Search

जानिए उन 5 प्रसिद्ध CAs के बारे में जो बन गए हैं लोकप्रिय पॉलिटिशियन्स

CA अर्थात चार्टर्ड एकाउंटेंट्स का पेशा काफी पसंदीदा पेशा है. इसी तरह, भारत की राजनीति और समाज में पॉलिटिशियन्स को भी काफी महत्वपूर्ण समझा जाता है. इसलिए, यहां कुछ ऐसे फेमस इंडियन पॉलिटिशियन्स के बारे में पढ़ें जो पेशे से हैं चार्टर्ड एकाउंटेंट्स.  

May 27, 2019 19:02 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
Know about 5 Famous CAs who have become Famous Politicians
Know about 5 Famous CAs who have become Famous Politicians

CA इकॉनमी के हरेक हिस्से में काम करते हैं, चाहे वह काम कैसा भी हो या फिर, किसी भी किस्म की इंडस्ट्री से संबद्ध हो. ये पेशेवर हमारी इकॉनमी की बैकबोन हैं और फाइनेंशल मैटर्स को मैनेज करने के लिए सलाह और फाइनेंशल एक्सपर्टाइज उपलब्ध करवाते हैं. CA एक ऐसा एक्सपर्ट होता है जो विभिन्न क्लाइंट्स जैसेकि, व्यक्ति, बिजनेस हाउसेज और मैनेजमेंट कंसल्टेंसीज को एकाउंटेंसी, ऑडिट और टैक्स सर्विसेज उपलब्ध करवाता है. अगर आप किसी फाइनेंशल इशू में फंस गये हैं तो CAs आपको इस फाइनेंशल मेस से निकलने में मदद करेंगे. चाहे वह जीएसटी रिफार्म हो या सरकार की टैक्सेशन पॉलिसी में कोई बदलाव हो, सैलरी से संबंधित मामले हों या फिर, टैक्स मनी को बचाने के तरीके ही हों, ये पेशेवर आपको बचाने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं. इस पेशे में तरक्की की काफी संभावनाएं होती हैं. हमारे देश में किसी फ्रेशर चार्टर्ड अकाउंटेंट को एवरेज 5.5 लाख रुपये सालाना मिलते हैं और एक्सपीरियंस्ड CAs एवरेज 27 लाख रुपये सालाना या उससे अधिक तक कमा लेते हैं. हमारे देश में कई ऐसे चार्टर्ड एकाउंटेंट्स हैं जिन्होनें CA की स्टडीज पूरी करने के बाद भी अपने इंटरेस्ट के मुताबिक कोई अन्य पेशा चुन लिया है जैसेकि, शेखर कपूर एक्टर - डायरेक्टर और प्रोडूसर बन गए, स्वामीनाथन गुरुमूर्ति -जर्नलिस्ट और चार्टर्ड एकाउंटेंट बन गए. इसके अलावा, अरुण पुरी - इंडिया टुडे ग्रुप के एडिटर-इन-चीफ और श्याम पाठक - कॉमेडियन और एक्टर हैं.

इसी तरह, वैसे तो एक सफल और लोकप्रिय पॉलिटिशियन या नेता बनने के लिए भारत के संविधान के मुताबिक किसी विशेष एजुकेशनल क्वालिफिकेशन या डिग्री की जरूरत नहीं है. राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर जाने-माने खिलाड़ी, एक्टर्स, सोशल वर्कर्स, साइंटिस्ट्स, आर्टिस्ट्स, डॉक्टर्स, वकील, CAs जैसे पेशेवर भारत में किसी पोलिटिकल पार्टी जैसेकि, भारतीय जनता पार्टी, कांग्रेस, आम आदमी पार्टी, समाजवादी पार्टी, बहुजन समाजवादी पार्टी आदि की तरफ से या इंडिपेंडेंट कैंडिडेट के तौर पर राज्य विधानसभा या लोकसभा के चुनाव में हिस्सा लेकर MLA अर्थात मेम्बर ऑफ़ लेजिस्लेटिव असेंबली, MP अर्थात मेम्बर ऑफ़ पार्लियामेंट बन कर देश के जाने-माने पॉलिटिशियन्स बन सकते हैं. हमारे देश के पॉलिटिशियन्स का सबसे प्रमुख कार्य देश और जनता की सेवा और जन-कल्याण के कार्य करना है. इसलिए आज हम इस आर्टिकल में आपके लिए भारत के कुछ ऐसे प्रमुख पॉलिटिशियन्स के बारे में जानकारी पेश कर रहे हैं जो पेशे से सुप्रसिद्ध CAs हैं. आइये आगे पढ़ें:   

पीयूष गोयल

ये भारत के जाने-माने CA हैं जिन्हें अपने न्युमरेसी स्किल्स के कारण खास पहचान मिली है. वर्ष 2019 के इलेक्शन रिजल्ट्स से पहले ही इन्होंने भारतीय जनता पार्टी को लोकसभा इलेक्शन्स में 292 – 303 सीट्स मिलने की संभावना जताई थी. CA एग्जाम में इन्हें ऑल इंडिया 2न्ड रैंक मिला था. मुंबई यूनिवर्सिटी से इन्हें लॉ में भी 2न्ड रैंक मिला था. मौजूदा समय में ये भारत के मिनिस्टर ऑफ़ रेलवे एंड कोल हैं. पूर्व में इन्होंने यूनियन मिनिस्टर ऑफ़ पॉवर तथा यूनियन मिनिस्टर ऑफ़ न्यू एंड रिन्यूएबल एनर्जी के तौर पर भी कार्य किया था.   

