Search

Positive India: पोलियो ग्रस्त होने के बावजूद बनीं एक सफल CA और क्लियर की UPSC सिविल सेवा परीक्षा - जानें सारिका जैन की कहानी

2 साल की उम्र से पोलियो ग्रस्त होने के बावजूद बनीं एक सफल CA और UPSC सिविल सेवा 2013 क्लियर किया। जानें दृढ इच्छाशक्ति रखने वाली IRS सारिका जैन के संघर्ष की कहानी 

Jun 17, 2020 16:01 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
Positive India: "शरीर में पोलियो था दिमाग में नहीं..." जानें कैसे UPSC क्लियर कर IRS बनीं सारिका जैन
Positive India: "शरीर में पोलियो था दिमाग में नहीं..." जानें कैसे UPSC क्लियर कर IRS बनीं सारिका जैन

केवल शिक्षा, मेहनत और इंसान का हौसला ही उसके जीवन की हर परेशानी को दूर कर सकता है। इस बात का जीता जागता उदहारण हैं उड़ीसा के एक छोटे से गाँव की रहने वाली IRS सारिका जैन। बचपन में ही पोलियो का शिकार हुई सारिका को जब समाज ने तानों और कड़वी बातों से रोका तो उनके आगे बढ़ने के हौसले और पढ़ाई करने के जज़्बे ने ही उनके जीवन को सही मार्गदर्शन दिया। आइये जानते हैं IRS सारिका जैन के संघर्षपूर्ण सफर के बारे में:

UPSC (IAS) Prelims 2020: परीक्षा की तैयारी के लिए Subject-wise Study Material & Resources

2 साल की उम्र से हैं पोलियो ग्रस्त 

सारिका जैन का जन्म उड़ीसा के एक छोटे से गांव कांटाबांजी में हुए था। महज 2 साल की उम्र में उन्‍हें पोलियो हो गया था। सारिका के माता- पिता को उस समय यह भी मालूम नहीं था कि पोलियो आखिर होता क्या है। डॉक्टर ने उनका इलाज मलेरिया समझ कर किया जिसके बाद वह डेढ़ साल तक कोमा में रहीं। सारिका बताती हैं कि वह कोमा की स्थिति में बिस्तर पर रही। वह वक्त उनके परिवार के लिए बहुत कठिन था लेकिन उनके माता-पिता ने हार नहीं मानी। बहुत सी मुश्किलों के बाद आखिरकार 4 साल की उम्र में उन्होने चलना शुरू किया। 

स्कूल में सारिका की विकलांगता का उड़ाया जाता था मज़ाक 

4 साल की उम्र में जब सारिका ने चलना शुरू किया तो उनके माता-पिता ने उनका स्कूल में दाखिला कराने का निर्णय लिया। लेकिन कोई भी उनको अपने स्‍कूल में एडमिशन नहीं देना चाहता था।  जैसे-तैसे उन्हें एक स्‍कूल में दाखिला मिल भी गया लेकिन उनकी कक्षा के बच्‍चे उन्हें बहुत चिढ़ाते थे और पत्‍थर मारते थे। परन्तु सारिका ने कभी इन बातों पर ध्यान नहीं दिया। वह कहती हैं की वह अपने प्रति लोगों के अलग व्यवहार को समझती ज़रूर थी लेकिन उसका कारण नहीं समझ पाती थी। उनका कहना हैं कि उनके परिवार के सभी सदस्यों ने हमेशा ही उन्हें एक सामान्य बच्चे की तरह ही रखा। इसलिए उनके मन में कभी भी अपनी परिस्थिति को ले कर कोई नकारत्मक भावना नहीं आई। 

LBSNAA - जहां पहुंचने का ख्वाब हर UPSC Aspirant देखता है: जानें इस अकेडमी से जुड़े 7 रोमांचक तथ्य

4 साल तक घर में रहने के बाद मिली CA बनने की प्रेरणा 

सारिका जैन एक मारवाड़ी परिवार से आती हैं। वह बताती हैं की उनके यहाँ लड़कियों की पढ़ाई पूरी होते ही उनकी शादी कर दी जाती है। परन्तु सारिका के विकलांग होने के कारण उन पर शादी का दबाव तो नहीं पड़ा लेकिन वह 12वीं पास करने के बाद 4 साल तक घर में ही रहीं। हालांकि  पढ़ने का जुनून हर दिन उनके साथ रहा। जब उन्होंने CA की पढ़ाई के बारे में जाना तो उन्होंने अपने पेरेंट्स से CA की पढ़ाई करने का आग्रह किया और उनके पेरेंट्स ने भी उन्हें सपोर्ट किया। सारिका घर बैठकर ही CA के एंट्रेंस एग्ज़ाम की पढ़ाई करती थी। उस वक्त गांव में 30 से 40 बच्चों ने सीए का एग्जाम दिया था, सारिका ने उन सभी में टॉप किया। इसके बाद उन्हें शहर पढ़ाई करने के लिए भेजा गया और वह अच्छे अंको के साथ CA बनने में सफल रहीं। 

UPSC क्लियर कर बदला लोगो का नज़रिया 

सीए कम्पलीट करने के बाद जब सारिका घर लौटी तो घरवालों ने तय किया कि घर पर एक ऑफिस खोल देंगे जहाँ सारिका अपना काम कर सकें। परन्तु सारिका के मन में IAS बनने का सपना था और जैसे ही सारिका ने आईएएस बनने की बात घरवालों से कही सब हैरान हो गए। उनका कहना था की उनके जैसे लोग इतनी ऊँची सोच नहीं रखते। IAS बनना उन जैसे लोगों के बस की बात नहीं हैं। परन्तु सारिका अपना लक्ष्य तय कर चुकी थी। बार बार समझाने के बाद उनके घरवालों ने उन्हें डेढ़ वर्ष का समय दिया। सारिका ने अपने दम पर दिल्‍ली आकर कोचिंग की और उनकी मेहनत रंग लाई। सारिका ने UPSC सिविल सेवा 2013 की परीक्षा में में  527वीं  रैंक हासिल कर एग्‍जाम क्रैक किया। 

IRS सारिका जैन का कहना है की जीवन में आपको पीछे खींचने वाले अनेक लोग होंगे लेकिन आत्मविश्वास और मेहनत से किया गया प्रयास कभी खाली नहीं जाता। शिक्षा ही एक ऐसा माध्यम है जो आपके जीवन को बदल सकता है। आपकी काबिलियत केवल आप जानते हैं इसलिए उस पर भरोसा रखिये और जीवन में आगे बढ़ते रहिये। 

UPSC (IAS) Prelims 2020 की तैयारी के लिए महत्वपूर्ण NCERT पुस्तकें 

 

Related Categories

Related Stories