Search

IAS परीक्षा में विफल उम्मीदवारों के लिए 5 वैकल्पिक करियर

आईएएस की परीक्षा में विफल होना जीवन का अंत नहीं बल्कि एक नई शुरुवात हो सकती है. आईएएस परीक्षा में विफल हुए अभ्यर्थी के लिए बहुत सी संभावनाएं होती है जो की हम यहाँ बता रहे हैं

Dec 15, 2016 17:50 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

Life after IAS

आईएएस बनने की इच्छा रखने वाले किसी भी उम्मीदवार के लिए यह काफी निराशाजनक सोच हो सकती है लेकिन इस प्रतिष्ठित परीक्षा में विफल होने पर आपके पास एक बैकअप प्लान होना ही चाहिए. आंकड़ों के आधार पर बात करें तो आमतौर पर यूपीएससी की सिविल सेवा परीक्षा पास करना और विशेष रूप से IAS के तौर पर चुना जाना उम्मीद्वारों के लिए बहुत मुश्किल है. इस परीक्षा में सफलता की कम संभावना (सामान्यतया 0.2%) की वजह से IAS की परीक्षा को दुनिया के सबसे कठिन भर्ती परीक्षाओँ में रखा गया है. प्रत्येक वर्ष इस परीक्षा में करीब 3 लाख परीक्षार्थी शामिल होते हैं. इनमें से सिर्फ 700/800 परीक्षार्थी ही अंतिम चरण तक पहुंच पाते हैं और जरूरी नहीं है कि उन्हें पसंद की नौकरी मिल ही जाए. सफलता के इन उच्च बाधाओं के बावजूद प्रत्येक वर्ष नए परीक्षार्थी परीक्षा पास करने की इस दौड़ में शामिल हो जाते हैं.

Read in English

जैसा कि आपको कई लोगों ने बताया होगा, आईएएस की तैयारी एक प्रक्रिया नहीं बल्कि जीने का तरीका है. परीक्षा में प्रयास करने की संख्या को समाप्त करने या इसकी तैयारी करने की इच्छाशक्ति खत्म हो जाने के बाद आपको जीवन और करिअर के बीच तालमेल बिठाने की कोशिश करनी होती है. ऐसी परिस्थितियों में कई असफल उम्मीदवार उदासी और हताशा का शिकार हो जाते हैं. सकारात्मक सोंच और परीक्षा पास करने की अपनी क्षमता पर विश्वास बनाए रखना सफलता की कुंजी है l यदि आपकी योजना के अनुसार नतीजे न मिलें तो यह वैकल्पिक करिअर योजना को नुकसान नहीं पहुंचाता. नीचे, हम प्रतिष्ठित परीक्षा के तैयारी चरण पूरा करने के बाद आईएएस उम्मीदवारों  के करिअर अवसरों पर चर्चा करेंगे.

आईएएस बनने की प्रेरक कहानियाँ

केंद्र सरकार की अन्य भर्ती परीक्षाएं

यदि आईएएस के तौर पर अपने करिअर को चुनने का मुख्य कारण देश की सेवा है तो आपने सब कुछ नहीं गंवाया है. सिविल सेवा परीक्षा के अलावा केंद्र सरकार भारतीय नौकरशाही में मध्यम– स्तर के पदों पर भर्ती हेतु अनेक भर्ती परीक्षाएं आयोजित करती है. इनमें भारतीय वन सेवा (आईएफएस), भारतीय इंजीनियरिंग  सेवा (आईईएस), असिस्टेंट सेंट्रल इंटेलिजेंस ऑफिसर (एसीआईओ) और सेंट्रल आर्म्ड पुलिस फोर्सेस (सीएपीएफ) शामिल हैं. हालांकि बैकअप करिअर विकल्प के तौर पर ये विकल्प आईएएस उम्मीदवारों के लिए सबसे उपर आने वाले विकल्प  हैं फिर भी इन चार विकल्पों के अलावा कई अन्य अवसर भी उपलब्ध हैं. केंद्र सरकार की अन्य भर्ती परीक्षा को विकल्प के तौर पर चुनने का एक मुख्य लाभ यह भी है कि गहन तैयारी और जानकारी का आधार आपको इन परीक्षाओं में आसानी से सफलता दिलाने में मदद करेगा. इसके साथ ही न्यून प्रतिस्पर्धा अनुपात और सफलता की उच्च संभावना आईएएस के बाद उम्मीदवारों के लिए बहुत अच्छा करिअर विकल्प है.