सुरेश प्रभाकर प्रभू

भारत के जाने-माने चार्टर्ड एकाउंटेंट सुरेश प्रभाकर प्रभू एक फेमस इंडियन पॉलिटिशियन हैं जो पहले मिनिस्ट्री ऑफ़ रेलवे, मिनिस्ट्री ऑफ़ पॉवर एंड हैवी इंडस्ट्रीज और अन्य कई मंत्रालयों में बहुत बार मंत्री रह चुके हैं और इस समय मिनिस्टर ऑफ़ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री और मिनिस्टर ऑफ़ सिविल एविएशन की पोस्ट पर कार्य कर रहे हैं. ये पेशे से एक चार्टर्ड एकाउंटेंट हैं और इंस्टीट्यूट ऑफ़ चार्टर्ड एकाउंटेंट ऑफ़ इंडिया के मेंबर हैं. CA एग्जाम में इन्हें AIR 11थ रैंक मिला था. इन्होंने वर्ष 1996 में शिव सेना ज्वाइन की थी और वर्ष 2014 में भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गये थे.

डॉ. किरीट सोमय्या

ये भारतीय जनता पार्टी (BJP) के लीडर, चार्टर्ड एकाउंटेंट और पीएचडी डिग्री होल्डर हैं. किरीट सोमय्या मेंबर ऑफ़ पार्लियामेंट, BJP के नेशनल सेक्रेटरी होने के साथ ही पूर्व में मेंबर ऑफ़ लेजिस्लेटिव असेंबली,  महाराष्ट्र, वाईस प्रेजिडेंट – महाराष्ट्र BJP, प्रेजिडेंट – मुंबई BJP एंड भारतीय जनता युवा मोर्चा जैसे महत्वपूर्ण पोलिटिकल रोल्स भी अच्छी तरह निभा चुके हैं. 12 फरवरी, 1954 को मुंबई में जन्मे डॉ. किरीट सोमय्या ने वर्ष 1979 में इंस्टीट्यूट ऑफ़ चार्टर्ड एकाउंटेंट ऑफ़ इंडिया (ICAI) से चार्टर्ड एकाउंटेंट का कोर्स पूरा किया और इन्हें ऑल इंडिया मेरिट लिस्ट में रैंक भी मिला. वर्ष 2005 में इन्हें मुंबई यूनिवर्सिटी से फाइनेंस – कैपिटल मार्केट – स्मॉल इन्वेस्टर्स प्रोटेक्शन टॉपिक पर डॉक्टरेट की डिग्री मिली. इन्होंने 2 वॉल्यूम्स में 1202 पेजेज का सबसे लंबा थीसिस सबमिट किया.  

नरेश गुजराल

शिरोमणि अकाली दल (SAD) के सीनियर पॉलिटिशियन और पार्लियामेंटेरियन नरेश गुजराल ने भी ICAI, दिल्ली से फ़ेलो चार्टर्ड एकाउंटेंट (FCA) का कोर्स किया है. इसके अलावा, इन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी से BA की डिग्री भी हासिल की है. ये भारत के पूर्व प्रधानमंत्री इन्दर कुमार गुजराल के बेटे हैं और इस समय राज्य सभा में MP हैं. वर्ष 2010 से ये राज्य सभा में पंजाब का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं.

के. रहमान खान

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के सदस्य के. रहमान खान एक सीनियर पॉलिटिशियन हैं जो पूर्व में यूनियन मिनिस्टर ऑफ़ माइनॉरिटी अफेयर्स और राज्य सभा के पूर्व डिप्टी चेयरमैन रह चुके हैं. इस समय ये राज्य सभा में MP – कर्नाटक स्टेट हैं. इन्होंने मैसूर यूनिवर्सिटी से कॉमर्स में ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल की तथा ICAI से फ़ेलो चार्टर्ड एकाउंटेंट का कोर्स पूरा किया और इस तरह ये कर्नाटक स्टेट के पहले मुस्लिम चार्टर्ड एकाउंटेंट बन गये. इन्होंने 10 वर्षों से भी अधिक समय तक ICAI में डायरेक्टर ऑफ़ दी  एकाउंटिंग रिसर्च फाउंडेशन के तौर पर भी काम किया.

आप ऐसे और ज्यादा इनफॉर्मेटिव आर्टिकल्स पढ़ने के लिए हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर नियमित तौर पर विजिट करते रहें.  

Related Stories