Search

वित्त मंत्रालय ने एक रुपये का नया नोट छापना क्यों शुरू किया है?

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) एक रुपये के नोट को छोड़कर सभी मूल्यवर्ग के करेंसी नोट छापता है. एक रुपये का नोट वित्त मंत्रालय द्वारा छापा जाता है. भारत सरकार के वित्त मंत्रालय ने फैसला किया है कि एक रुपये का नया नोट फिर से छापा जायेगा. आइये इस लेख में जानते हैं कि सरकार ने नया एक रुपये का नोट छापना क्यों शुरू किया है और इस नोट की क्या क्या विशेषताएं हैं?
Feb 13, 2020 19:00 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon
New One Rupee Currency Note
New One Rupee Currency Note

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI), भारत में सर्वोच्च मौद्रिक अथॉरिटी है. RBI को 2 रुपये से लेकर 10,000 रुपये तक के नोटों को प्रिंट करने का अधिकार है. ज्ञातव्य है कि भारत में एक रुपये के नोट को RBI नहीं बल्कि वित्त मंत्रालय द्वारा छापा जाता है और इस पर वित्त मंत्रालय के वित्त सचिव के हस्ताक्षर होते हैं.

रिजर्व बैंक ने अपनी वार्षिक रिपोर्ट में कहा है कि 200 रुपये के नोट को छापने की लागत रु.2.93 है, 500 रुपये के नोट की छपाई लागत रु. 2.94, 2000 रुपये के नोट की छपाई में 3.54 रुपये का खर्च आता है और एक रुपये के नोट को छापने की लागत 2016 में 1.14 रुपया थी.

भारत में रुपया कैसे, कहां बनता है और उसको कैसे नष्ट किया जाता है?

ऐसे में अब यह सवाल उठता है कि जब सरकार को एक रुपये की करेंसी प्रिंट करने के लिए 1.14 रुपया खर्च करना पड़ता है तो फिर सरकार इसको क्यों प्रिंट करना चाहती है?

वित्त मंत्रालय ने एक रुपये का नया नोट छापना क्यों शुरू किया है? (Why one rupee note started printing)

भारत सरकार के वित्त मंत्रालय ने कुछ साल पहले 1 रुपये के करेंसी नोट्स को छापना बंद कर दिया था, क्योंकि उनकी प्रिंटिंग की लागत बढ़ गयी थी. अर्थात सरकार को एक रुपये की आमदनी होनी थी लेकिन उसको छापने की लागत 1.14 रुपये हो गयी थी.

लेकिन इसके साथ ही बाजार में एक रुपये के सभी नोट्स गायब हो गये और लोगों ने एक रुपये के नोटों को विलासिता की वस्तु (Luxury Goods) के रूप में स्टोर करना शुरू कर दिया, और एक रुपये के नोट्स रखना स्टेटस सिंबल हो गया.

one-rupee-note-sale-amazon

इस स्थिति में कुछ लोगों ने एक रुपये के नोट को काला-बाजारी के माध्यम से बेचना भी शुरू कर दिया था. यहाँ तक कि अमेज़न जैसी ई-कॉमर्स साईट पर एक रुपये का नोट बहुत महंगा बिकने लगा. अतः इस स्थिति से निपटने के लिए वित्त मंत्रालय ने एक रुपये के नए नोटों को छापने का निर्णय लिया है.

केंद्रीय वित्त मंत्रालय ने एक रुपये के करेंसी नोटों को छापने के लिए नियमों की अधिसूचना, गज़ट अधिसूचना 7 फरवरी, 2020 को जारी कर दी है. इस सूचना में इस नोट के बारे में बहुत सी डिटेल्स बताई गयी है. 

एक रुपये के नए नोट के बारे में; (Facts about One Rupee Note)

वैल्यू: ₹1

चौड़ाई: 97 मिमी

ऊँचाई: 65 मिमी 

वजन: 90 जीएसएम ग्राम 

पेपर टाइप: 100 फीसदी कॉटन 

रंग: एक रुपए के करेंसी नोट का पूरा रंग मुख्य रूप से गुलाबी हरे रंग का होगा.

नए एक रुपये के नोट के फीचर्स: (Features of One Rupee Note)

इस नोट पर अतनु चक्रवर्ती, सचिव, वित्त मंत्रालय के हस्ताक्षर हिंदी और अंग्रेजी में होंगे. इसमें नंबरिंग पैनल में 'सत्यमेव जयते' और कैपिटल इनसेट लेटर 'L' के साथ जारी किए गए हैं.  साथ ही नए रुपए के एक सिक्के की आकृति छपी होगी.

इसमें '₹'प्रतीक में अनाज का डिजाइन होगा, जो देश के कृषि प्रभुत्व को दर्शाएगा और आसपास के डिजाइन में तेल खोज मंच 'सागर सम्राट' की तस्वीर होगी और भाषा पैनल में पंद्रह भारतीय भाषाओं में मूल्य प्रिंट होगा. 

उम्मीद है कि नए एक रुपये के छपने से इस नोट कि कालाबाजारी बंद हो जायेगी और बहुत से बच्चों को फिर से एक रुपये के नोट को देखने का मौका मिलेगा. 

जानें भारत में 200, 500 और 2000 रुपये का एक नोट कितने रुपये में छपता है?

नोट पर क्यों लिखा होता है कि “मैं धारक को 100 रुपये अदा करने का वचन देता हूँ.