Search

Engineering Entrance Exams 2018: लास्ट 6 महीने में तैयारी करने के सुपर मन्त्र

इस लेख में हम आपको बताने जा रहें हैं कि स्टूडेंट्स कैसे अंतिम के कुछ महीनों में किसी भी  इंजीनियरिंग परीक्षा जैसे JEE Main, JEE Advanced, UPSEE/ UPTU, WBJEE, VITEEE, SRMJEE कि तैयारी कर सकते हैं | यह लेख सभी छात्रों को इंजीनियरिंग परीक्षा में अच्छे मार्क्स लाने में सहायता करेगा |

Mar 7, 2018 12:08 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
Engineering Entrance Examinations 2018
Engineering Entrance Examinations 2018

अब इंजीनियरिंग परीक्षा 2018 जैसे JEE, UPSEE/ UPTU, WBJEE, VITEEE, SRMJEE में लगभग छ: महीने शेष हैं|  । छात्रों ने भी परीक्षा में अपना सर्वश्रेष्ठ देने के लिए अपनी तैयारी शुरू कर दी है।  छात्र अलग-अलग तरीकों से अपने अध्ययन को आयोजित कर रहे हैं। Jagranjosh ने कोटा में एक इवेंट किया जिसमें  इंजीनियरिंग (Engineering) उम्मीदवारों ने अपनी योजनाओं और भविष्य की रणनीतियों के बारे में जानकारी दी।

IIT JEE 2018 : जरूर जाने JEE छात्रों द्वारा अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों के उत्तर

आइये विस्तार से जानते हैं इन मन्त्रों के बारे में :-

1. बोर्ड परीक्षा और इंजीनियरिंग परीक्षा के बीच एक बैलेंस स्थापित करना

इवेंट में अधिकांश छात्रों ने अपनी बोर्ड परीक्षा जैसे CBSE Board, UP Board  और इंजीनियरिंग परीक्षा जैसे JEE Main, JEE Advanced, UPSEE/ UPTU, WBJEE, VITEEE, SRMJEE के बीच संतुलन स्थापित करने में आने वाली समस्याओं के बारे में जानकारी दी। बोर्ड परीक्षा में केवल 12 का Syllabus पढ़ना होता है, परंतु  इंजीनियरिंग परीक्षा जैसे JEE Main, JEE Advanced, UPSEE/ UPTU, WBJEE, VITEEE, SRMJEE में कक्षा 11 और 12 का पूरा Syllabus पढ़ना होता है| जिसकी वजह से छात्रों को कक्षा 11 के Syllabus को पूरा करने और उसका अभ्यास करने में कुछ समय देना  पड़ता है। अधिकतर छात्र मानते हैं कि उन्हें बोर्ड परीक्षा पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए जिससे छात्र 75 प्रतिशत(percent) नंबर(marks) ला कर  इंजीनियरिंग परीक्षा जैसे JEE Main के लिए  qualify कर सकें|

बोर्ड परीक्षा और JEE दोनों में करोगे टॉप अगर अपनाओगे ये 5 टिप्स

 2. दोहराने के लिए ज्यादा समय देना

इस इवेंट में छात्रों ने माना की उन्हें  Syllabus को दोहराने(revision) में ज्यादा ध्यान देना चाहिए| छात्र मानते हैं कि कुछ नया(new) टॉपिक(Topic) पढ़ने से अच्छा है कि पुराना टॉपिक फिर से दोहरा लें| एक छात्र ने कहा कि “यदि आप परीक्षा से पहले Syllabus को दोहराते  नहीं हैं तो आप पढ़े हुए विषयओं को भी पूरी तरह से परीक्षा में नहीं कर पातें हैं |

3. परीक्षा के लिए पहले से ही नोट्स बनाना

परीक्षा के कुछ दिन पहले आप पूरा Syllabus नहीं पढ़ सकते, इसलिए नोट्स बनाना बहुत जरुरी होता है| दोहराना केवल बनाए हुए नोट्स को पढना नहीं है, बल्कि हमें सारे महत्वपूर्ण टिप्स(Tips), नुमेरिकलस (numericals) को दोहराने चाहिए जिससे हम परीक्षा में सरलता से किसी भी प्रशन को हल कर सकें|

एक कोचिंग इंस्टीट्यूट ने बताया कि “परीक्षा में ऐसा देखा गया है कि जो छात्र किसी विषय को पढ़ते समय नोट्स नहीं बनाते वे परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण बिंदुओं को परीक्षा के समय पढना भूल जाते हैं |”

 

4. स्वयं पढना (Self Study)

इस इवेंट में कुछ छात्रों ने कहा कि अध्यापकों के Syllabus को पूरा करवाते ही वे अपने आप ही पढ़ना शुरू कर देते हैं| छात्रों ने यह भी बताया कि वे कुछ डाउट(doubt) आने पर ही अपने कोचिंग इंस्टीट्यूट जातें हैं जिससे उनका समय बच जाता है |

