दक्षिण अफ्रीका से भारत तक महात्मा गाँधी की यात्रा एवं उनके प्रयोग

मोहनदास करमचंद गांधी जिन्हें 'महात्मा गांधी या बापू' के नाम से जाना जाता है, का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को हुआ था। वे निस्संदेह एक महान व्यक्ति थे, व्यक्तिगत बल और राजनीतिक प्रभाव से भारत में स्वतंत्रता के संघर्ष के चरित्र को ढाला था। उनकी सत्याग्रह की अवधारणा की नींव सम्पूर्ण अहिंसा के सिद्धान्त पर रखी गयी थी जिसने भारत को आजादी दिलाकर पूरी दुनिया में जनता के नागरिक अधिकारों एवं स्वतन्त्रता के प्रति आन्दोलन के लिये प्रेरित किया। इस लेख में हमने दक्षिण अफ्रीका से भारत तक महात्मा गाँधी की यात्रा एवं उनके प्रयोगों पर चर्चा की है जो UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है।
Feb 1, 2019 13:13 IST

    मोहनदास करमचंद गांधी जिन्हें 'महात्मा गांधी या बापू' के नाम से जाना जाता है, का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को हुआ था। वे निस्संदेह एक महान व्यक्ति थे, व्यक्तिगत बल और राजनीतिक प्रभाव से भारत में स्वतंत्रता के संघर्ष के चरित्र को ढाला था। उनकी सत्याग्रह की अवधारणा की नींव सम्पूर्ण अहिंसा के सिद्धान्त पर रखी गयी थी जिसने भारत को आजादी दिलाकर पूरी दुनिया में जनता के नागरिक अधिकारों एवं स्वतन्त्रता के प्रति आन्दोलन के लिये प्रेरित किया।

    महात्मा गांधी: प्रारम्भिक जीवन

    इनका जन्म पश्चिमी भारत में वर्तमान गुजरात के एक तटीय शहर पोरबंदर नामक स्थान पर 2 अक्टूबर सन् 1869 को हुआ था। वे अपने पिता की चौथी पत्नी के सबसे छोटे संतान थे। करमचंद गांधी उनके पिता थे जो ब्रिटिश के अधीन पोरबंदर के मुख्यमंत्री के दीवान थे। पुतलीबाई उनकी मां थीं जो बहुत धार्मिक महिला थीं। उनकी परवरिश वैष्णववाद (हिंदू देवता विष्णु की पूजा) और जैन धर्म की छत्र छाया में हुई थी। इस प्रकार, उन्होंने अहिंसा (सभी जीवित प्राणियों के लिए कोई चोट नहीं), शाकाहार, आत्म-शुद्धि के लिए उपवास, और विभिन्न पंथों और संप्रदायों के अनुयायियों के बीच आपसी सहिष्णुता की समझ इस कदर विकसित हुई की उन्होंने इसका आचरण पुरे जीवन तक किया। वे श्रावण और हरिश्चंद्र की कहानियों से भी गहराई से प्रभावित थे क्योंकी इन कहानियों ने उन्हें सत्य के महत्व को दर्शाया था।

    उनकी शादी 13 साल की आयु पूर्ण करते ही उनका विवाह 14 साल की कस्तूरबा माखनजी से कर दिया गया। पोरबंदर से उन्होंने मिडिल और राजकोट से हाई स्कूल की पढाई की थी। दोनों परीक्षाओं में शैक्षणिक स्तर वह एक औसत छात्र रहे। मैट्रिक के बाद की परीक्षा उन्होंने भावनगर के शामलदास कॉलेज से बहुत ही मुश्किल से उत्तीर्ण हुए।

    अपने 19वें जन्मदिन से लगभग एक महीने पहले ही 4 सितम्बर 1888 को गांधी यूनिवर्सिटी कॉलेज लन्दन में कानून की पढाई करने और बैरिस्टर बनने के लिये इंग्लैंड चले गये। भारत छोड़ते समय जैन भिक्षु बेचारजी के समक्ष हिन्दुओं को मांस, शराब तथा संकीर्ण विचारधारा को त्यागने के लिए अपनी अपनी माता जी को दिए गये एक वचन ने उनके शाही राजधानी लंदन में बिताये गये समय को काफी प्रभावित किया।

