के प्रैक्टिस पेपर्स को हल करके अभ्यास करें। हर स्तर के सवाल हल करें। छात्रों को परीक्षा से पूर्व इन बचे हुए दिनों में कम से कम 10-15 सैंपल पेपर जरूर हल करने चाहिए। इससे परीक्षा में अच्छी मदद मिलेगी। इसके अलावा, अल्जेबरा और कैलकुलस के फॉर्मूलों पर विशेष ध्यान दें। ज्योमेट्री एवं डिफरेंशियल इक्वेशंस का भी रिवीजन परीक्षा से पूर्व जरूर कर लें।
महत्वपूर्ण चैप्टर्स
छात्र अभी सभी अध्यायों पर ध्यान देने की बजाय कुछ महत्वपूर्ण अध्यायों पर विशेष रूप से ध्यान दें, क्योंकि जेईई एडवांस्ड में गुणवत्ता पर अधिक ध्यान देने की जरूरत होती है। विभिन्न विषयों के कई ऐसे चैप्टर्स हैं, जो इस परीक्षा के लिहाज से बेहद महत्वपूर्ण हैं, जैसे :
गणित : कोनिक सेक्शन, पीऐंडसी, प्रोबेबिलिटी, क्वाड्रैटिक इक्वेशंस, डेफिनिट इंटेग्रेशन, डिफरेंशियल इक्वेशन, वेक्टर एवं 3 डी और कॉम्पलेक्स नंबर।
केमिस्ट्री : इनआर्गेनिक केमिस्ट्री में क्वालिटेटिव एनालिसिस, को-आर्डिनेशन केमिस्ट्री, केमिकल बांडिंग तथा फिजिकल एवं आर्गेनिक केमिस्ट्री में इलेक्ट्रोकेमिस्ट्री, थर्मोडायनामिक्स, केमिकल इक्कलीब्रियम।
भौतिकी : काइनेमेटिक्स, डायनेमिक्स, थ्योरी ऑफ फील्ड्स (इलेक्ट्रो-मैग्नेटिज्म)।
सेहत का रखें ख्याल
तैयारी के इन आखिरी दिनों में छात्रों को अपने शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य की अनदेखी बिल्कुल नहीं करनी चाहिए। कोशिश करें कि रोजाना 7-8 घंटे की नींद लें। इसके अलावा, अपने आप को तरोताजा रखने के लिए रोजाना सांस के व्यायाम और ध्यान करें। आहार और खाने-पीने की आदतों पर भी विशेष ध्यान रखें। क्योंकि इस समय आपके शरीर को पर्याप्त मात्रा में पोषक पदार्थों और भरपूर ऊर्जा की जरूरत होती है। चूंकि आइआइटी जेईई आपके ज्ञान, आपके जोश और आपके दृढ़ निश्चय की परीक्षा है। इसलिए परीक्षा में अच्छा प्रदर्शन करने के लिए धैर्य और सकारात्मक दृष्टिकोण बनाए रखना बहुत मायने रखता है, जो आपको परीक्षा में कामयाबी हासिल करने में मदद कर सकता है।

सीमित और पाठ्यक्रम केंद्रित तैयारियों से मिली सफलता : वासु जैन, आईआईटी टॉपर (AIR-2)

अच्छे कोचिंग संस्थान का चयन कैसे करें?

जाने वो 5 विकल्प जिन्हें आप इंजीनियरिंग में ग्रेजुएशन करने के बाद कर सकते हैं

Related Categories

    Jagran Play
    खेलें हर किस्म के रोमांच से भरपूर गेम्स सिर्फ़ जागरण प्ले पर
    Jagran PlayJagran PlayJagran PlayJagran Play

    Related Stories