राष्ट्रीय बायोगैस और खाद प्रबंधन कार्यक्रम क्या है?

पर्यावरण में हो रहे बदलाव से पूरी दुनिया समस्या का सामना कर रही है। इसलिए दुनिया कुछ वैकल्पिक ऊर्जा स्रोतों की तलाश कर रही है जो पर्यावरण के अनुकूल होने के साथ-साथ किफायती भी हो सके। इस लेख में हमने बायोगैस (Biogas) तथा राष्ट्रीय बायोगैस और खाद प्रबंधन कार्यक्रम पर चर्चा की है जो UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है।
Jan 15, 2019 18:46 IST
    What is National Biogas and Manure management Programme HN

    पर्यावरण में हो रहे बदलाव से पूरी दुनिया समस्या का सामना कर रही है। इसलिए दुनिया कुछ वैकल्पिक ऊर्जा स्रोतों की तलाश कर रही है जो पर्यावरण के अनुकूल होने के साथ-साथ किफायती भी हो सके।

    ऊर्जा के स्रोतों को दो श्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है- पारम्परिक और गैरपारम्परिक। ऊर्जा के पाम्परिक स्रोतों में जीवाश्म ईंधन अर्थात कोयला, तेल, प्राकृतिक गैस आदि आते हैं। ऊर्जा के गैर-पारम्परिक स्रोतों में हवा, सूरज की रोशनी, चक्रवात आदि आते हैं जो की नवीकरणीय हैं।   

    इसी संदर्भ में भारत सरकार ने पर्यावरणीय क्षरण को कम करने के लिए राष्ट्रीय बायोगैस और खाद प्रबंधन कार्यक्रम शुरू किया है तथा कार्बन डाइऑक्साइड (CO2) और मीथेन जैसे ग्रीन हाउस गैसों (GHG) के उत्सर्जन को रोका जा सके।

    आगे चर्चा करने से पहले, बायोगैस के बारे में जानना जरुरी है- बायोगैस (Biogas) वह गैस मिश्रण है जो आक्सीजन की अनुपस्थिति में जैविक सामग्री के विघटन से उत्पन्न होती है। यह सौर ऊर्जा और पवन ऊर्जा की तरह ही नवीकरणीय ऊर्जा स्रोत है।

    भारत का राष्ट्रीय जल मिशन क्या है?

    बायोगैस तकनीक के लाभ

    बायोगैस तकनीक के लाभ नीचे दिए गए हैं:

    1.  यह खाना पकाने और प्रकाश व्यवस्था के लिए स्वच्छ गैसीय ईंधन प्रदान करता है।

    2.  बायोगैस संयंत्र से पच घोल रासायनिक उर्वरकों के उपयोग के पूरक के लिए समृद्ध जैव खाद के रूप में प्रयोग किया जाता है।

    3.  यह बायोगैस संयंत्र के साथ सेनेटरी शौचालयों को जोड़ने के द्वारा गांवों और अर्द्ध -शहरी क्षेत्रों में स्वच्छता को बेहतर बनाता है।

    4. बायोगैस संयंत्र जलवायु परिवर्तन के कारणों को कम करने में मदद करते हैं।

    ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन : कारण और परिणाम

    राष्ट्रीय बायोगैस और खाद प्रबंधन कार्यक्रम क्या है?

    राष्ट्रीय बायोगैस और खाद प्रबंधन कार्यक्रम ग्रामीण और अर्ध-शहरी / घरों के लिए मुख्य रूप से परिवार प्रकार बायोगैस संयंत्र की स्थापना के लिए प्रदान करता है जो एक केन्द्रीय क्षेत्र की योजना है। एक परिवार के प्रकार के बायोगैस संयंत्र ऐसे पशु -गोबर के रूप में जैविक पदार्थों से बायोगैस, और इस तरह के खेतों, बगीचों, रसोई और आदि बायोगैस उत्पादन की प्रक्रिया रात मिट्टी कचरे से बायोमास के रूप में अन्य जैव सड़ सकने सामग्री उत्पन्न करता है।

