Search

रोबोटिक्स: यंग इंडियन्स के लिए एलिजिबिलिटी और करियर स्कोप

मॉडर्न वर्ल्ड अपने दिन-प्रतिदिन के काम पूरे करने के लिए रोबोटिक्स का  ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करने की कोशिश कर रहा है. आप भी रोबोटिक्स में अपना करियर बना सकते हैं क्योंकि दुनिया भर में इसका भविष्य बहुत उज्ज्वल है. भारत में रोबोटिक्स के बारे में अधिक जानकारी हासिल करने  के लिए पढ़ें यह आर्टिकल.

Feb 3, 2020 18:42 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
Robotics: Eligibility and Career Scope for Young Indians
Robotics: Eligibility and Career Scope for Young Indians

आजकल के इस विज्ञान और टेक्नोलॉजी के युग में रोबोटिक्स हमारे लिए कोई नया शब्द नहीं है. आजकल देश-दुनिया के लोग अपने रोजमर्रा के जीवन और कारोबार में बड़े पैमाने पर रोबोट्स का इस्तेमाल कर रहे हैं. एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में इंडस्ट्रियल रोबोट्स का इस्तेमाल लगातार बढ़ रहा है और रोबोट्स के इस्तेमाल के मामले में भारत दुनिया-भर के देशों में 11वें स्थान पर है. भारत के ‘मेक इन इंडिया’ कॉन्सेप्ट के तहत अब भारत रोबोटिक्स की फील्ड में पूरे विश्व में अमरीका और चीन के बाद तीसरे स्थान पर सबसे बड़ा स्टार्टअप टेक्नोलॉजी बेस है. अगर आप भी रोबोटिक्स की फील्ड में अपना करियर बनाना चाहते हैं तो इस आर्टिकल में आपके लिए जरुरी जानकारी पेश है.

रोबोटिक्स क्या है?

रोबोटिक्स में रोबोट से संबद्ध टेक्नोलॉजी की स्टडीज़ और एप्लीकेशन्स को शामिल किया जाता है. रोबोट दरअसल ऐसी मशीन होती है जो कंप्यूटर के कंट्रोल के तहत विभिन्न किस्म के ऐसे काम करती है, जिन कामों के लिए उस रोबोट मशीन को डिज़ाइन किया गया हो.

रोबोटिक्स: एलिजिबिलिटी और क्वालिफिकेशन

भारत में ग्रेजुएशन लेवल पर विभिन्न रोबोटिक्स कोर्सेज में एडमिशन लेने के लिए स्टूडेंट्स ने किसी मान्यताप्राप्त एजुकेशनल बोर्ड से अपनी 12वीं क्लास साइंस स्ट्रीम (फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथ्स) सहित पास की हो. रोबोटिक्स में पोस्टग्रेजुएशन कोर्सेज के लिए स्टूडेंट्स ने अपनी बैचलर डिग्री मैकेनिकल, इलेक्ट्रिकल, इलेक्ट्रॉनिक्स, इंस्ट्रूमेंटेशन एंड कंट्रोल और इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग में हासिल की हो. स्टूडेंट्स को रोबोटिक्स में ग्रेजुएशन/ पोस्ट ग्रेजुएशन लेवल के विभिन्न कोर्सेज करने के लिए GATE/ BITSAT, JEE (Main), JEE (Advanced) और SRMHEEE(PG) जैसे एंट्रेंस एग्जाम पास करने होते हैं.

आईटी जॉब्स में बेहतर भविष्य के लिए आवश्यक 20 स्किल्स

भारत में रोबोटिक्स से संबंधित विभिन्न एजुकेशनल कोर्सेज निम्नलिखित हैं:

  • बीई – रोबोटिक्स
  • एमई – रोबोटिक्स
  • एमई – मैकेनिकल (रोबोटिक्स एक विषय के तौर पर)
  • बीएससी – कंप्यूटर साइंस
  • एमएससी – कंप्यूटर साइंस
  • बीटेक – आर्टिफीशल इंटेलिजेंस एंड रोबोटिक्स
  • एमटेक - आर्टिफीशल इंटेलिजेंस एंड रोबोटिक्स
  • बीटेक – मैकेनिकल इंजीनियरिंग
  • एमटेक – मैकेनिकल इंजीनियरिंग
  • एमटेक – ऑटोमेशन एंड रोबोटिक्स
  • एमई – ऑटोमेशन एंड रोबोटिक्स
  • डिप्लोमा – एम्बेडेड सिस्टम एंड रोबोटिक्स (ऑटोनोमस प्रोग्राम)

