ब्रह्माण्ड के 10 ज्ञात सबसे खतरनाक क्षुद्रग्रह

द्रव्य और ऊर्जा जैसे सभी ग्रह, तारे, गैलेक्सिया, गैलेक्सियों के बीच के अंतरिक्ष की अंतर्वस्तु, अपरमाणविक कण, और सारा पदार्थ के सम्मिलित रूप को ब्रह्मांड कहते हैं। इस लेख में हमने, ब्रह्माण्ड के 10 ज्ञात सबसे खतरनाक क्षुद्रग्रह को सूचीबद्ध किया है जो UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है।
Dec 14, 2018 16:20 IST
    Top 10 Most Dangerous Asteroids HN

    द्रव्य और ऊर्जा जैसे सभी ग्रह, तारे, गैलेक्सिया, गैलेक्सियों के बीच के अंतरिक्ष की अंतर्वस्तु, अपरमाणविक कण, और सारा पदार्थ के सम्मिलित रूप को ब्रह्मांड कहते हैं। अवलोकन योग्य ब्रह्माण्ड का व्यास वर्तमान में लगभग 28 अरब पारसैक (91 अरब प्रकाश-वर्ष) है। पूरे ब्रह्माण्ड का व्यास अज्ञात है, और ये अनंत हो सकता है।

    क्षुद्रग्रह घेरा या ऐस्टरौएड बॅल्ट किसे कहते हैं?

    Asteroid Belt

    हमारे सौर मण्डल का एक क्षेत्र है जो मंगल ग्रह (मार्ज़) और बृहस्पति ग्रह (ज्यूपिटर) की कक्षाओं के बीच स्थित है और जिसमें हज़ारों-लाखों क्षुद्रग्रह (ऐस्टरौएड) सूरज की परिक्रमा कर रहे हैं। इनमें एक 950 किमी के व्यास वाला सीरीस नाम का बौना ग्रह भी है जो अपने स्वयं के गुरुत्वाकर्षक खिचाव से गोल अकार पा चुका है। यहाँ तीन और 400 किमी के व्यास से बड़े क्षुद्रग्रह पाए जा चुके हैं - वॅस्टा, पैलस और हाइजिआ।

    ब्रह्माण्ड के 10 ज्ञात सबसे खतरनाक क्षुद्रग्रह

    अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष एजेंसी द्वारा दी गई रिपोर्ट के आधार पर ब्रह्माण्ड के 10 ज्ञात सबसे खतरनाक क्षुद्रग्रहों पर नीचे चर्चा की गयी है:

    10. 2002 सीइ

    यह एक पथरीला क्षुद्रग्रह है, जो पृथ्वी से निकट दुरी पर स्थित है और आमोर समूह का संभावित खतरनाक क्षुद्रग्रह है। यह 1 फरवरी 2002 को संयुक्त राज्य अमेरिका में सॉकोरो, न्यू मैक्सिको के पास लिंकन प्रयोगशाला की प्रायोगिक परीक्षण साइट पर लाइनियर कार्यक्रम के खगोलविदों द्वारा खोजा गया था।

    9. जिओग्राफोस

    यह एक अत्यधिक विस्तारित और पथरीला क्षुद्रग्रह है जो पृथ्वी से निकट दुरी पर स्थित है तथा अपोलो समूह का संभावित खतरनाक क्षुद्रग्रह है। यह 14 सितंबर 1951 को संयुक्त राज्य अमेरिका के कैलिफ़ोर्निया में पालोमर वेधशाला के खगोलविदों अल्बर्ट जॉर्ज विल्सन और रुडॉल्फ मिन्कोव्स्की द्वारा खोजा गया था। यह 2586 तक पृथ्वी से नहीं टकरायेगा। यह अपने 13 डिग्री की झुकाव तथा 0.34 एक्सेंटट्रिक कक्ष के कारण  मंगल ग्रह-क्रॉस्टर क्षुद्रग्रह भी बोला जाता है।