आईएएस बनने के लिए सबसे अच्छा स्नातक कोर्स

कर्मचारी चयन आयोग की नौकरियां

हालांकि तकनीकी रूप से यह पहले वाले प्वाइंट के दायरे में आता है लेकिन इसकी लोकप्रियता के कारण हमने इसे अलग से सूची में रखा है. कर्मचारी चयन आयोग सरकार द्वारा चलाई जाने वाली एजेंसी है जो अलग –अलग सरकारी विभागों में कर्मचारियों की नियुक्ति करती है. एसएससी भारत सरकार के विभिन्न मंत्रालयों/ विभागों में ग्रुप बी और गैर– तकनीकी ग्रुप– सी के पदों पर भर्ती हेतु परीक्षा लेता है. एजेंसी एसएससी सीजीएल (  Combined Graduate Level) परीक्षा आयोजित करती है ताकि केंद्र सरकार द्वारा अलग– अलग डेस्क और फिल्ड जॉब के लिए उम्मीदवारों की भर्ती कर सकें .

  • एसएससी सीजीएल डेस्क जॉबः मंत्रालय में असिस्टेंट, ऑडिटर, टैक्स असिस्टेंट, अकाउंटेंट और अपर डिविजन क्लर्क
  • एसएससी सीजीएल फील्ड जॉबः टैक्स इंस्पेक्टर, एग्जामीनर, प्रिवेंटिव ऑफिसर्स, असिस्टेंट इंफोर्समेंट ऑफिसर, सीबीआई इंस्पेक्टर, एनआईए इंस्पेक्टर, नारकोटिक्स इंस्पेक्टर/ सब– इंस्पेक्टर

एसएससी द्वारा दी जाने वाली सभी नौकरियां विभिन्न सरकारी विभागों और मंत्रालयों में प्रशासनिक कार्यों हेतु जूनियर से मध्यम– स्तर के पदों की नौकरियां होती हैं. आईएएस की तैयारी करने वाले कई छात्र सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी के लिए पैसों की कमी को दूर करने हेतु एसएससी डेस्क जॉब करना पसंद करते हैं.

राज्य स्तरीय लोक सेवा आयोग की नौकरियां

यूपीएससी के अलावा वैसे छात्र जो बदलाव लाने के लिए सरकारी तंत्र में शामिल होना चाहते हैं, राज्य स्तर की लोक सेवा आयोग की नौकरियों का विकल्प भी चुन सकते हैं. आईएएस या किसी अन्य लोक सेवा प्रोफाइल के समकक्ष तो ये नौकरियां नहीं होतीं लेकिन कम प्रतिस्पर्धा ( मुख्य रूप से अधिवास प्रतिबंध के कारण) और औसतन सफल होना आसान होने की वजह से राज्य पीसीएस बेहतरीन विकल्प साबित होते हैं. इसके अलावा सिविल सेवा परीक्षा और राज्य पीसीएस परीक्षा का प्रारूप और यहां तक कि सिलेबस भी कमोबेश एक जैसा ही होता है. आएएस के बाद सरकारी क्षेत्र में सम्मानजनक करिअर बनाने की इच्छा रखने वालों के लिए यह इसे उम्मीदवारों के लिए आदर्श विकल्प बनाता है. राज्य पीसीएस परीक्षा पास करने के बाद उम्मीदवार राज्य सरकार के प्रशासनिक तंत्र में मध्यम से उच्च स्तर के पद पर नियुक्त किए जा सकते हैं.