12 वीं के बाद साइंस स्टूडेंट्स के लिए 9 नए कोर्सेज

रोबोटिक्स: प्रमुख एजुकेशनल इंस्टीट्यूट्स

  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी (IIT), दिल्ली/ कानपूर/ हैदराबाद/ मद्रास/ रूड़की/ बॉम्बे
  • अन्ना यूनिवर्सिटी
  • DAV यूनिवर्सिटी
  • ओस्मानिया यूनिवर्सिटी
  • आचार्य इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी
  • नेताजी सुभाष इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, नई दिल्ली
  • बिरला इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी एंड साइंस, पिलानी
  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ़ साइंस, बैंगलोर
  • हिंदुस्तान इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी एंड साइंस
  • यूनिवर्सिटी ऑफ़ पेट्रोलियम एंड एनर्जी स्टडीज़, मुंबई/ देहरादून

रोबोटिक्स: करियर ऑप्शन्स/ जॉब प्रोफाइल्स

भारत में अगर आप रोबोटिक्स की फील्ड में अपना करियर शुरू करते हैं तो आप देश की बड़ी कंपनियों में रोबोट डिजाइनिंग और मेंटेनेंस से जुड़े विभिन्न काम कर सकते हैं. हमारे देश में रोबोटिक्स की फील्ड से जुड़े विभिन्न करियर/ जॉब प्रोफाइल्स निम्नलिखित हैं:

  • रोबोटिक्स प्रोग्रामर
  • रोबोटिक्स टेक्नीशियन
  • रोबोटिक टेस्टर
  • रोबोटिक स्पेशलिस्ट
  • रोबोट डिज़ाइन इंजीनियर
  • रोबोटिक्स सिस्टम इंजीनियर
  • रोबोट टेस्ट इंजीनियर
  • मेंटेनेंस इंजीनियर
  • कंसलटेंट एआई इंजीनियर
  • ड्रोन पायलट

रोबोटिक्स: करियर स्कोप

एक अनुमान के मुताबिक अगले 5 – 10 वर्षों में रोबोटिक्स की फील्ड में हमारे देश में जॉब और करियर के काफी अवसर उपलब्ध होंगे. अगर आप साइंस या इंजीनियरिंग में डिग्री होल्डर हैं और आपने इलेक्ट्रॉनिक्स, ऑटोमेशन या ड्रोन टेक्नोलॉजी में स्पेशलाइजेशन किया है तो आपके लिए आने वाले वर्षों में देश-दुनिया की रोबोट मैन्युफैक्चरिंग कंपनियों सहित ऐसी इंडस्ट्रीज़ और कंपनियों में भी जॉब के अनेक अवसर उपलब्ध होंगे जो अपने कामकाज में रोबोट्स का इस्तेमाल कर रही हैं. आप रोबोटिक्स की फील्ड से जुड़ा कोई स्टार्टअप भी शूरु कर सकते हैं. दरअसल, अभी भारत में रोबोट्स की डिजाइनिंग, डेवलपमेंट और प्रोग्रामिंग के लिए क्वालिफाइड, ट्रेंड और एक्सपीरियंस्ड प्रोफेशनल्स की काफी मांग है.  

सॉफ्टवेयर इंजीनियर के तौर पर करियर ऑप्शन

रोबोटिक्स: सैलरी पैकेज

हमारे देश में रोबोटिक्स से संबद्ध विभिन्न फ़ील्ड्स में पेशेवरों को शुरू में एवरेज 4 - 5 लाख रुपये सालाना का सैलरी पैकेज मिलता है. कुछ वर्षों के अनुभव के बाद ये पेशेवर एवरेज 1 -2 लाख रुपये मासिक या इससे अधिक कमाते हैं. इन पेशेवरों की एजुकेशनल क्वालिफिकेशन, टैलेंट और वर्क एक्सपीरियंस का सीधा असर इनके सैलरी पैकेज पर पड़ता है.  

रोबोटिक्स: भारत में टॉप रिक्रूटर्स

  • इसरो – इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गनाइजेशन
  • टेक महिंद्रा लिमिटेड
  • भेल – भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड
  • डीआरडीओ – डिफेन्स रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन
  • टाटा
  • बीएआरसी – भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर
  • आईआईटी – इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी

जॉब, इंटरव्यू, करियर, कॉलेज, एजुकेशनल इंस्टीट्यूट्स, एकेडेमिक और पेशेवर कोर्सेज के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने और लेटेस्ट आर्टिकल पढ़ने के लिए आप हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर विजिट कर सकते हैं.

 

Related Stories