Search

SSC CHSL 2018-19 की तैयारी हेतु पुख्ता प्लान

कर्मचारी चयन आयोग ने हाल में ही संयुक्त उच्चतर माध्यमिक स्तर 2018-19 की परीक्षा के माध्यम से लोअर डिवीजन क्लर्क, डाटा एंट्री ऑपरेटर, कोर्ट क्लर्क और सॉर्टिंग असिस्टेंट या पोस्टल असिस्टेंट के पदों के लिए अधिसूचना जारी की है।

Jan 23, 2019 15:37 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
ssc chsl preparation tips
ssc chsl preparation tips

SSC CHSL Preparation Plan: कर्मचारी चयन आयोग संयुक्त उच्चतर माध्यमिक स्तर परीक्षा के माध्यम से लोअर डिवीजन क्लर्क, डाटा एंट्री ऑपरेटर, कोर्ट क्लर्क और सॉर्टिंग असिस्टेंट या पोस्टल असिस्टेंट के पदों पर विभिन्न विभागों और मंत्रालयों में भर्ती करता है। यह उन उम्मीदवारों, जिन्होंने हाल ही में सीनियर सेकेंडरी की परीक्षा को उत्तीर्ण किया हैं, में काफी प्रचलित परीक्षा हैं. इस परीक्षा हेतु हर वर्ष आवेदकों की संख्या बढ़ने के कारण SSC CHSL परीक्षा का कठिनाई स्तर भी काफी ऊँचा होने की संभावनायें हैं. आइये- इस आर्टिकल के माध्यम से हम इस परीक्षा की रणनीतियों और सुझावों के बारे में चर्चा करेंगे ताकि आप इस परीक्षा में सफलता अर्जित कर सकें जिससे आपको अपने स्कूल (10 +2 ) के तुरंत बाद ही सरकारी नौकरी मिल सकेगी।

SSC CHSL 2018-19: परीक्षा पैटर्न

2015 के बाद से SSC ने सरकारी विभागों और संगठनों की आवश्यकताओं के अनुसार संयुक्त उच्चतर माध्यमिक स्तर की परीक्षा के परीक्षा पैटर्न में बदलाव किया है। पैटर्न इस प्रकार है:

टीयर-I परीक्षा: इस परीक्षा में अंग्रेजी, जनरल अवेयरनेस, रीजनिंग और गणित से वस्तुनिष्ठ प्रश्न आएंगे। हर सेक्शन में 25 प्रश्न होंगे और प्रत्येक प्रश्न 2 अंक का होगा तथा कुल 200 प्रश्न इसके लिए निर्धारित किए जाएंगे। परीक्षा की समय अवधि 75 मिनट की होगी। यह कंप्यूटर आधारित परीक्षा होगी जिसे कई पारियों में आयोजित किया जाएगा।

टियर-II परीक्षा: यह परीक्षा उन उम्मीदवारों के लिए होगी जिन्होंने पहली परीक्षा में सफलता अर्जित कर ली है। यह एक वर्णनात्मक पेपर होगा। इस परीक्षा के लिए 100 नंबर निर्धारित किए हैं जहां आपके निबंध लेखन और पत्र लेखन कौशल का मूल्यांकन किया जाएगा। प्रश्न पत्र में प्राप्त अंकों को अंतिम मूल्यांकन के लिए गिना जाएगा, जबकि परीक्षा में अर्हता प्राप्त करने के लिए न्यूनतम कट ऑफ 33 प्रतिशत होगी। इस परीक्षा के लिए कुल 1 घंटे का समय आवंटित किया गया है।

टीयर III परीक्षा: यह परीक्षा डाटा एंट्री ऑपरेटर के पदों और अन्य पदों के लिए टाइपिंग टेस्ट की कौशल परीक्षा है। यह महज एक औपचारिक परीक्षा है जिसमें प्राप्त अंकों को अंतिम मेरिट लिस्ट में नहीं जोड़ा जाएगा।

SSC में डिग्रीधारको की संख्या के आधार पर चयन प्रक्रिया का विवेचन

SSC CHSL 2018-19: प्रमुख रणनीतियाँ

SSC सीएचएसएल उन उम्मीदवारों के लिए एक बेहतरीन अवसर है जिन्होंने अभी अपनी स्कूल परीक्षा (10+2 ) उत्तीर्ण की है, क्योंकि यह उम्मीदवारों को सरकारी नौकरी प्रदान करता है वो भी सिर्फ स्कूल पास आउट करने के बाद और ठीक इसी तरह यह अन्य लोगों के लिए भी एक बेहतरीन अवसर है क्योंकि इस परीक्षा की तैयारी करने के बाद भी आपके पास इतना पर्याप्त समय होता है कि आप दूसरी परीक्षा की तैयारी कर सकते हैं। आइए जानते हैं कि कैसे इस परीक्षा में सफलता अर्जित करें?
अपने बेसिक्स को मजबूत बनाएं : किसी भी प्रतियोगी परीक्षा के लिए यह सबसे महत्वपूर्ण पहलू है और यही वजह है कि आपको अच्छी तरह से अंग्रेजी ग्रामर के बुनियादी नियमों और क्वांटेटिव एप्टीट्यूट (मात्रात्मक योग्यता) के लिए बीजगणित, अंकगणित, रेखागणित, त्रिकोणमिति और क्षेत्रमिति के बुनियादी नियमों, रीजनिंग आदि के लिए रीजनिंग एप्टीट्यूट के नियमों से वाकिफ होने की जरूरत है।

