SSC CGL 2017: मौखिक तर्क के लिए महत्वपूर्ण टॉपिक्स और नीतियाँ

इस लेख में, हमने एसएससी सीजीएल के लिए वर्बल रीजनिंग सेक्शन से महत्वपूर्ण विषयों की एक सूची तैयार की है. इसके अलावा, इन विषयों की तैयारी के लिए महत्वपूर्ण टिप्स भी दिए है. इस लेख की सारी जानकारियों को पढ़ें|

Created On: May 10, 2017 14:23 IST
ssc cgl
ssc cgl

वर्तमान समय में, एसएससी सीजीएल सरकारी नौकरी के उम्मीदवारों के लिए सबसे बड़ी परीक्षाओं में से एक है। नवीनतम कार्यक्रम के अनुसार, इस साल इसकी परीक्षा नवंबर में होने जा रही है। हम सभी जानते हैं कि इस साल एसएससी सीजीएल में देरी हुई है लेकिन कोई चिंता की बात नहीं है। यह आपके लिए एक फायदे की बात है, जैसा कि अब एसएससी ने सीजीएल का अंतिम कार्यक्रम तय कर लिया है, आपको इसकी तैयारी को गंभीरता से लेना चाहिए|

एसएससी सीजीएल 2017-18: परीक्षा कैलेंडर

एसएससी ने दिनांक 11 अप्रैल, 2017 को एसएससी सीजीएल 2017-18 परीक्षा के लिए हाल ही में कैलेंडर अपडेट किया है जो कि निम्नलिखित है-

अ.    एसएससी सीजीएल 2017 ऑनलाइन आवेदन दिनांक: - 16 मई, 2017 से 16 जून, 2017

आ.  एसएससी सीजीएल कंप्यूटर आधारित टियर -1 परीक्षा 2017: - 1 अगस्त, 2017 से 20 अगस्त, 2017

इ.      एसएससी सीजीएल कंप्यूटर आधारित टियर -2 परीक्षा 2017: - 10 नवंबर, 2017 से 11 नवंबर, 2017

ई.      एसएससी सीजीएल चरण -3 वर्णनात्मक पेपर 2017: - 21 जनवरी, 2018

उ.      एसएससी सीजीएल टीयर -2017 (यदि लागू हो): - फरवरी 2018

अब, आपको एसएससी सीजीएल टीयर -1 का परीक्षा पैटर्न पता होना चाहिए, तैयारी शुरू करने से पहले नीचे दिए गए पेपर पैटर्न पर एक नज़र डाले–

S.No

 

विषय

 

प्रशन

 

अंक प्रति प्रश्न

 

  1.  

 

क्वांटिटेटिव एपटीट्युड

 

25

 

2

 

  1.  

 

जनरल इंटेलिजेंस एंड रीजनिंग

 

25

 

2

 

  1.  

 

अंग्रेजी भाषा व कॉम्प्रिहेंशन

 

25

 

2

 

  1.  

 

सामान्य ज्ञान

 

25

 

2

 

उपरोक्त पैटर्न से, हमें प्रश्नों और अंकों के बराबर वितरण का निष्कर्ष प्राप्त होता हैं। इसलिए, आपको प्रत्येक विषय को समान समय देना होगा। अब यदि हम सबसे आसान विषय की तलाश करते हैं, तो यह रीजनिंग एबिलिटी है इसमें बेहतर अंको के लिये एकाग्रता और सशक्त अभ्यास की आवश्यकता है। यह एक स्कोरिंग विषय है इस विषय में दो बातों की संभावनाये है; या तो आप कम समय लेंगे और सटीकता के साथ लगभग सभी प्रश्नों को हल करेंगे या आप कम सही उत्तरों के साथ अधिक समय बिताएंगे। इसलिए, सब कुछ आपके अभ्यास और प्रयासों पर निर्भर करता है।

अब, 25 प्रश्नों में से, 80% प्रश्न verbal reasoning से आएँगे। विभिन्न विषयों से आए अनुमानित प्रश्नों की संख्या का अनुमान लगाने के लिए हमने पिछले साल की परीक्षाओं का विश्लेषण किया है। इससे आपको इस परीक्षा की तैयारी में आवश्यक मदद मिलेगी|

मौखिक तर्क

विषय

 

सवाल की संख्या

Analogy

4

Classification

4

Number / Alphanumeric Series

3

Missing number

1

Coding – Decoding

1

Word Formation

1

Direction sense

1

Ranking and Arrangements

1

Arrangement of words

2

Fictitious Symbol

1

Alphabet Sequence

1

इन सभी विषयों को थोड़ा ध्यान और अभ्यास की आवश्यकता है ये हल करने में आसान हैं आपको इस तरह के सवालों का अभ्यास करने के लिए कुछ तर्क विश्लेषिकी कौशल से पढाई करनी होगी। मौखिक तर्क विषयों पर कमांड करने के लिए नीचे अनुछेद में कुछ युक्तियां दी गई हैं-

