परीक्षा की तैयारी के ये 10 मंत्र आपको बुलंदियों पर पहुँचा देंगे

आजकल बढ़ती प्रतिस्पर्धा और बढ़ती कटऑफ की वजह से कक्षा 10वीं और कक्षा 12वीं का महत्त्व बहुत ज़्यादा बढ़ा दिया है l इन दो परीक्षाओं में उनका प्रदर्शन ही भविष्य में उनके करियर को आकार देता है l अगर आप स्कूल जाते है और इस बार आपकी बोर्ड परीक्षाएं भी है तो ये टिप्स आपके बहुत काम आएँगी l

Created On: Jul 20, 2016 18:00 IST
Modified On: Jul 5, 2017 10:44 IST

आजकल बढ़ती प्रतिस्पर्धा और बढ़ती कटऑफ की वजह से कक्षा 10वीं और कक्षा 12वीं का महत्त्व बहुत ज़्यादा बढ़ा दिया है l इन दो परीक्षाओं में उनका प्रदर्शन ही भविष्य में उनके करियर को आकार देता है l पहले विद्यालय स्तर की शिक्षा को एक विद्यार्थिर्यों को लिए एक अनुभव माना जाता था पर आजकल इसे मात्र प्रतिस्पर्धा के रूप में देखा जाता है। सिर्फ बोर्ड परीक्षा में अच्छा प्रदर्शन करने की बात दिमाग में रख कर स्कूल जाना एक बहुत गलत नज़रिया है l स्कूल की पढ़ाई का मुख्य लक्ष्य विद्यार्थियों को सभी विषयों का सार देकर उनकी तर्क शक्ति की क्षमता को विकसित करना है और अगर सभी विद्यार्थी इस सोच के साथ पढ़ाई करेंगे तो यह उन्हें आगे चलकर बहुत लाभ पहुंचाएगा खासकर जब उन्हें हायर स्टडीज़ करनी हो l

अगर आप स्कूल जाते है और इस बार आपकी बोर्ड परीक्षाएं भी है तो ये टिप्स आपके बहुत काम आएँगी

1 # कक्षा में उपस्थिती (मानसिक और शारीरिक तौर पर)

Image source: levynewsnetwork.files.wordpress.com/

Class 12 Board Exam का महत्त्व जान लें, हो सकता है आपकी सोच पूरी तरह बदल जाए

बोर्ड एग्जाम 2018: लाना है 90% के ऊपर मार्क्स तो जानें ये फुल प्रूफ स्टडी प्लान

पार्ट टाइम जॉब्स जिनके बारे में हर छात्र को पता होना चाहिये

हो सकता है कुछ छात्र शरीरिक तौर पर कक्षा में उपस्थित हो पर मानसिक तौर पर नहीं होते, कुछ तो कक्षा में जाते ही नहीं, ऐसे छात्र अक्सर यह तर्क देते हैं की कोचिंग में पढ़ लेंगे या मैथ्स तो कोचिंग में ही समझ आएगा इत्यादि l ऐसे छात्र मान लेते हैं कि इनके स्कूल में पढ़ाई नहीं होती या इन्हे स्कूल में समझ आएगा जो बहुत गलत है l

स्कूल टीचर्स को विषय की बहुत गहराई तक समझ होती है l स्कूल टीचर्स जटिल से जटिल विषय को आसानी से समझा सकते हैं l उन्हें अपने अनुभव से ये पता होता है की विद्यार्थियों को कहा दिक्कत आएगी l इसलिए कक्षा में मानसिक और शारीरिक तौर पर उपस्थित रहें आपके टीचर के लेक्चर में बहुत सी काम की बातें होंगी जो आपके बोर्ड एग्जाम में आपके प्रदर्शन को सुधारेगी l

2 # अपने नोट्स खुद बनाएं


Image source: www.prelaw.mtu.edu

इंटरव्यू में अक्सर पूछे जाते हैं ये 7 सवाल, सही ज़वाब देने पर 99% तक बढ़ जातें है जॉब मिलने के चांस

5 हॉबीज़ जिनसे आप कमा सकते है पैसे और बना सकते हैं बेहतरीन कैरियर

आम तौर पर, आज कल छात्रों को स्कूलों और कोचिंग में इतने नोट्स दिए जाते की ऐसा लगता है उनके पास नोट्स की बाढ़ आ गई है, इन सब नोट्स में से क्या सबसे ज़्यादा महत्वपूर्ण है और क्या सबसे काम छात्रों को इसका बहुत ध्यान रखना चाहिए l सबसे बेहतर यही होगा की विद्यार्थी अपने नोट्स खुद बनाए l आखिरी समय पर खुद के द्वारा बनाए गए नोट्स बहुत काम आते हैं नोट्स बनाते समय इस बात का ध्यान ज़रूर रखना चाहिए की उनमे काम से काम शब्दों में ज़्यादा से ज़्यादा सूचना मिले l

