Search

भारत में चीन द्वारा फंड प्राप्त करने वाली कंपनियों की सूची

भारत की सबसे बड़ी क्रय शक्ति और विशाल बाजार दुनिया भर के व्यापारियों एवं निवेशकों को आकर्षित कर रही हैl यही कारण है कि आज के समय में चीनी निवेशक और प्रौद्योगिकी उद्यमी भारत में मोबाइल गेमिंग, शिक्षा, स्वास्थ्य सेवा, वित्तीय प्रौद्योगिकी और इंटरनेट से जुड़ी चीजों (आईओटी) जैसे क्षेत्रों में भारतीय स्टार्ट-अप कंपनियों के साथ विशाल मात्रा में निवेश कर रहे हैंl यहां, हम सामान्य ज्ञान की दृष्टि से भारत में चीन द्वारा फंड प्राप्त करने वाली कंपनियों की सूची दे रहे हैंl
Feb 7, 2018 11:50 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon
List of Chinese Funded Companies in India in Hindi
List of Chinese Funded Companies in India in Hindi

भारत की सबसे बड़ी क्रय शक्ति और विशाल बाजार दुनिया भर के व्यापारियों एवं निवेशकों को आकर्षित कर रही हैl यही कारण है कि आज के समय में चीनी निवेशक और प्रौद्योगिकी उद्यमी भारत में मोबाइल गेमिंग, शिक्षा, स्वास्थ्य सेवा, वित्तीय प्रौद्योगिकी और इंटरनेट से जुड़ी चीजों (आईओटी) जैसे क्षेत्रों में भारतीय स्टार्ट-अप कंपनियों के साथ विशाल मात्रा में निवेश कर रहे हैंl यहां, हम सामान्य ज्ञान की दृष्टि से भारत में चीन द्वारा फंड प्राप्त करने वाली कंपनियों की सूची दे रहे हैंl

भारत में चीन द्वारा फंड प्राप्त करने वाली कंपनियों की सूची

1. पेटीएम (Paytm- Pay Through Mobile)

Paytm

Source: quintype-01.imgix.net

पेटीएम (Pay Through Mobile) एक भारतीय इलेक्ट्रॉनिक भुगतान एवं ई-कॉमर्स कंपनी हैl लेकिन आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि इसकी अवधारणा, प्रेरणा और निवेश का संबंध चीन से हैl यह भारत की पहली कंपनी है जिसको स्थापित करने के लिए चीनी ई-कॉमर्स कंपनी अलीबाबा से निवेश प्राप्त हुआ था, जो अब बढ़कर 625 मिलियन डॉलर से भी अधिक हो गया हैl

जानें किन देशों में GST की दर भारत से ज्यादा या कम हैं

2. हइक मैसेंजर (Hike Messenger)

Hike Messenger

Source: upload.wikimedia.org

यह स्मार्टफोन्स के लिए एक क्रॉस-प्लेटफ़ॉर्म इंस्टेंट मैसेजिंग सेवा हैl  हाल ही में, चीन की इंटरनेट दिग्गज कंपनी टेनेंट होल्डिंग्स और ताइवान की फॉक्सकॉन टेक्नोलॉजी समूह द्वारा "हाईक" के लिए नए फंड जारी किए हैं, जिससे कंपनी का कुल बाजार मूल्य लगभग 1.4 बिलियन डॉलर के बराबर आंका गया हैl

3. स्नेपडील (Snapdeal)

Snapdeal

Source: d28dwf34zswvrl.cloudfront.net

यह भारत की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी है, जिसने अब तक 23 निवेशकों से 1.58 अरब डॉलर (लगभग 10,112 करोड़ रुपये) जुटाए हैं। इसके शीर्ष निवेशकों में सॉफ्टबैंक, कलारी कैपिटल, नेक्सस वेंचर्स और ईबे इंक शामिल हैंl आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि इसके निवेशकों में से एक सॉफ्टबैंक समूह चीनी ई-कॉमर्स की सबसे बड़ी कंपनी अलीबाबा ग्रुप होल्डिंग लिमिटेड में सबसे बड़ा शेयरधारक हैl

4. ओला (OLA)

OLA

Source: tctechcrunch2011.files.wordpress.com

यह मोबाइल ऐप आधारित एक भारतीय परिवहन नेटवर्क कंपनी है. चीनी कार एप कंपनी 'दीदी चूईंग (दीदी कुईदी)' ने ओला में निवेश किया हैl अब तक, ओला ने लगभग121 निवेशकों के माध्यम से 8200 करोड़ रुपये की फंडिंग प्राप्त की हैl

भारत vs चीन: 13 विभिन्न क्षेत्रों में तुलना

5. मेक माइ ट्रिप और आईबीबो (IBIBO and Make My Trip and IBIBO)

Makemytrip and IBIBO

Source: newslawn.com

भारत की सबसे बड़ी ऑनलाइन यात्रा कंपनियों में से एक मेकमाइट्रिप ने हाल ही में आईबीबो ग्रुप को खरीदा है और मेकमाइट्रिप, गो आईबीबो, रेडबस, राइड और राइटस्टे जैसी शीर्ष ट्रेवल ब्रांडों को एक ही समूह के अंतर्गत लाने का काम किया हैl आईबिबो समूह में दक्षिण अफ्रीकी कंपनी नैस्पर्स और चीनी निवेश पर आधारित कंपनी टेनेंट की क्रमशः 91% और 9% हिस्सेदारी हैl वे इस कंपनी में सबसे बड़े शेयरधारक बन जाएंगेl

6. फ्लिप्कार्ट (Flipkart)

Flipkart

Source: cdn.dealstreetasia.com

यह एक भारतीय ई-कॉमर्स कंपनी है, जिसे 2007 में दो आईआईटीयन (दिल्ली) सचिन बंसल और बिन्नी बंसल ने स्थापित किया था। हाल ही में, टेनेंट होल्डिंग्स लिमिटेड, ईबे इंक और माइक्रोसॉफ्ट कार्पोरेशन से इसे अब तक की सबसे बड़ी फंडिंग प्राप्त हुई हैl

7. मईडरमेसी (MyDermacy)

Mydermacy

Source: res.cloudinary.com

यह भारत की ऑनलाइन स्वास्थ्य और कल्याण ऑनलाइन सेवा कंपनी है जिसको हाल में ही चीनी उद्यम पूंजी फर्म साइबर कैरियर से बहुत जबदस्त फंडिंग मिली हैl साइबर कैरियर ये वही कंपनी है हाल ही में ज़ूमकार्ड और इंडिया लांड में निवेश किया है। इससे पहले इन्होने 150,000 डॉलर की फंडिंग स्पेक्ट्रॉनेट और फोर्टिस हेल्थकेयर जैसे निवेशकों से भी मिली है।

भारत में चीन से फंड प्राप्त करने वाली कंपनियों की उपरोक्त सूची से आप बेहतर तरीके से समझ सकते हैं कि कैसे 100% प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) के कारण वस्तुओं और सेवाओं के ऑनलाइन खुदरा विक्रेता भारतीय अर्थव्यवस्था को मजबूती प्रदान कर रहे हैं तथा यहां खुद के लिए जगह बना रहे हैंl

चीन पाकिस्तान आर्थिक गलियारा क्या है और भारत इसका विरोध क्यों कर रहा है