बोर्ड एग्जाम की डेटशीट रिलीज़ होने के बाद कैसे अपडेट करें अपना स्टडी प्लान

Jan 3, 2019 15:17 IST

    हर साल की तरह इस साल भी फरवरी, मार्च और अप्रैल के महीने बोर्ड परीक्षाओं से घिरे रहेंगे. जहाँ UP Board के एग्जाम 7 फ़रवरी से शुरू होंगे वहीँ Bihar Board की परीक्षाएँ 6 फ़रवरी से शुरू हो रही हैं. इसी प्रकार महाराष्ट् बोर्ड एग्जामिनेशन 21 फ़रवरी से शुरू होंगे. फिर मार्च के पहले हफ्ते से CBSE Board परीक्षाओं की शुरुआत होगी. लगभग सभी बोर्ड परीक्षाओं का टाइम टेबल रिलीज़ हो चुका है. इस दौरान विद्यार्थियों के लिए सबसे अहम बात यह होगी कि वे किस तरह से परीक्षा की डेटशीट/ टाइम टेबल के अनुसार अपनी तैयारी प्लान करें जिससे वे परीक्षा में बेहतरीन अंक हासिल कर सकेंगे.

    आज हम यहाँ दी गयी विडियो कि मदद से आपको कुछ ऐसे महत्वपूर्ण टिप्स बताने जा रहे हैं जो आपको अपनी Board Exam Date Sheet/ Time Table का विश्लेष्ण करते हुए उचित रिवीजन प्लान बनाने में मदद करेंगे.

    1. दो महत्वपूर्ण एग्जाम्स में दिए गैप को देखें

    बोर्ड परीक्षा के लिए रिलीज़ की गई डेटशीट में सबसे अहम बात जानने के लिए होती है अलग – अलग पेपर्स के बीच दिया गया गैप जिसके अनुसार आप अगली परीक्षा की तैयारी के लिए उचित रणनीति बना सकें. लगभग हर बोर्ड परीक्षा, चाहे वो स्टेट बोर्ड की हो या सीबीएसई की, सब में महत्वपूर्ण विषयों जैसे कि मैथ्स, फिजिक्स, केमिस्ट्री, इंग्लिश, इत्यादि से पहले सामान्यतः दो से तीन दिन का अवकाश जरूर मिलता है. विद्यार्थियों को इसी अवकाश के अनुसार अभी से एक ऐसी रणनीति तैयार कर लेनी चाहिए जिससे कि अभी की गई तैयारी पेपर से पहले मिले गैप का भरपूर फायदा उठाने में मददगार साबित हो.

    यहाँ आप नीचे दिए कुछ महत्वपूर्ण टिप्स पर ध्यान दें:

    • जिस पेपर से पहले केवल एक दिन की छुट्टी हो या कम गैप हो उसके लिए अभी से पर्याप्त रिवीजन करलें कि पेपर से पहले आपको तैयारी में कोई कठिनाई ना हो.
    • महत्वपूर्ण परिभाषाएँ, फार्मूले, थ्योरम, आदि को नोट करके रख लें ताकि पेपर से पहले आप कम समय में इन्हें रिवाइज़ कर सकें.
    • हर छुट्टी के लिए अभी से एक स्टडी शिड्यूल बनाके रख लें कि पहले दिन कितना/क्या पढ़ना है और बाकी के दिनों में क्या पढ़ें जिससे परीक्षा के लिए उचित तैयारी की जा सके.

    2. सभी महत्वपूर्ण विषयों के सिलेबस को दोबारा पढ़ें

    सिलेबस को दोहराने की जरूरत इसलिए है ताकि आपको आईडिया हो जाये कि क्या अपने सभी जरूरी टॉपिक पढ़ लिए हैं. इसके आलावा सिलेबस में हर चैप्टर या यूनिट का बोर्ड परीक्षा के अनुसार भार विभाजन भी दिया जाता है जिसको जानने के बाद आप यह अंदाजा लगा सकेंगे कि अपने कितने मार्क्स के टॉपिक कवर कर लिए हैं और कितने बाकी हैं. इससे आपकी परीक्षा के लिए की गई तैयारी का विश्लेष्ण भी हो जाता है और आप जान पाते हैं कि अभी कितनी तैयारी और करनी है.