    8. तौतातिस

    यह लम्बे, पथरीला औए धीमी रोटेटर वाला क्षुद्रग्रह है और पृथ्वी से निकट दुरी पर स्थित है तथा अपोलो और अलींडा समूह के संभावित खतरनाक क्षुद्रग्रह के रूप में माना जाता है। 1989 में कैसोलस में फ्रांसीसी खगोलविद ईसाई पोलास ने इसकी खोज की थी।

    सौर मंडल के सबसे गर्म और ठन्डे ग्रहों की सूची

     7. ओल्जाटो

    यह अपोलो समूह का पथरीला विलक्षण क्षुद्रग्रह और पृथ्वी से निकट खगोल पिंड है। यह 12 दिसंबर 1947 को एरिजोना के फ्लैगस्टाफ में अमेरिकी लोवेल वेधशाला में अमेरिकी खगोलविद हेनरी एल गिक्लास द्वारा खोजा गया था। अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष एजेंसी के अनुसार, यह अपने आकार और इसकी पृथ्वी न्यूनतम कक्षा चौराहे दूरी के कारण संभावित रूप से खतरनाक खगोलीय पिंड है।

    6. मिडास

    यह वेस्टॉयड क्षुद्रग्रह है और पृथ्वी के निकटा के कारण संभावित रूप से खतरनाक क्षुद्रग्रह के रूप में माना जाता है। 6 मार्च 1973 को कैलिफ़ोर्निया के सैन डिएगो काउंटी में पालोमर वेधशाला में अमेरिकी खगोलविद चार्ल्स कौवाल ने इसकी खोज की थी। इसमें 0.0036 एयू (खगोलीय इकाई) की पृथ्वी के साथ कम न्यूनतम कक्षा अंतरंग दूरी के करना भी इसे संभावित रूप से खतरनाक क्षुद्रग्रह सूची में सूचीबद्ध है।

    5. कुनो

    यह दुर्लभ क्षुद्रग्रह है और पृथ्वी के निकटा के कारण संभावित रूप से खतरनाक क्षुद्रग्रह के रूप में माना जाता है। यह 5 जून 1959 को दक्षिण अफ्रीका के ब्लोमफोंटिन में बॉयडेन वेधशाला में जर्मन खगोलविद कुनो हॉफमेस्टर द्वारा खोजा गया था। अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष एजेंसी के अनुसार, यह 21 वीं शताब्दी में पृथ्वी टकरा सकता है। यह उत्केन्द्र कक्ष पर घूमता रहता है, इसलिए इसे मंगल और शुक्र-क्रॉसर भी बोला जाता है।

    4. फ्लोरेंस

    यह आमोर समूह का एक स्टोन ट्राइनरी क्षुद्रग्रह है और पृथ्वी के निकटा के कारण संभावित रूप से खतरनाक क्षुद्रग्रह के रूप में माना जाता है। यह हर 2 साल और 4 महीने (859 दिन) में एक बार 1.0-2.5 एयू की दूरी पर सूर्य की कक्षा से गुजरता है; यह 0.42 की विलक्षणता और ग्रहण के संबंध में 22 डिग्री की झुका हुआ है। इसलिए, अंतरिक्ष एजेंसियों ने भविष्यवाणी की कि इसमें न्यूनतम कक्षा अंतरंग दूरी (MOID ≤ 0.05 एयू) पर है इसलिए पृथ्वी से टकराने की पूरी संभावना है।

    अंतरिक्ष मलबा क्या होता है?

     3. मिथ्रा

    यह एक विलक्षण क्षुद्रग्रह और संदिग्ध संपर्क-बाइनरी है और संभावित रूप से खतरनाक क्षुद्रग्रह के रूप में माना जाता है तथा इसका लगभग 2 किलोमीटर का व्यास है। यह अपोलो समूह से संबंधित है और अपेक्षाकृत धीमा रोटेटर है। यह 22 सितंबर 1987 को रोज़ेन वेधशाला में बेल्जियम खगोलविद एरिक एलस्ट और बल्गेरियाई खगोलविद व्लादिमीर शोकोड्रोव द्वारा खोजा गया था। यह 14 अगस्त 2000 को पृथ्वी के निकट से गुजरा था।