आईएएस और पीसीएस में अंतर

बैंकिंग

उपर उल्लिखित सभी विकल्पों को समाप्त कर चुके या मुख्यधारा की सरकारी नौकरशाही का हिस्सा बनने में रूची नहीं रखने वाले उम्मीदवारों के लिए बैंकिंग क्षेत्र आदर्श है. सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक नियमित रूप से क्लर्कियल के साथ– साथ प्रोबेशनरी ऑफिसर स्तर की रिक्तियों की घोषणा करते रहते हैं. प्रतियोगी परीक्षा के माध्यम से भर्ती होती है. बेहद उच्च प्रतिस्पर्धी प्रकृति के होने के बावजूद बैंक की नौकरियों के लिए होने वाली भर्ती परीक्षाएं वित्त, अर्थव्यवस्था, लेखा और सामान्य जागरुरकता विषयों से संबंधित होती हैं. परीक्षा में रीजनिंग, न्यूमेरिकल एबिलिटी और लॉजिकल रीजनिंग भी पूछी जाती है. आईएएस प्रत्याशी होने के नाते आप पहले से ही इन विषयों के बारे में जान रहे होते हैं और इन खंडों के प्रश्नों को हल करने की गहन प्रशिक्षण प्राप्त कर चुके होते हैं. इसलिए आईएएस के सपनों को छोड़ने वाले उम्मीदवारों के लिए बैंक की नौकरी भी अच्छा करिअर विकल्प है.

शिक्षण

वैसे उम्मीदवारों के लिए जिन्हें शिक्षण और जटिल अवधारणाओँ को आसानी से समझने और दूसरों की मदद करने में गहरी रूचि है, शिक्षण बेहतरीन करिअर विकल्प है. यदि आपके पास टीईटी/ नेट करने के लिए अनिवार्य शैक्षणिक योग्यता है और स्नातक में आपके ग्रेड काफी अच्छे रहे हैं तो आप स्कूलों या कॉलेजों में औपचारिक पेशे के तौर पर शिक्षण का विकल्प चुन सकते हैं. हालांकि शिक्षण के एप्टीट्यूड वाले उम्मीदवारों के पास आईएएस कोचिंग संस्थानों में पढ़ाने और दूसरे उम्मीदवारों को आईएएस अधिकारी बनने के सपनों को साकार करने में मदद करने का भी विकल्प है. आईएएस की तैयारी के चरण के दौरान आपने कई विषयों का विस्तार से अध्ययन किया है और वही अध्ययन दूसरों को सफल होने के लिए मार्गदर्शन करने में मदद करेगा. हालांकि यह एंटीक्लाइमैक्स जैसा लग सकता है लेकिन आईएएस कोचिंग सेंटर में पढ़ाना उम्मीदवारों के लिए पैसे के लिहाज से काफी अच्छा साबित हो सकता है.

आईएएस में सफलता हेतु याद्दाश्त बढ़ाने के शीर्ष 10 तरीके

उपर दी गई सूची बहुत सीमित है और इसमें सिर्फ शीर्ष 5 विकल्पों को शामिल किया गया है जिन्हें आईएएस उम्मीदवार वैकल्पिक करिअर के रूप में चुनना पसंद करते हैं लेकिन यदि हम दायरे को बढ़ाएं तो करिअर के कई विकल्प  जैसे बिजनेस, एमबीए, निजी क्षेत्र की नौकरियां आदि इसमें आ जाएंगीं और उम्मीदवार आईएएस की तैयारी के बाद इन नौकरियों के विषय में भी विकल्प के तौर पर विचार कर सकते हैं.

IAS अधिकारी का वेतन, भत्ते एवं अन्य सुविधाएं

Related Stories