Search

जानिए एसएससी परीक्षा में सफल होने के लिए टॉपर की रणनीति

इस आर्टिकल में हमने एसएससी द्वारा आयोजित सीजीएल,सीएचएसएल एवं अन्य परीक्षाओं से जुड़े सभी विषयों जैसे परीक्षा की रणनीति,एसएससी टॉपर के विचार,विषयवस्तु आदि का विस्तृत विवरण प्रस्तुत किया है

Apr 11, 2017 15:56 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

एसएससी एक संगठन है जिसका संचालन भारत सरकार द्वारा किया जाता है। यह संगठन ग्रुप 'बी' और ग्रुप 'सी' कैडर के तहत भारत सरकार के विभिन्न मंत्रालयों / विभागों में विभिन्न पदों के लिए उम्मीदवारों की भर्ती करता है। एसएससी द्वारा तीन लोकप्रिय परीक्षाओं का आयोजन किया जाता है जो 10 वीं के स्तर पर, 12 वीं के स्तर और स्नातक स्तर पर विभिन्न शैक्षिक चरणों में आयोजित की जाती हैं। इस आर्टिकल में अधिकतर उन सामान्य उपायों का वर्णन कर रहे हैं जिनका आपको इन परीक्षाओं की तैयारी करने के दौरान पालन करना चाहिए ताकि आपको अपनी पंसदीदा नौकरी मिल सके।

एसएससी परीक्षा: परीक्षा में सफलता हासिल करने के उपाय

किसी भी परीक्षा में कुछ ऐसे बुनियादी विषयों से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं और यह बात एसएससी की परीक्षा में भी अच्छी तरह से लागू होती है। इस परीक्षा में मुख्यत: चार सेक्शन होते हैं:

·         सामान्य ज्ञान (जनरल नॉलेज)

·         सोचने की क्षमता (रीजनिंग एबिलिटी)

·         मात्रात्मक रूझान (क्वेंटेटिव एप्टीट्यूट)

·         अंग्रेजी भाषा (ऑब्जेक्टिव और सबजेक्टिव दोनों) 

यदि आपको एसएससी के माध्यम से एक नौकरी पानी है तो इन विषयों में अपनी पकड़ बेहद मजबूत बनानी होगी। कड़ी प्रतिस्पर्धा की वजह से एसएससी की किसी भी परीक्षा अर्थात् सीजीएल, सीएचएसएल या एमटीएस जैसी परीक्षाओं में जितना अधिक हो सके उतने नंबर लाना जरूरी है। विभिन्न प्रमुख विषयों के लिए अपनाई जा सकने वाली रणनीति का वर्णन इस प्रकार है|

सामान्य ज्ञान (जीके)

यह एक ऐसा सेक्शन है जिसमें आपको जितना संभव हो सके उतनी तैयारी करनी चाहिए। जीके के लिए सिलेबस भी बहुत विशाल है और इसके लिए आपने जो पढ़ा है उसे याद रखने हेतु एक बहुत अच्छी याददाश्त की आवश्यकता होती है। एसएससी जीके के लिए कुछ महत्वपूर्ण उपाय हैं जिनका आपको पालन करना चाहिए, वो इस प्रकार हैं:

·         लूसेंट की जीके बुक (किताब) का शुरूआत से लेकर अंतिम पन्ने तक पूरा अध्ययन करें। इस किताब को एसएससी की परीक्षा के लिए सामान्य ज्ञान (जीके) की बाइबिल कहा जाता है। इस किताब में वास्तविक परीक्षा के हर एक विषय के रूप में सभी महत्वपूर्ण विषयों, जैसे- इतिहास, भूगोल, राजनीति विज्ञान, अर्थशास्त्र, कंप्यूटर को शामिल किया गया है।

·         एसएससी के लिए आपको पिछले 12 महीनों के लिए मौजूदा मामलों का अध्ययन करने की आवश्यकता है। इस सेक्शन में पूछे जाने वाले सवाल अधिकतर तथ्यात्मक प्रकति के होते हैं। इसलिए जितनी जानकारी हो उसे बनाए रखना बेहद जरूरी है।