    उन्होंने इनर टेम्पल (चार लंदन लॉ कॉलेजों में से एक) (द टेम्पल) से सफलतापूर्वक अपनी डिग्री पूरी की और  इंग्लैंड और वेल्स बार एसोसिएशन में वापस बुलावे पर वे भारत लौट आये किन्तु बम्बई में वकालत करने में उन्हें कोई खास सफलता नहीं मिली।

    1885 से 1947 तक भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन की घटनाओं का कालक्रम

    दक्षिण अफ्रीका में महात्मा गाँधी की यात्रा एवं उनके प्रयोग

    1893 में, उन्हें दादा अब्दुल्ला से प्रस्ताव मिला, जिन्होंने दक्षिण अफ्रीका में अपने चचेरे भाई के वकील के रूप में सेवा देने के लिए जो दक्षिण अफ्रीका में एक शिपिंग व्यवसाय चलाता था। उन्होंने इस प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया और दक्षिण अफ्रीका चले गए जो उनके राजनीतिक करियर का महत्वपूर्ण मोड़ था।

    दक्षिण अफ्रीका में इनको भारतीय होने के कारण भेदभाव का सामना करना पड़ा। एक बार का वाक्या है जब वे पहली बार प्रथम श्रेणी कोच की वैध टिकट लेकर ट्रेन में सफ़र कर रहे थे तब उन्हें तीसरी श्रेणी के डिब्बे में जाने पर मजबूर किया गया था उनके इन्कार करने के कारण ट्रेन से बाहर फेंक दिया गया था। इतना ही नहीं पायदान पर शेष यात्रा करते हुए एक यूरोपियन यात्री के अन्दर आने पर चालक की मार भी झेलनी पड़ी। उन्होंने अपनी इस यात्रा में अन्य भी कई कठिनाइयों का सामना किया। अफ्रीका में कई होटलों को उनके लिए वर्जित कर दिया गया। इसी तरह ही बहुत सी घटनाओं में से एक यह भी थी जिसमें अदालत के न्यायाधीश ने उन्हें अपनी पगड़ी उतारने का आदेश दिया था जिसे उन्होंने नहीं माना।

    ये सारी घटनाएँ उनके जीवन में एक मोड़ बन गईं और विद्यमान सामाजिक अन्याय के प्रति जागरुकता का कारण बनीं तथा सामाजिक सक्रियता की व्याख्या करने में मददगार सिद्ध हुईं।

    ब्रिटिशकालीन समितियों और आयोगों की सूची

    महात्मा गांधी के 10 दक्षिण अफ्रीका में किये गए कार्य

    1. उन्होंने 1894 में अफ्रीकी और भारतीयों के प्रति नस्लीय भेदभाव के खिलाफ अहिंसक विरोध प्रदर्शन किया।

    2. वह दक्षिण अफ्रीका में सेवा करने के लिए साथी भारतीय को इकट्ठा करने के लिए 1896 में थोड़े समय के लिए भारत आए। उन्होंने 800 भारतीयों को इकट्ठा किया, लेकिन एक विडंबनापूर्ण भीड़ द्वारा उनका स्वागत किया गया और गांधी हमले में घायल हो गए।

    3. उन्होंने 1899 में बोअर युद्ध के प्रकोप के दौरान अंग्रेजों के लिए भारतीय एम्बुलेंस कोर का आयोजन किया। ताकि ब्रिटिश मानवता को समझ सकें लेकिन भारतीयों पर जातीय भेदभाव और अत्याचार जारी रहे।

    4. उन्होंने डरबन के पास फीनिक्स फार्म की स्थापना की, जहाँ गांधी ने अपने कैडर को शांतिपूर्ण संयम या अहिंसक सत्याग्रह के लिए प्रशिक्षित किया। इस फार्म को सत्याग्रह का जन्मस्थान माना जाता है।

    5. उन्होंने एक और फार्म को स्थापित किया, जिसे टॉलस्टॉय फार्म कहा जाता था, जिसे उस स्थान के रूप में माना जाता है, जहाँ सत्याग्रह को विरोध के हथियार के रूप में ढाला गया था।

    6. महात्मा गांधी का पहला अहिंसात्मक सत्याग्रह अभियान सितंबर 1906 में स्थानीय भारतीयों के खिलाफ गठित ट्रांसवाल एशियाटिक अध्यादेश के विरोध में आयोजित किया गया था। उसके बाद, उन्होंने जून 1907 में काले अधिनियम के खिलाफ सत्याग्रह भी किया।