    बोर्ड परीक्षा में उच्चतम अंक पाने के लिए रिविजन ही काफी नहीं बल्कि ये 5 चीज़ें भी हैं बेहद जरूरी

    3. पूरे साल तैयार किये गये नोट्स को एकत्र कर लें

    परीक्षा से पहले की जाने वाली तैयारी या रिवीजन में सबसे अहम् भूमिका होती है स्टडी नोट्स या रिवीजन नोट्स की. क्लास के दौरान बनाये स्टडी नोट्स में अध्यापक द्वारा सभी महत्वपूर्ण टॉपिक लिखे होते हैं जिनको आप आसानी से revise कर सकते हैं. साथ ही रिवीजन नोट्स जिनमे अपने अपनी भाषा में हर महत्वपूर्ण टॉपिक को नोट किया होता है, से पढ़ने पर आप कम समय में ही अधिक तैयारी कर सकते हैं क्योंकि पूरी किताब को दोबारा पढ़ने या उसमें से महत्वपूर्ण विषयों को ढूँढने में आपका काफी समय ख़राब होगा.

    4. सैम्पल/मॉडल पेपर्स की मदद जरूर लें

    हर बोर्ड अपनी सालाना परीक्षाओं से पहले 10वीं तथा 12वीं के सभी विषयों के लिए सैंपल पेपर प्रकाशित करता है जिसके जरिये वह अपने विद्यार्थियों को बोर्ड प्रश्न पात्र के पैटर्न को समझा सके.  

    कुछ महत्वपूर्ण बातें जो आप सैंपल पेपर से जान सकते हैं, वो हैं:

    • बोर्ड प्रश्न पत्र का पैटर्न
    • पूछे जाने वाले प्रश्नों का स्वरूप
    • बोर्ड परीक्षा के लिए महत्वपूर्ण टॉपिक्स
    • अंकों का वितरण

    इन सबके आलावा सैंपल/मॉडल प्रश्न पत्रों की महत्ता का एक और बड़ा कारण यह भी है कि इन पेपर्स को हल करने से छात्रों को अपनी अवधारणाओं को संशोधित करने का मौका मिलता है जिससे वे अपनी तैयारी को और असरदार बना पाते हैं और परीक्षा से पहले मिले गैप में धीर्जता से उचित अभ्यास कर पाते हैं.

    5. अपनी Textbook में दिए गये सभी Examples को जरूर हल करें

    अधिकतर देखा जाता है कि विद्यार्थी किताब से पढ़ते समय उसमे दिए गये उदाहरण प्रश्नों को बिलकुल नजरअंदाज कर देते हैं और अगला टॉपिक पढ़ने लगते हैं. जबकि पिछले वर्षों के बोर्ड प्रश्न पत्रों का विश्लेष्ण करते समय यह सामने आया है कि प्रश्न पत्रों में अधिकतर प्रश्न किताब में दी गई examples के या तो बिलकुल समान होते हैं या उनके इर्द-गिर्द ही पूछे गये होते हैं. इससे textbook में दी गई सभी solved/unsolved examples की महत्ता काफी बढ़ जाती है.

    बोर्ड परीक्षा हर विद्यार्थी के अकादमिक जीवन का बेहद महत्वपूर्ण पड़ाव होता है जो उनको अपना मनचाहा करियर मार्ग अपनाने में सहायक सिद्ध होता है. इसलिए आप अपनी बोर्ड परीक्षा में बेहतरीन अंक प्राप्त करने के लिए एक सही प्लान जरूर अपनाएं और यहाँ दिए टिप्स के अनुसार ही अपनी तैयारी को सही दिशा दें.

    अपनी बोर्ड परीक्षा की तैयारी को आसान व असरदार बनाने के लिए अन्य महत्वपूर्ण लेख यहाँ पढ़ें.

    Commented

      Register to get FREE updates

        All Fields Mandatory
      • (Ex:9123456789)
      • Please Select Your Interest
      • Please specify

      • ajax-loader
      • A verifcation code has been sent to
        your mobile number

        Please enter the verification code below

      X

      Register to view Complete PDF