3 # असाइनमेंट और होमवर्क को कल पर मत टालें


Image source: quickanddirtytips.com

असाइनमेंट और होमवर्क को कल पर मत टालें वार्ना इनका कोई मतलब नहीं होता l आपको होमवर्क इसलिए मिलता है जससे की आप उस विषय पर अपनी पकड़ मजबूत कर सकें l अगर आपको स्कूल में सब कुछ समझ आ गया और घर आकर आप उसको नहीं दोहराते तो हो सकता है बोर्ड एग्जाम के आते-आते उसे भूल जाएं l असाइनमेंट और होमवर्क के मदद से आपका रिवीज़न तो होता ही है साथ ही साथ आपको यह भी समझ आ जाता है की आपको यह विषय या चैप्टर पढ़ने में कहाँ सबसे ज़्यादा दिक्कत हुई l इससे आपको यह भी समझ आ जायेगा की बोर्ड एग्जाम से पहले रिवीज़न में आपको किस विषय के किस चैप्टर में कितना समय देना है l

4 # अपना खुद का एक स्टडी टाइम टेबल और कैलेंडर सेट करें

Image source: universalbooks.com

बहुत से पढ़ाकू किस्म के छात्र भी कभी - कभी बोर्ड परीक्षाओं में काम नंबर लाते हैं जिनमे बहुत से छात्रों की सबसे बड़ी दिक्कत यह होती है की उन्होंने ने बोर्ड परीक्षा के लिए कोई रणनीति नहीं बनाई l पूरे साल उन्होंने ने कुछ चैप्टर्स को बहुत समय दिया और कुछ चैप्टर्स को बहुत कम l ऐसा करना गलत है और इससे परीक्षा में अच्छा परिणाम नहीं आता l इस तरह की दिक्कतों से बचने के लिए छात्रों के पास हर एक महीनें के हिसाब से पूरे साल का स्टडी प्लान ज़रूर होना चाहिए l उस प्लान में सारे लक्ष्य दिए गए और यह भी दिया हो की किस महीनें में क्या महत्वूर्ण होने वाला है l इसके आलावा छात्रों के पास पूरे दिन का भी टाइम टेबल होना चाहिए की आपको कब कितना और कितने घंटे पढ़ना है l आप अपनी पढ़ाई के टारगेट सेट कर सकते है और फिर उन्हें पूरा करने के लिए मेहनत कर सकते हैं l

5 # टारगेट छोटे और व्यवहारिक हों


Image source: pixabay.com

टारगेट हमेशा अपनी क्षमतानुसार सेट करना चाहिए वह न ज़्यादा छोटे हो न बहुत बड़े l उदाहरण के लिए आप पूरी किताब एक दिन में नहीं पढ़ सकते या रोज एक पेज पढ़ना बहुत काम होगा l आज आप अगर रोज 2 घंटे पढ़ते है तो एक महीने बाद आप 12 घंटे नहीं पढ़ पाएंगे l अगर आपने 12 घंटे पढ़ने का टारगेट सेट करेंगे तो वो शायद पूरा नहीं कर पाएंगे इससे आप डिप्रेशन में भी जा सकते हैं l इसलिए जो भी टारगेट सेट करें वो आपकी क्षमता अनुसार होना चाहिए l

6 # पढ़ाई और इंटरटेन्मेंट को मिक्स करें 


Image source: blog.ufaber.com

अगर आप उन विद्यार्थियों में से है जो पढ़ाई करते वक़्त अक्सर बोर हो जाते है तो इसमें कुछ नया नहीं हैं l किसी एक काम को बार - बार करने पर बोरियत बहसूस होना बहुत आम बात है l इससे बचने के लिए अपने टाइम टेबल को आप चाहें तो थोड़ा फ्लेक्सिबल बना सकते हैं l आप चाहे तो याद करने के दौरान अपनी आवाज में उत्तर याद कर सकते हैं और बाद में चाहें तो उसे समय मिलने पर सुन कर दोहरा सकते है l आप चाहें तो वीडियो गेम्स वगैरह, ऑनलाइन लेक्चर इत्यादि की भी मदद ले सकते हैं l