5. NCERT की किताबों को अनदेखा ना करना

एक प्रतिष्ठित कोचिंग संस्थान के छात्र ने बताया कि उनके अध्यापक कहते हैं कि उन्हें NCERT की किताबों पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए | अध्यापकों के अनुसार “ अगर छात्र बोर्ड परीक्षा में अच्छे मार्क्स लाते हैं तो वे निश्चित ही इंजीनियरिंग परीक्षा जैसे JEE Main, JEE Advanced, UPSEE/ UPTU, WBJEE, VITEEE, SRMJEE परीक्षा में अच्छे मार्क्स लाएंगे |”

NCERT की किताबें बोर्ड परीक्षा और इंजीनियरिंग परीक्षा जैसे JEE Main, JEE Advanced, UPSEE/ UPTU, WBJEE, VITEEE, SRMJEE दोनों के लिये हीं बहुत महत्वपूर्ण होती हैं | इंजीनियरिंग परीक्षा जैसे JEE Main, JEE Advanced, UPSEE/ UPTU, WBJEE, VITEEE, SRMJEE में लगभग 70 प्रतिशित प्रशन NCERT की किताबों में से हीं  आते हैं |

6. 3 घंटे में ही पुराने पेपर्स और सैंपल पेपर्स को पूरा करने की प्रैक्टिस करना

किसी भी छात्र को इंजीनियरिंग परीक्षा में सफल होने के लिए परीक्षा के कठिनाई स्तर और उसके पैटर्न का समझना बहुत आवश्यक होता है | छात्र पुराने पेपर्स और सैंपल पेपर्स के द्वारा इंजीनियरिंग परीक्षा जैसे JEE Main, JEE Advanced, UPSEE/ UPTU, WBJEE, VITEEE, SRMJEE के कठिनाई स्तर और उसके पैटर्न के बारे में अंदाजा लगा सकते हैं |

कोटा के ही एक कोचिंग संस्थान के अध्यापक ने बताया कि पुराने पेपर्स और सैंपल पेपर्स कि प्रैक्टिस करने से छात्रों अपने परीक्षा के डर को दूर भगा सकते हैं और इसके आलावा उन्हें उनकी इंजीनियरिंग परीक्षा जैसे JEE Main, JEE Advanced, UPSEE/ UPTU, WBJEE, VITEEE, SRMJEE में टाइम मैनेजमेंट( Time management) में भी सहयता मिलेगी |

7. स्वस्थ रहना

किसी भी व्यक्ति के लिए स्वस्थ रहना बहुत जरुरी होता है चाहे वह छात्र हो या कोई और | जबतक आप स्वस्थ नही है तबतक सारी चीज़ें आपके लिए बेकार हैं | जैसा की आप जानते है की स्वास्थ्य ही धन है(Health is Wealth).

एक कोचिंग संस्थान के अध्यापक ने छात्रों को कम से कम आधा घंटा दौड़ने को कहा जिससे उनका स्वास्थ ठीक रहे | इसके साथ साथ उन्होंने छात्रों को योग करने को भी कहा जिससे वो शारीरिक और मानसिक रूप दोने से स्वस्थ रहें|

8. अपने पूरे दिन कि गतिविधियों की एनालिसिस करना

छात्रों को अपनी बोर्ड परीक्षा और इंजीनियरिंग परीक्षा कि तैयारी में अपना थोडा भी समय बर्बाद नहीं करना चाहिए |

जब आप सोने के लिए जाते हो तो आपको अपने बीते हुए पूरे दिन के बारे में अध्ययन करना चाहिए और यह भी सोचना चाहिए कि कैसे अपना आने वाला दिन और अच्छा कर सकते हैं |  इस तरह आप अपना प्रत्येक दिन और अच्छा कर सकते हैं |

9. केवल IIT को ही अपना मकसद न बनाएं  

Jagranjosh द्वारा किये गए इस इवेंट में हमने जाना कि छात्र केवल IITs के बारे में ही नहीं सोचते बल्कि वे और भी विकल्प कि तालाश कर रहें हैं | अब छात्र इंजीनियरिंग कि नयी शाखाएं और नए कॉलेजों के बारे में सोच रहें हैं| जैसा कि हम जानते हैं कि आईआईटी(IIT) के कॉलेजों में एडमिशन पाने के लिए छात्र केवल दो ही पर्यास कर सकतें हैं किंतु छात्र अब पहले प्रयास में चयनित नहीं होने पर NIT और अन्य सरकारी इंजीनियरिंग परीक्षा(UPTU/ UPSEE, WBJEE, VITU etc) तथा इनके द्वारा मिलने वाले कॉलेजों की तलाश करते हैं।

IIT के अलावा इंजीनियरिंग करने के अन्य विकल्प

इंजीनियरिंग परीक्षा में अधिकतम अंक प्राप्त करने के लिए 9 सरल टिप्स

UPSEE के माध्यम से मिलने वाले टॉप इंजीनियरिंग कॉलेजों की लिस्ट

Related Stories