·         किसी भी एसएससी परीक्षा के बारे में सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि इसमें आने वाल प्रश्न निश्चित रूप से पिछले साल आए प्रश्न पत्रों से भी रिपीट होते हैं। इसके लिए आपको किरन पब्लिकेशन की पिछले साल के क्वेश्चन पेपर्स नाम की किताब खरीदनी चाहिए या आपको एसएससी के पिछले वर्ष के प्रश्न पत्रों को स्वयं ऑनलाइन खोजना चाहिए l एसएससी पोर्टल इसके लिए एक अच्छा स्रोत है, जहां ये आपको आसानी से मिल जाएंगे। तो परीक्षा के पुराने प्रश्न पत्रों को साथ रखकर तैयारी करें।

·         रीवीजन करना इस सेक्शन का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है। तो, एक बार पूरी किताब का अध्ययन पूरा करने के बाद एक बार उसका रीवीजन जरूर कर लें।

·         लूसेंट की किताब के अलावा ज्यादा किताबों को खरीदने की आवश्यकता नहीं है और करेंट अफेयर्स की जानकारी दैनिक समाचार पत्रों का अधय्यन करने या जागरण जोश तथा सीए कैप्सूल आदि जैसी स्टैंडर्ड साइट का अध्ययन करके भी हासिल की जा सकती है। एक से अधिक किताबों को रखने का मतलब है कि आपका समय बर्बाद होगा और परीक्षा में आपके अधिक नंबर प्राप्त करने की उम्मीदें भी प्रभावित हो सकती हैं।

क्या एसएससी सीजीएल पीएसयू महारत्न नौकरियों से बेहतर है? यदि है तो क्यों?

 

रीजनिंग एबिलिटी

  • इसे किसी भी एसएससी परीक्षा में सबसे महत्वपूर्ण सेक्शन में से एक सेक्शन माना जाता है। दूसरी तरफ यह इस परीक्षा में सबसे आसान खंड भी है। आपको विषयों के बारे में पता होना चाहिए और उन विषयों की मूल बातों को पता कर इस खंड पर अच्छी कमांड होना जरूरी है। यहाँ कुछ बिंदुओं का विवरण दिया जा रहा जिन पर अमल करके आप किसी भी एसएससी परीक्षा में अव्वल आ सकते हैं|
  • सबसे पहले रीजनिंग की बाइबिल कही जाने वाली आर एस अग्रवाल की किताब का अध्ययन करें। इस किताब में सभी विषयों को एक ही कवर में शामिल किया गया है। सबसे पहली बात यह  है कि कम से कम एक बार इस विशेष किताब का पूरी तरह से अध्ययन कर लें।
  • किसी भी एसएससी परीक्षा में अपने अच्छे नंबर लाने के लिए अभ्यास महत्वपूर्ण होता है। यदि आपने अधिक अभ्यास किया है तो आप निश्चित रूप से लाभान्वित होंगे। इसका अर्थ है कि आपको सबसे पहले केवल प्रथम अध्याय को पूरा करना होगा और उसके बाद से आपको पूरी तरह से टेस्ट के लिए जाना चाहिए।
  • यदि आप एसएससी में सफलता के बारे में गंभीर हैं तो पिछले साल के प्रश्न पत्रों को हल जरूर करें।  इस संबंध में यह कहना जरूरी है कि एसएससी निश्चित रूप से सवाल को दोहराता है। तो, पिछले साल के प्रश्न पत्रों को हल करें और वहां से प्रश्नों का अभ्यास जारी रखें।
  • रीजनिंग किसी भी एसएससी परीक्षा में सबसे आसान खंड है। इसके लिए आपका केवल सभी विषयों में अच्छा कमांड होने की आवश्यकता है। इसके लिए परीक्षा से एक महीने पहले अध्याय हर चैप्टर का रीवीजन शुरू कर दें और कोशिश करें कि कम से कम एक किताब को पूरा कर लें। इसके बाद रीजनिंग सेक्शन में आपकी ऑथिंटीसिटी को कोई चैलेंज नहीं कर सकता है।

जानें-एसएससी सीजीएल के अधिकारियों को कैसे प्रमोट (पदोन्नति) किया जाता है?