१.      मूल अवधारणाओं (Concepts) को जानें: नौसिखिए या कम अनुभवी छात्रों के लिए, प्रत्येक विषय को स्पष्ट रूप से समझना चाहिए|  विभिन्न स्रोतों से सीखने की कोशिश करें क्योंकि आपको प्रत्येक प्रश्न को हल करने की छोटी छोटी युक्तियां मिल जाएंगी। इसके अलावा, विभिन्न टॉपिक्स को पढना शुरू करे, ताकि आप उस अध्याय के सभी प्रकार के सवालों से अच्छी तरह से वाकिफ हो सकें।

२.      पढने व अभ्यास करने के विभिन्न माध्यम का प्रयोग करे: विभिन्न स्रोतों से विषय को पढ़े व गहराई से जानें उदाहरण के लिए- विशेष विषय की पुस्तकों जिसमे विभिन्न लेखकों के ब्लॉग, विषयों के ब्लॉग, कॉन्सेप्ट्स के वीडियो, का विषयवार विवरण मौजूद हो|

३.      विषय के आधार पर क्विज़ का अभ्यास करना: सभी विषयों का पूरा ज्ञान प्राप्त करने के बाद, उनके संबंधित प्रश्नों का अभ्यास करना शुरू करें। प्रत्येक विषय के विभिन्न प्रकार के 100 प्रश्नों का प्रयास प्रतिदिन करें। इसके बाद, आप जल्दी ही कुछ ही दिनों में उस सम्बंधित टॉपिक्स से प्रश्नों के पैटर्न को जान जायेंगे। अभ्यास के इस तरीके से आपकी गति भी बढ़ जाती है| इसके अतिरिक्त, एक दिन या एक घंटे में किसी विशेष विषय के बहुत से सवालो को पूरा करने के लिए अपना लक्ष्य निर्धारित करें।

४.      विषयवार मोक टेस्टों का प्रयास करें: जब आप सभी विषयों के अभ्यास सत्रों को पूरा कर लेंगे, तो इस विषय के संपूर्ण प्रश्न पत्रों या प्रैक्टिस पेपर्स का प्रयास करना शुरू करें। आपको एक महीने के लिए हर दिन कम से कम एक सेट का प्रयास करना होगा। साथ ही, इसे पूरा करने के लिए एक समय निर्धारित करें। फिर अपने अंतिम अंकों की गणना सही प्रश्नों के अंको में से गलत प्रश्नों में नकारात्मक अंकन को हटाकर करें। यह आपके कमजोर क्षेत्रों को इंगित करने में आपकी सहायता करेगा| इसके बाद आपको उन कमजोर विषयों के प्रश्नों का प्रयास करना चाहिए और अगले परीक्षा में अपने कौशल की परिशुद्धता में वृद्धि पर जोर देना चाहिए। आप दिन-दर-दिन अपने आत्मविश्वास व कौशल में वृद्धि को देखेंगे|

५.      पिछले साल के मोक टेस्टों का विश्लेषण करें: परीक्षा से 20 दिन पहले, वास्तविक प्रश्न पत्र का सही अनुमान पाने के लिए पिछले साल के सभी प्रश्नों का प्रयास करें। आमतौर पर एसएससी पिछले सेट से ही प्रश्न को नए सत्र में पुन: दोहराता है, इसलिए यह आपके लिए एक सकारात्मक बात हो सकती है|

यदि आप उपर्युक्त बिंदुओं को गंभीरता से लेते हैं, तो निश्चित रूप से इस अनुभाग पर आप अच्छी पकड़ बना सकते है। इस रणनीति के बाद निश्चित रूप से आपको 20 verbal प्रश्नों में से 18 में अंक प्राप्त होंगे| हमारी वेबसाइट अक्सर रीजनिंग एबिलिटी के अभ्यास के लिए आर्टिकल और प्रश्नोत्तरो की श्रुंखला प्रकाशित करती है। उन पर भी नज़र रखें। यहां नीचे कुछ पुस्तकों की सूची दी गई है:

१.      Verbal & Non-Verbal Reasoning (R S Aggarwal)

२.      Verbal & Non-Verbal Reasoning Hindi (Kiran Publication)

३.      Logical & Analytical Reasoning – English (A K Gupta)

 आप इन किताबों से भी अभ्यास कर सकते हैं|

शुभकामनाएँ!

Comment (0)

Post Comment

0 + 8 =
Post
Disclaimer: Comments will be moderated by Jagranjosh editorial team. Comments that are abusive, personal, incendiary or irrelevant will not be published. Please use a genuine email ID and provide your name, to avoid rejection.