सीबीएसई बोर्ड परीक्षा के लिए फ्री काउन्सलिंग सर्विस: इन माध्यमों से विद्यार्थी उठा सकते हैं लाभ

इस लेख में आप जानेंगे सीबीएसई द्वारा दी जाने वाली काउंसलिंग सर्विस के बारे में जिसकी मदद से विद्यार्थी अपनी एग्जाम सम्बंधित समस्याओं के लिए सीबीएसई के विशेष शिक्षकों व ट्रेन्ड काउंसलर्स से निशुल्क मदद ले सकते हैंl यहाँ आप जानेंगे किन माध्यमों द्वारा सीबीएसई की इस सेवा का लाभ उठाया जा सकेl

Created On: Feb 4, 2019 17:22 IST
Different Modes to Avail CBSE’s Counseling Services
Different Modes to Avail CBSE’s Counseling Services

सीबीएसई कक्षा 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं शुरू होने में अब कुछ ही दिन बचे हैं. ऐसे में हर विद्यार्थी अपनी तैयारिओं को फाइनल टच देने में व्यस्त होगा. लेकिन बहुत बार देखा गया है कि परीक्षा से संबंधित दबाव के चलते विद्यार्थी तनाव में आ जाते हैं जिसका सीधा असर उनकी एग्जाम के लिए की जाने वाली तैयारी पर तो पड़ता ही है बल्कि साथ ही उनकी सेहत भी बुरी तरह से प्रभावित होती है. स्थिति को समझते हुए, सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन (सीबीएसई) हर साल बोर्ड परीक्षा शुरू होने से पहले अपने स्टूडेंट्स और उनके पेरेंट्स के लिए एक साइकलॉजिकल काउंसलिंग सेशन रखता है, जिसके तहत एग्जाम की तैयारी से लेकर एग्जाम के स्ट्रेस को दूर करने तक के लिए सीबीएसई द्वारा नियुक्त किये गए एक्सपर्ट्स, स्टूडेंट्स व उनके पेरेंट्स द्वारा पूछे जाने वाले प्रश्नों को संबोधित करते हैं.

इस बार भी सीबीएसई प्री-एग्जाम काउंसलिंग 1 फ़रवरी, 2019 से शुरू कर दी गयी है जो कि 4 अप्रैल, 2019 तक जारी रहेगी.

यहाँ हम सीबीएसई द्वारा चलाई जाने वाली प्री-बोर्ड काउंसलिंग का फ़ायदा उठाने के लिए मौजूद विभिन्न माध्यमों के बारे में जानेंगे जिनकी मदद से हर विद्यार्थी घर बैठे ही अपने मन में उठने वाले प्रश्नों व शंकाओं के बारे में एक्सपर्ट्स से बात कर सकता है और अपनी समस्या का समाधान पा सकता है.

सीबीएसई प्री-बोर्ड काउंसलिंग सर्विस के लिए विभिन्न माध्यम ये हैं:

1. टेलिकाउंसलिंग

विद्यार्थियों की परीक्षा से जुड़ी दिक्कतों पर चर्चा करने व सुझाव देने के लिए देशभर के सीबीएसई से एफिलिएटेड स्कूलों से चुने गए प्रिंसिपल्स और ट्रेन्ड काउंसलर्स टेलिकाउंसलिंग की फ्री सर्विस देते हैं. इस बार सीबीएसई की यह काऊंसलिंग सेवा 87 काऊंसलरों के द्वारा दी जाएगी जिसमें 65 काऊंसलर भारत में, 22 काऊंसलर विदेश के स्कूलों के लिए तथा 2 काऊंसलर स्पेशल एजुकेटर होंगे.

बोर्ड एग्जाम से जुड़ी ये बातें अक्सर बन जाती हैं विद्यार्थियों के दिमाग का डर

2. टोल फ्री नंबर

देशभर के किसी भी हिस्से से स्टूडेंट्स या पैरंट्स सीबीएसई के टोल फ्री नंबर 1800 11 8004 को डायल कर अपनी समस्या के लिए मदद ले सकते हैं. विद्य्राथियों की आम समस्याएं operators द्वारा ही हल की जाती हैं जबकि एग्जाम स्ट्रेस व चिंता से जुड़े सवालों के जवाब के लिए स्टूडेंट को प्रिंसिपल या काउंसलर से कनेक्ट कर दिया जाता है. यह सुविधा सुबह 8 बजे से रात 10 बजे तक हफ्ते के सातों दिन जारी रहती है.

3. सीबीएसई वेबसाइट

अपनी वेबसाइट को और आकर्षित तरीके से पेश करते हुए, सीबीएसई बोर्ड इस बार पहली बार आडियो वीडियो प्रजेंटेशन के माध्यम से बोर्ड परीक्षा देने वाले छात्रों की काऊंसलिंग करने जा रहा है. इसका नाम बोर्ड ने ‘Knowing Children Better’ दिया है जिसके तहत काउंसलिंग से संबंधित जानकारी वेबसाइट पर अपलोड की जाएगी. छात्र सीबीएसई की वेबसाइट, www.cbse.nic.in.  पर जाकर ‘Counselling’ टैब को खोलकर इस सेवा का लाभ उठा सकेंगे.

3. ऑनलाइन काउंसलिंग

सीबीएसई के आधिकारिक  ऑनलाइन  अकाउंट counselling.cecbse@gmail.com पर स्टूडेंट्स या पैरंट्स अपनी समस्या मेल कर सकते हैं, जिनके जवाब एक्सपर्ट्स की ओर से दिए जाएंगे.

4. प्रश्न-उत्तर कॉलम

सीबीएसई की इस सुविधा के तहत एग्जाम एक्सपर्ट्स किसी जाने-माने राष्ट्रीय अख़बार में प्रकाशित होने वाले साप्ताहिक प्रश्न-उत्तर कॉलम के द्वारा विद्यार्थियों और पेरेंट्स की समस्याओं को सुलझाने में मदद करेंगे.

अपनी इस फ्री काउंसलिंग सेवा के माध्यम से अपने विद्यार्थियों से सीधे संपर्क करते हुए उनकी समस्याओं व मुश्किलों को जानने की यह कोशिश सीबीएसई की तरफ से उठाया जाने वाला सबसे महत्वपूर्ण कदम है जिससे विद्यार्थियों में तनाव कम करते हुए उन्हें अपने बोर्ड एग्जाम में बेहतरीन प्रदर्शन करने का मौका दिया जाता है.

बच्चों की बोर्ड की परीक्षा के दौरान माता पिता ज़रूर जाने अपनी भूमिका

Related Categories

    Comment (0)

    Post Comment

    4 + 5 =
    Post
    Disclaimer: Comments will be moderated by Jagranjosh editorial team. Comments that are abusive, personal, incendiary or irrelevant will not be published. Please use a genuine email ID and provide your name, to avoid rejection.