आप जनरल अवेयरनेस के भरोसे नहीं रह सकते: इस सेक्शन में आपसे 25 सवाल पूछे जाएंगे लेकिन इसके विशाल सिलेबस के कारण प्रत्येक चीज को कवर करना संभव नहीं है। इसलिए इस विशेष सेक्शन की अनिश्चितता को जानते हुए अन्य तीन सेक्शन में जितना संभव हो सके उतने अधिक नंबर लाने की कोशिश करें।

नकारात्मक अंकन (निगेटिव मार्किंग) होता है: इस साल नकारात्मक अंकन 0.50 नंबर का है। आपको प्रश्नों के उत्तर देते समय सावधानी बरतने की जरूरत है, विशेष रूप से सामान्य जागरूकता (जनरल अवेयरने स) और अंग्रेजी सेक्शन में क्योंकि दोनों सेक्शन में कई भ्रामक सवाल आते हैं।

प्रिवेंटिव ऑफिसर और एक्साइज इंस्पेक्टर की जॉब प्रोफाइल में अंतर जाने

• अंग्रेजी महत्वपूर्ण है : सामान्य तार्किक (जनरल रीजनिंग) और मात्रात्मक योग्यता (क्वांटेटिव एप्टीट्यूट) प्रश्न या तो हल किये जा सकते हैं या नहीं, लेकिन दोनों ही परिस्थितियां अंग्रेजी के लिए अच्छी नहीं है। अंग्रेजी के मामले में आपको सतर्क रहना होगा क्योंकि यदि आप तुक्का लगाकर प्रश्नों के जवाब दे रहे हैं जो आपकी निगेटिव मार्किंग की ज्यादा संभावना है।

• अभ्यास परिपूर्ण बनाता है: अभ्यास एक ऐसी चीज है जो किसी भी क्षेत्र में सफलता हासिल करने के लिए जरूरी होती है और यह SSC सीजीएचएसएल परीक्षा के लिए भी लागू होती है। आप जितना ज्यादा अभ्यास करेंगे, सफलता आपके उतने नजदीक होगी। अभ्यास के माध्यम से आपको अपने मजबूत और कमजोर पक्षों का पता चलता है, जिस पर आप उसके अनुसार तैयारी कर सकते हैं।

• मॉक टेस्ट से यह आसान हो जाता है: जब आप एक बार अपने परीक्षा पाठ्यक्रम (सिलेबस) को पूरा कर लेते हैं तो उसके बाद मॉक टेस्ट का अभ्यास करें, विशेष रुप से क्वांटेटिव एप्टीट्यूट और रीजनिंग के लिए। अच्छे नंबर लाने की कोशिश करें, लेकिन ध्यान रखें परीक्षा हॉल में स्थिति बिल्कुल भिन्न होती है, इसलिए अच्छे नंबर लाएं, लेकिन ऐसा ना करें कि आप खुद को ही संतुष्ट ना कर पाएं।

SSC सीएचएसएल की परीक्षा उन उम्मीदवारों के लिए एक बेहतरीन अवसर है जो बिना तनाव के सरकारी नौकरी करना चाहते हैं। जब तक आपको किसी बात के लिए जिम्मेदार नहीं ठहराया जाता है तो तब तक आप शांति का जीवन व्यतीत कर सकते हैं। महत्वाकांक्षी लोगों को नौकरी के दौरान बेहतर पद तथा इससे अच्छी जॉब पाने हेतु पढ़ाई करने के लिए बहुत सारा समय मिल जाता है। आप सरकारी कर्मचारियों से अपने आस पास होने वाली घटनाओं के बारे में बातचीत कर सकते हैं। यह सरकारी नौकरियों के लिए आवेदन करने हेतु उपयोगी है क्योंकि यह आयु जैसे मामलों में छूट प्रदान करता है। तो देर किस बात की है, यह आपके लिए तैयारी करने का वक्त है, तैयारी करिए, सफलता आपके कदमों में होगी।

SSC इंस्पेक्टर : इन्कम टैक्स, एक्साइज, कस्टम्स और परीक्षक से सम्बंधित संपूर्ण विवरण

Related Stories