    7. उन्हें 1908 में अहिंसक आंदोलन के आयोजन के लिए जेल की सजा सुनाई गई थी, लेकिन जनरल स्मट्स के साथ मुलाकात के बाद जो एक ब्रिटिश राष्ट्रमंडल राजनेता थे, को रिहा कर दिया गया।

    8. उन्हें 1909 में वोल्क्सहर्स्ट और प्रिटोरिया में तीन महीने की जेल की सजा सुनाई गई थी। रिहा होने के बाद, वह वहां भारतीय समुदाय की सहायता लेने के लिए लंदन गए लेकिन उनका प्रयास व्यर्थ गया।

    9. 1913 में, उन्होंने गैर-ईसाई विवाहों के ओवरराइड के खिलाफ लड़ाई लड़ी।

    10. उन्होंने ट्रांसवाल में एक और सत्याग्रह आंदोलन का आयोजन किया था, जिसमें भारतीय नाबालिग पीड़ित थे। उन्होंने ट्रांसवाल सीमा के पार लगभग 2,000 भारतीयों का नेतृत्व किया।

    अंग्रेज़ों के शासन के दौरान गैर-आदिवासी, आदिवासी और किसान आंदोलनों की सूची

    महात्मा गाँधी का भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के लिए संघर्ष

    दक्षिण अफ्रीका में अपने लंबे प्रवास के बाद, जो लगभग 20 वर्ष था, भारत में एक राष्ट्रवादी, सिद्धांतवादी और आयोजक के रूप में बहुत सम्मान दिया। उन्हें गोपाल कृष्ण गोखले द्वारा आमंत्रित किया गया था, जो भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में वरिष्ठ नेता थे, जिन्होंने सी. एफ. एंड्रयूज द्वारा उन्हें अवगत कराया था।

    महात्मा गांधी के भारत लौटने के बाद, गोखले ने मोहनदास करमचंद गांधी को भारत में मौजूदा राजनीतिक स्थिति और उस समय के सामाजिक मुद्दों के बारे में अच्छी तरह से निर्देशित किया।

    भारत में गांधी द्वारा शुरू किया गया आंदोलन

    1. 1917 का चंपारण सत्याग्रह: यह महात्मा गांधी द्वारा प्रेरित पहला सत्याग्रह आंदोलन था और भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में एक बड़ा विद्रोह था। इस आंदोलन ने ब्रिटिश शासन में उनके आगमन को चिह्नित किया।

    2. 1918 का खेड़ा सत्याग्रह: यह खेड़ा जिले के किसानों के समर्थन के लिए आयोजित किया गया था। खेड़ा के लोग फसल खराब होने और प्लेग की महामारी के कारण अंग्रेजों द्वारा लगाए गए उच्च करों का भुगतान करने में असमर्थ थे।

    3. खिलाफ़त आन्दोलन

    ब्रिटिश शासन के प्रति बढ़ते क्रोध ने खिलाफत आन्दोलन और असहयोग आन्दोलन को जन्म दिया| तुर्की ने प्रथम विश्व युद्ध में ब्रिटेन के विरुद्ध भाग लिया था। तुर्की,जोकि पराजित देशों में से एक था,के साथ ब्रिटेन ने अन्याय किया। 1919 ई. में मोहम्मद अली और शौकत अली (अली बंधुओं के नाम से प्रसिद्ध), मौलाना अबुल कलाम आज़ाद,हसरत मोहानी व कुछ अन्य के नेतृत्व में तुर्की के साथ हुए अन्याय के विरोध में खिलाफत आन्दोलन चलाया गया।

    उन्होंने इस आंदोलन का समर्थन इसलिए किया ताकि इस आंदोलन के माध्यम से हिंदूओं और मुसलमानों को एकजुट किया जा सके और दोनों समुदायों से एकजुटता और एकता दिखाने का आग्रह किया। कई नेताओं द्वारा उनकी आलोचना की गई लेकिन वे मुसलमानों के समर्थन में कामयाब रहे। लेकिन जैसे ही खिलाफत आंदोलन अचानक समाप्त हुआ, उसकी सारी कोशिशें बेकार हो गयी।

    4. असहयोग आन्दोलन

    महात्मा गांधी जी ने इस आंदोलन के माध्यम से असहयोग, अहिंसा तथा शांतिपूर्ण प्रतिकार को अंग्रेजों के खिलाफ़ शस्त्र के रूप में उपयोग किया। यह आंदोलन जलियांवाला बाग नरसंहार के बाद शुरू किया गया था और 1920 से फरवरी 1922 तक अहिंसक साधनों या "अहिंसा" के माध्यम से भारत में ब्रिटिश शासन का विरोध करने के उद्देश्य से चला। लेकिन इस आंदोलन को चौरी चौरा की घटना के बाद फरवरी 1922 में वापस ले लिया गया था जहां पुलिसकर्मियों को स्थानीय लोगों द्वारा जिंदा जला दिया गया था।