7 # खुद को पढ़ाएं


Image source: media02.hongkiat.com

कक्षा में शिक्षक जटिल समस्याएं और अवधारणाओं को आसान तरीके से समझाते जिससे हमे वह समझ में तो आ जाता है पर ज्यादा लम्बे समय तक याद नहीं रहता l अगर आप चाहते हैं कि अपने जो पढ़ा है वह आपको लम्बे समय तक याद रहे तो उस विषय को शीशे के सामने खड़े होकर खुद को पढ़ाये, ऐसा करने से आपकी उस विषय पर पकड़ मजबूत बनेगी साथ ही साथ आपका आत्मविश्वास भी बढ़ेगा l अगर कभी किस ने आपसे उस विषय के बारे में पूछा तो आप आसानी से उसे समझा पाएंगे l इससे आपकी कम्युनिकेशन स्किल्स भी मज़बूत होंगी l

8 # प्रैक्टिस पर ध्यान दे: पुराने साल के प्रश्न पत्र और मॉक टेस्ट सॉल्व करें

अपने पूरा साल बहुत अच्छे से पढ़ाई की है पर आपने अच्छे से प्रैक्टिस नहीं की तो भी हो सकता है आपके बोर्ड परीक्षा में अच्छे नंबर प्रैक्टिस से ही आपको यह अच्छी तरह पता चलता है की आप कहा गलतियां करते हैं न आएं l बोर्ड परीक्षा में अच्छे मार्क्स लाने के लिए प्रैक्टिस करना बहुत ज़रूरी है l प्रैक्टिस से ही आपको यह अच्छी तरह पता चलता है की आप कहा गलतियां करते हैं या आपको उत्तर लिखने में कितना समय लगता है l बॉर्ड परीक्षा में अच्छे नंबर लाने के लिए यह बहुत ज़रूरी है की अपने पुराने क्वेश्चन पेपर्स से काफी प्रैक्टिस करी हो l आप चाहे तो गेस पेपर्स और सैंपल पेपर्स से भी प्रैक्टिस कर सकते हैं l

9 # अपने शैक्षिक गोल का ध्यान रखें


Image source: careeroptionscoach.com

पढ़ने में भले यह बड़ा शब्द लगे पर शैक्षिक गोल एक बहुत महत्वपूर्ण शब्द है l बोर्ड परीक्षा में अच्छे मार्क्स लाना एक बात है और किसी विषय की अच्छी समझ होना दूसरी l इसलिए आपको अपने शैक्षिक गोल को ध्यान में रखकर पढ़ाई करनी चाहिए l उदाहरण के लिए, अगर आपको फिजिक्स से मास्टर्स डिग्री लेनी है तो आपके 12वीं के कॉन्सेप्ट्स पर मज़बूत पकड़ होनी चाहिए l आपको अन्य विषयों की तैयारी के साथ-साथ फिजिक्स में ख़ास ध्यान देना चाहिए l

10 # अपने स्वस्थ को कभी नजरअंदाज न करें


Image source: cdn-png2.theactivetimes.net

अक्सर हम अभिभावकों और सहपाठियों के दबाव में बोर्ड एग्जाम को सब कुछ मान बैठते हैं l इस चक्कर में कभी - कभी हम अपने स्वस्थ पर भी ध्यान नहीं दे पाते l बोर्ड एग्जाम की तैयारी महतपूर्ण है पर सब कुछ छोड़-छाड़ के तैयारी करना सही नहीं l इसके आलावा आपको यह भी ध्यान रखना चाहिए की स्वस्थ तन में स्वस्थ मन का विकास होता है l इसलिए आपको अपने स्वस्थ का ख़ास ख्याल रखाना चाहिए l आपको उचित आहार लेना चाहिए अथवा योग कसरत इत्यादि ज़रूर करना चाहिए l

ये कुछ सरल तथा प्रभावी सफलता के मंत्र हैं  जिन्हे कोई भी छात्र अपने रोजमर्रा के जीवन में शामिल करके आसानी से सीबीएसई बोर्ड या किसी भी बोर्ड परीक्षा में अच्छे नंबर प्राप्त कर सकता है  तथा सफलता की बुलंदियों को आसानी से छू सकता है l

इंजीनियरिंग और चिकित्सा के अलावा विज्ञान के छात्रों के लिए अन्य करियर विकल्प

यह 7 ट्रिक्स अपनाने से कोई भी बन सकता हैं गणित में ज़ीरो से हीरो

Related Categories

    Comment (0)

    Post Comment

    1 + 5 =
    Post
    Disclaimer: Comments will be moderated by Jagranjosh editorial team. Comments that are abusive, personal, incendiary or irrelevant will not be published. Please use a genuine email ID and provide your name, to avoid rejection.