    नई मंत्रालय और नवीकरणीय ऊर्जा राष्ट्रीय बायोगैस और खाद प्रबंधन सभी राज्यों में कार्यक्रम (एन बी एम एम पी) और देश के केंद्र शासित प्रदेशों लागू कर रहा है। के बारे में 47.5 लाख बायोगैस संयंत्र पहले से ही वर्ष 2014-15 के दौरान 31 मार्च, 2014 तक देश में स्थापित किया गया है, 1,10,000 बायोगैस संयंत्र स्थापित करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। बायोगैस संयंत्र फ़ीड सामग्री के लिए होने वाले परिवारों के लिए सबसे अच्छा विकल्प है, रसोई गैस और अत्यधिक समृद्ध जैव खाद यह घर के अंदर वायु प्रदूषण की समस्याओं से घरों की रक्षा के लिए समाधान प्रदान करता है के लिए और की लागत पर बचत करते हुए आत्म निर्भर बनने के लिए रसोई गैस सिलेंडरों के रेफिल्लिंग।

    कार्बन फर्टिलाइजेशन या कार्बन निषेचन से फ़ासल उत्पादन पर कैसे प्रभाव पड़ता है?

    राष्ट्रीय बायोगैस और खाद प्रबंधन कार्यक्रम के उद्देश्य

    1. परिवार के प्रकार के अनुसार बायोगैस संयंत्रों के माध्यम से ग्रामीण परिवारों को खाना पकाने के उद्देश्य और जैविक खाद के लिए ईंधन प्रदान करना

    2. ग्रामीण महिलाओं की नशे की लत को कम करने के लिए, वनों पर दबाव कम करना और सामाजिक लाभों को बढ़ाना

    3. स्वच्छता शौचालयों को बायोगैस संयंत्रों से जोड़कर गांवों में स्वच्छता में सुधार करना

    राष्ट्रीय बायोगैस और खाद प्रबंधन कार्यक्रम के घटक

    1. बायोगैस संयंत्रों के स्वदेशी रूप से विकसित मॉडल को बढ़ावा दिया जायेगा।

    2. राज्यों ने कार्यान्वयन के लिए नोडल विभाग और नोडल एजेंसियां नामित की हैं। इसके अलावा, खादी और ग्रामोद्योग आयोग, मुंबई; राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड, आनंद (गुजरात), और राष्ट्रीय और क्षेत्रीय स्तर के गैर-सरकारी संगठन कार्यान्वयन में शामिल हैं।

    3. परियोजना में उपयोगकर्ताओं को केंद्रीय सब्सिडी, उद्यमियों को मुख्य कार्य शुल्क, राज्य नोडल विभागों / एजेंसियों को सेवा शुल्क और प्रशिक्षण और प्रचार के लिए समर्थन सहित विभिन्न प्रकार के वित्तीय प्रोत्साहन दिया जायेगा।

    4. विभिन्न प्रकार के प्रशिक्षण कार्यक्रमों का समर्थन किया जाता है। नौ प्रमुख राज्यों में कार्यरत बायोगैस विकास और प्रशिक्षण केंद्र, राज्य नोडल विभागों और नोडल एजेंसियों को तकनीकी और प्रशिक्षण प्रदान करते हैं।

    5. वाणिज्यिक और सहकारी बैंक कृषि प्रधान क्षेत्र के तहत बायोगैस संयंत्र स्थापित करने के लिए ऋण प्रदान करते हैं। राष्ट्रीय कृषि और ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड) बैंकों को स्वचालित पुनर्वित्त की सुविधा प्रदान कर रहा है।

    राष्ट्रीय ई-गतिशीलता कार्यक्रम क्या है?

    Loading...

    Register to get FREE updates

      All Fields Mandatory
    • (Ex:9123456789)
    • Please Select Your Interest
    • Please specify

    • ajax-loader
    • A verifcation code has been sent to
      your mobile number

      Please enter the verification code below

    Loading...
    Loading...