Search

आरबीआई असिस्टेंट की जॉब प्रोफाइल और प्रोमोशन पॉलिसी

देश का केंद्रीय बैंक, भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने हाल ही में देश भर के अपने कार्यालयों में सहायकों की भर्ती के लिए नियमित अधिसूचना जारी की है. यहाँ हम RBI Assistant की जॉब प्रोफाइल और प्रमोशन पालिसी के बारे में चर्चा करेंगे

Nov 3, 2017 14:53 IST
Job Profile and Promotion Policy of RBI Assistant

देश का केंद्रीय बैंक, भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने देश भर के अपने कार्यालयों में सहायकों की भर्ती के लिए नियमित अधिसूचना जारी की है. देश में आरबीआई अपनी तरह का अकेला बैंक है इसलिए बैंक में नौकरी की इच्छा रखने वाला प्रत्येक उम्मीदवार आरबीआई के भवन में बतौर कर्मचारी जाने का सपना देखता है. अब बात आरबीआई के सहायक बन जाने पर आपको मिलने वाली सुविधाओं की है. यहाँ हम आरबीआई सहायक के तौर पर एक व्यक्ति के जीवन पर गौर करेंगे.

आरबीआई असिस्टेंट :  आपका कार्य क्षेत्र ?

आरबीआई में असिस्टेंट के तौर पर आपको सार्वजनिक क्षेत्र के अन्य संगठनों में किए जाने वाले काम के जैसे ही काम करने होंगे. जॉब प्रोफाइल में शामिल होगा–

फाइल वर्कः आरबीआई असिस्टेंट के तौर पर किया जाने वाला यह सबसे आम काम है. आपको संगठन के विभिन्न मामलों पर फाइलों का रख–रखाव करने को कहा जाएगा.

ये 10 गुण जो दिला सकते हैं आपको बैंक में नौकरी

डाटा इंट्रीः यह सार्वजनिक या निजी क्षेत्र के संगठन में किसी भी असिस्टेंट के लिए बहुत ही आम काम है . आपको कुछ डेटा दिए जाएंगे और दिए गए सिस्टम में उसकी प्रविष्टि करने को कहा जाएगा ताकि जरूरत के वक्त संगठन उन डेटा का इस्तेमाल कर सके.

मेल का जवाब देनाः निश्चित रूप से आरबीआई को रोजाना बहुत सारी चिट्ठियां/ मेल मिलती हैं और बतौर असिस्टेंट, आपको उनमें से ज्यादातर के जवाब लिखने होते हैं और फाइल कॉपी तैयार करने से पहले अपने बॉस से उसपर अनुमोदन लेना होता है.

आरटीआई आवेदकों को खुश करनाः कुछ नहीं बस आपको सूचना आयोग द्वारा आरबीआई को भेजे गए आरटीआई सवालों का जवाब देना होता है और फिर से एक बार आप इन जवाबों को तैयार करने के प्रभारी होते हैं.

इनवार्ड और आउटवार्ड मेलः आरबीआई को बहुत सारे पत्र मिलते हैं और साथ ही वह बहुत सारे जवाब भी देती है. बतौर असिस्टेंट आपसे मिलने वाले और भेजे जाने वाले पत्रों का रिकॉर्ड रखने को कहा जा सकता है.

बैंक परीक्षा के लिये कैलकुलेशन स्पीड बढ़ाने के 7 प्रभावी तरीके

आरबीआई असिस्टेंट : काम के एवज में आपको क्या मिलेगा?

आरबीआई में असिस्टेंट होना कोई छोटी बात नहीं है और यदि कोई जॉब प्रोफाइल को देख कर आश्चर्य करता है तो इस पद के लिए दिया जाने वाला वेतन और भत्तों को देखें. आरबीआई असिस्टेंट के तौर पर आपको जो सुविधाएं मिलेंगी वह इस प्रकार होंगी.

वेतन और भत्तेः बतौर असिस्टेंट, आपका बेसिक वेतन 8040 रु. होगा और इसमें महंगाई भत्ता, मकान किराया भत्ता, नगर प्रतिपूरक भत्ता, परिवहन भत्ता आदि को जोड़ने के बाद यह करीब 24500/– मासिक हो जाएगा.

आवास सुविधाः आरबीआई असिस्टेंट सरकारी आवास के पात्र होते हैं लेकिन शर्त यह है कि सरकारी आवास उपलब्ध हो और यदि आप सरकारी आवास की सुविधा ले रहे हैं तो आपको मकान किराया भत्ता नहीं दिया जाएगा.