    2. जेफिर

    यह एक पथरीला क्षुद्रग्रह है और संभावित रूप से खतरनाक क्षुद्रग्रह है। यह अपोलो समूह के निकट-पृथ्वी खगोलपिंड के रूप में वर्गीकृत है और इसका लगभग 2 किलोमीटर का व्यास है। यह 11 अप्रैल 1 999 को एरिजोना के फ्लैगस्टाफ के पास एंडरसन मेसा स्टेशन पर लोवेल वेधशाला पास-अर्थ ऑब्जेक्ट सर्च के खगोलविदों द्वारा खोजा गया था। इसकी कक्षा में 0.49 की विलक्षणता और ग्रहण के संबंध में 5 डिग्री की झुकाव है। इसलिए, अंतरिक्ष एजेंसियों ने भविष्यवाणी की है, कि भविष्य में यह 2021, 2032 और 2043 में पृथ्वी से टकरा सकता है। यह 2010 में पृथ्वी के पास से मामूली दूरी से गुजर चूका है।

    1. बेनू

    यह 11 सितंबर 1999 को लाइनियर परियोजना द्वारा खोजे गए अपोलो समूह में कार्बनेशस क्षुद्रग्रह है। नवीनतम शोध के अनुसार, 21 सितंबर 2135 को पृथ्वी से टकराने का 2700 मौकों में 1 मौका है। इसे संभावित खतरनाक खगोलीय पिंड माना जाता है इसलिए इसे सेंट्री रिस्क तालिका की सूची में रखा गया है। यह पृथ्वी और सूर्य की कक्षा से 54 मिलियन मील दूर है।

    GSAT 11 उपग्रह को भारत से लॉन्च क्यों नहीं किया गया?

    ब्रह्माण्ड के 10 ज्ञात सबसे खतरनाक क्षुद्रग्रह

    क्षुद्रग्रहों के नाम

    विवरण

    1. बेनू

    खोजकर्ता:  लीनियर

    डिस्कवरी तिथि: : 11 सितंबर 1999

    2. जेफिर

    खोजकर्ता:  लोवेल प्रयोगशाला के खगोलविद

    डिस्कवरी तिथि: : 11 अप्रैल 1999

    3. मिथ्रा

    खोजकर्ता:  बेल्जियम खगोलविद एरिक एलस्ट और बल्गेरियाई खगोलविद व्लादिमीर श्कोद्रोव

    डिस्कवरी तिथि: : 22 सितंबर 1987

    4. फ्लोरेंस

    खोजकर्ता:  स्चेल्ट जे. "बॉबी" बस

    डिस्कवरी तिथि: 2 मार्च 1981

    5. कुनो

    खोजकर्ता:  सी हॉफमेस्टर

    डिस्कवरी तिथि: 5 जून 1959

    6. मिडास

    खोजकर्ता:  सी कौवाल

    डिस्कवरी तिथि: 6 मार्च 1973

    7. ओल्जाटो

    खोजकर्ता:  एच् एल गिक्लास

    डिस्कवरी तिथि: 12 दिसंबर 1947

    8. तौतातिस

    खोजकर्ता:  सी पोल्लास

    डिस्कवरी तिथि: 4 जनवरी 1989

    9. जिओग्राफोस

    खोजकर्ता:  ए जी विल्सन और आर मिन्कोव्स्की

    डिस्कवरी तिथि: 14 सितंबर 1951

    10. 2002 सीई

    खोजकर्ता: लीनियर

    डिस्कवरी तिथि: 1 फरवरी 2002

    ब्रह्मांड के 10 ज्ञात सबसे बड़े एक्सोप्लेनेट (Exoplanet)

    Loading...

    Register to get FREE updates

      All Fields Mandatory
    • (Ex:9123456789)
    • Please Select Your Interest
    • Please specify

    • ajax-loader
    • A verifcation code has been sent to
      your mobile number

      Please enter the verification code below

    Loading...
    Loading...