    5. सविनय अवज्ञा आन्दोलन

    1930 में स्वतंत्रता दिवस के पालन के लीय, गाँधी के नेतृत्व में सविनय अवज्ञा आन्दोलन की शुरुआत की गयी जिसकी प्रारंभ गाँधी जी के प्रसिद्ध दांडी मार्च से हुआ|12 मार्च 1930 को साबरमती आश्रम से गाँधी जी और आश्रम के 78 अन्य सदस्यों ने दांडी, अहमदाबाद से 385 किमी. दूर स्थित भारत के पश्चिमी तट पर स्थित एक गाँव, के लिए पैदल यात्रा आरम्भ की थी।

    6. गोलमेज सम्मेलन: अंग्रेज़ सरकार द्वारा भारत में संवैधानिक सुधारों पर चर्चा के लिए 1930-32 के बीच सम्मेलनों की एक श्रृंखला के तहत तीन गोलमेज सम्मेलन आयोजित किये गए थे। ये सम्मलेन मई 1930 में साइमन आयोग द्वारा प्रस्तुत की गयी रिपोर्ट के आधार पर संचालित किये गए थे। भारत में स्वराज, या स्व-शासन की मांग तेजी से बढ़ रही थी। 1930 के दशक तक, कई ब्रिटिश राजनेताओं का मानना था कि भारत में अब स्व-शासन लागू होना चाहिए। हालांकि, भारतीय और ब्रिटिश राजनीतिक दलों के बीच काफी वैचारिक मतभेद थे, जिनका समाधान सम्मलेनों से नहीं हो सका।

    7 सितम्बर 1931 को लन्दन में द्वितीय गोलमेज सम्मेलन आरंभ हुआ। इसमें गाँधीजी, अम्बेडकर, सरोजिनी नायडू एवं मदन मोहन मालवीय आदि पहुँचे। 30 नवम्बर को गांधीजी ने कहा कि काँग्रेस ही एकमात्र ऐसी पार्टी है जो साम्प्रदायिक नहीं है एवं समस्त भारतीय जातियों का प्रतिनिधित्व करती है। गांधीजी ने पूर्ण स्वतंत्रता की भी मांग की। ब्रिटिश सरकार ने गांधीजी की इस माँग को नहीं माना। भारत के अन्य साम्प्रदायिक दलों ने अपनी-अपनी जाति के लिए पृथक-पृथक प्रतिनिधित्व की माँग की। एक ओर गांधीजी चाहते थे कि भारत से सांप्रदायिकता समाप्त हो वही अन्य दल साम्प्रदायिकता बढ़ाने प्रयासरत थे। इस तरह गाँधीजी निराश होकर लौट आए।

    7. गांधी-इरविन समझौता: 5 मार्च सन् 1931 को लंदन द्वितीय गोल मेज सम्मेलन के पूर्व महात्मा गांधी और तत्कालीन वाइसराय लार्ड इरविन के बीच एक राजनैतिक समझौता हुआ जिसे गांधी-इरविन समझौता (Gandhi–Irwin Pact) कहते हैं। ब्रिटिश सरकार प्रथम गोलमेज सम्मेलन से समझ गई कि बिना कांग्रेस के सहयोग के कोई फैसला संभव नहीं है। वायसराय लार्ड इरविन एवं महात्मा गांधी के बीच 5 मार्च 1931 को गाँधी-इरविन समझौता सम्पन्न हुआ।

    इस समझौते में लार्ड इरविन ने स्वीकार किया कि:

    • हिंसा के आरोपियों को छोड़कर बाकी सभी राजनीतिक बन्दियों को रिहा कर दिया जाएगा।

    • भारतीयों को समुद्र किनारे नमक बनाने का अधिकार दिया जाएगा।

    • भारतीय शराब एवं विदेशी कपड़ों की दुकानों के सामने धरना दे सकते हैं।

    • आन्दोलन के दौरान त्यागपत्र देने वालों को उनके पदों पर पुनः बहाल किया जायेगा।

    • आन्दोलन के दौरान जब्त सम्पत्ति वापस की जाएगी।

    कांग्रेस की ओर से गांधीजी ने निम्न शर्तें स्वीकार की:

    • सविनय अवज्ञा आन्दोलन स्थगित कर दिया जाएगा।

    • कांग्रेस द्वितीय गोलमेज सम्मेलन में भाग लेगी।

    • कांग्रेस ब्रिटिश सामान का बहिष्कार नहीं करेगी।

    • गाँधीजी पुलिस की ज्यादतियों की जाँच की माँग छोड़ देंगे।

    यह समझौता इसलिए महत्वपूर्ण था क्योंकि पहली बार ब्रिटिश सरकार ने भारतीयों के साथ समानता के स्तर पर समझौता किया।

    8. भारत छोड़ो आन्दोलन

    क्रिप्स मिशन की विफलता के बाद महात्मा गाँधी ने ब्रिटिश शासन के खिलाफ़ अपना तीसरा बड़ा आंदोलन छेड़ने का फ़ैसला लिया। 8 अगस्त 1942 की शाम को बम्बई में अखिल भारतीय काँगेस कमेटी के बम्बई सत्र में 'अंग्रेजों भारत छोड़ो' का नाम दिया गया था। इसे जिसे अगस्त क्रांति भी बोला जाता है। इस आन्दोलन का लक्ष्य भारत से ब्रितानी साम्राज्य को समाप्त करना था। यह आंदोलन महात्मा गांधी द्वारा अखिल भारतीय कांग्रेस समिति के मुम्बई अधिवेशन में शुरू किया गया था। यह भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के दौरान विश्वविख्यात काकोरी काण्ड के ठीक सत्रह साल बाद 9 अगस्त सन 1942 को गांधीजी के आह्वान पर समूचे देश में एक साथ आरम्भ हुआ। यह भारत को तुरन्त आजाद करने के लिये अंग्रेजी शासन के विरुद्ध एक सविनय अवज्ञा आन्दोलन था। भारत छोडो का नारा युसुफ मेहर अली ने दिया था। इस आंदोलन के दौरान महात्मा गाँधी ने ''करो या मरो'' का नारा भी दिया था। 

    भारत की स्वतंत्रता तथा स्वतंत्रता पश्चात के प्रमुख वचनों और नारों की सूची

    महात्मा गांधी की हत्या

    30 जनवरी, 1948, गांधी की उस समय नाथूराम गोडसे द्वारा गोली मारकर हत्या कर दी गई जब वे नई दिल्ली के बिड़ला भवन (बिरला हाउस के मैदान में रात चहलकदमी कर रहे थे। गांधी का हत्यारा नाथूराम गौड़से हिन्दू राष्ट्रवादी थे जिनके कट्टरपंथी हिंदु महासभा के साथ संबंध थे जिसने गांधी जी को पाकिस्तान को भुगतान करने के मुद्दे को लेकर भारत को कमजोर बनाने के लिए जिम्मेदार ठहराया था। गोड़से और उसके उनके सह षड्यंत्रकारी नारायण आप्टे को बाद में केस चलाकर सजा दी गई तथा 15 नवंबर 1949 को इन्हें फांसी दे दी गई।

    भारत के स्वतंत्रता आंदोलन में महात्मा गांधी की भूमिका और योगदान केवल उल्लेखनीय नहीं है, बल्कि असाधारण और अनुकरणीय भी है क्योंकि वह एक ऐसे व्यक्तित्व के धनी थे जिन्होंने अहिंसा के बल पर जनता के आत्म बल को जागृत किया; उन्होंने स्वतंत्रता के मूल्य को महसूस कराया तथा सत्याग्रह को सर्वोत्तम और अचूक हथियार का दर्जा दिया और कहा कि उन्होंने अपनी सदियों पुरानी गुलामी की जंजीरों को काट दिया है और लोगो को भी काटने का आह्वाहन किया। भारत के लोग, करोड़ों की संख्या में, सबसे आगे आए और अंततः 1947 में भारत अंग्रेजों के राजनीतिक शासन से मुक्त हो गया।

    भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के प्रसिद्ध क्रन्तिकारी नेताओ के नाम और उनसे सम्बंधित घटनाओ की सूची

    Loading...

    Register to get FREE updates

      All Fields Mandatory
    • (Ex:9123456789)
    • Please Select Your Interest
    • Please specify

    • ajax-loader
    • A verifcation code has been sent to
      your mobile number

      Please enter the verification code below

    Loading...
    Loading...