किताब और अखबार भत्ताः आरबीआई में असिस्टेंट के तौर पर आपको किताब अनुदान भत्ता, अखबार भत्ता आदि मिलेगा. इसके अलावा असिस्टेंट के तौर पर आप सूटकेस लेने के भी हकदार हैं.

वाहन व्ययः यदि आपके पास वाहन है और आप उसका इस्तेमाल कार्यालय उद्देश्यों के लिए करते हैं, तो आप प्रति माह वाहन के रखरखाव पर किए जाने वाले खर्च की प्रतिपूर्ती के हकदार हैं.

चिकित्सा सुविधाएं– बीमारी और स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के वक्त आरबीआई अपने कर्मचारियों का ख्याल रखता है. आपको किसी भी इलाज पर किए गए खर्च और अस्पताल में भर्ती होने में लगे खर्च की प्रतिपूर्ति की जाती है. कर्मचारियों के लिए यह कुल खर्च का 100% और उन पर आश्रितों के मामले में 75% होगा.

 बैंक परीक्षाओं की तैयारी करते समय आपको ' द हिंदू' अखबार क्यों पढ़ना चाहिए?

एलटीसी/ एलएफसी सुविधाः आप लीव फेयर कनसेशन (एलएफसी) या लीव ट्रैवल (एलटीसी) के पात्र होंगे. बैंक द्वारा रियायत (एलटीसी) सुविधा दी जाती है और इसमें देश में किसी भी जगह की यात्रा हेतु टिकट के पूरे खर्च की प्रतिपूर्ति की जाएगी. यदि आप यात्रा करने के इच्छुक नहीं है तो आप एलएफसी/ एलटीसी सुविधा को भुना भी सकते हैं.

ब्याज मुक्त ऋणः केंद्रीय बैंक के कर्मचारी होने के नाते आप आवास, कार, शिक्षा, व्यक्तिगत उपभोग्य वस्तुएं आदि के लिए ब्याज मुक्त ऋण लेने के पात्र होंगे.

आरबीआई असिस्टेंट या बैंक पीओ : किसका चयन बेहतर विकल्प ?

आरबीआई असिस्टेंटः 10 वर्ष बाद आपका स्थान?

किसी भी नौकरी के सबसे महत्वपूर्ण पहलुओं में से एक है प्रोमोशन के अवसर. आज कल के महत्वाकांक्षी युवाओं के लिए तो यह वाकई बेहद महत्वपूर्ण है. वैसे लोग जो अपने जीवन में काफी कुछ हासिल करना चाहते हैं उनके लिए आरबीआई  असाधारण अवसर प्रदान करता है। यहां प्रोमोशन प्राप्त करने के दो रास्ते हैं–

वरिष्ठता के आधार परः यह उन लोगों के लिए है जो बैंक में कार्यकारी भूमिका की ओर बढ़ने में रूचि नहीं रखते. असिस्टेंट के तौर पर 10 वर्षों के बाद आपको स्पेशल असिस्टेंट के तौर पर प्रोमोट किया जाएगा और उसके बाद आप सीनियर असिस्टेंट आदि पदों के पात्र हो जाएंगे.

बैंकिंग क्षेत्र में कैरियर के अवसर: जॉब टाइटल और रोल

मेरिट के आधार परः वैसे लोग जो जिम्मेदारी उठाने की इच्छा रखते हैं, 5 वर्षों के बाद ग्रेड ए अधिकारी या असिस्टेंट मैनेजर बनने के लिए विभागीय परीक्षा (डिपार्टमेंटल एग्जामिनेशन) में हिस्सा ले सकते हैं. यह आरबीआई के अधिकारी कैडर पदानुक्रम का सबसे नीचला पायदान है, सबसे उपर आता है ग्रेड एफ।. इसके बाद आप ग्रेड बी या मैनेजर लेवल, ग्रेड सी या असिस्टेंट जनरल मैनेजर, ग्रेड डी या डिप्टी जनरल मैनेजर, ग्रेड ई या जनरल मैनेजर और आखिरकार ग्रेड एफ अधिकारी बन सकते हैं. इसमें डिप्टी गवर्नर या गवर्नर आते हैं. आमतौर पर, यदि असिस्टेंट बेहद प्रतिभाशाली हो तो वह डिप्टी गवर्नर के पद तक पहुंच सकता है.

IBPS PO परीक्षा 2017: अंग्रेजी में बेहतर अंक कैसे स्कोर करें?

NABARD Assistant Manager Grade ‘A’ Exam: Previous Year Question Paper

आरबीआई असिस्टेंट: वेतन, भत्ते व अन्य सुविधाएं