 

क्वेंटीटेटिव एप्टीट्यूट

क्वेंटीटेटिव एप्टीट्यूट एसएससी परीक्षा का एक अन्य महत्वपूर्ण सेक्शन है। एसएससी सीजीएल के लिए आपकी कम से कम इस सेक्शन पर अच्छी कमांड होना बहुत जरूरी है। यदि आपकी पकड़ गणित और रीजनिंग में अच्छी है तो आप एसएससी में बेहद आसानी से सफलता हासिल कर सकते हैं, क्योंकि अंग्रेजी अधिकतर भ्रामक होती है और जीके पूरी तरह से भाग्य आधारित होती है। यहाँ कुछ ऐसी चीजें है जो आपको इस सेक्शन के तहत करनी चाहिए|

  • सर्वेश शर्मा की क्वांटम कैट की किताब खरीद लें। यदि आप क्वांट सेक्शन में अच्छे नबंर लाना चाहते हैं तो सबसे पहले इसका पूरा अध्ययन कर लें।
  • यह सेक्शन फार्मूले से भरा है। आपको  उनमें से नोट्स बनाने होंगे और तैयारी के दौरान प्रत्येक अध्याय का अध्ययन करना होगा। इससे आपको परीक्षा की तारीख के दौरान विभिन्न अध्यायों से संबंधित विभिन्न फार्मूले का पता लगाने में मदद मिलेगी।
  • यदि आप फार्मूलों के पीछे छिपे लॉजिक को समझने में असफल रहते हैं तो फार्मूलों को याद कर लें। इसका कारण यह है कि कभी कभी एसएससी के सवाल सीधे होते हैं और इसके लिए मन में किसी प्रकार के आवेदन की आवश्यकता नहीं होती है।
  • शॉर्टकट का इस्तेमाल तभी करें जब आप इसमें बहुत ज्यादा कम्फर्ट फील कर रहे हैं। यहां पहले से ही बहुत अधिक फार्मूले होते हैं और इन फार्मूलों को याद करना आपके लिए आसान नहीं है।  बेहतर यह होगा कि सामान्य फार्मूले के साथ तेजी से गणना करने को अपनी आदतों में शुमार कर लें।
  • जितनी तेजी से हो सके उतनी तेजी से मन में गणना करने की आदत बना लें या इसमें सक्षम हो जाएं।  अव्वल रहने वाले अधिकतर छात्र ऐसा ही करते हैं जिससे उनका समय बचता है। यह सब एकाग्रता और आदत पर निर्भर करता है। यदि आप आज से ही यह अभ्यास करना शुरू कर देते हैं, तो आप निश्चित रूप से परीक्षा हॉल में इसका पालन करने में सक्षम हो जाएंगे।
  • इसका सेक्शन में भी सवालों की पुनरावृत्ति (रीपीटेशन) होती है। इसका लाभ लेने के लिए आप पिछले वर्ष के प्रश्न पत्रों का अध्ययन कर सकते हैं। परीक्षा के दौरान लाभ लेने के लिए आप इन सवालों का अभ्यास कर सकते हैं। यदि एक बार आप ऐसा करने में सफल हो जाते हैं तो आप पूरे सिलेबस को इसी तरह से हल कर सकते हैं।
  • समय सीमा के भीतर अभ्यास करना किसी भी एसएससी परीक्षा में एक और महत्वपूर्ण तथ्य है। उदाहरण के लिए, एसएससी सीजीएल टियर II में, आपको केवल 120 मिनट की अवधि के भीतर 100 प्रश्नों को हल करने का प्रयास करना होगा। आपको समय सीमा से पहले प्रश्नों का हल करने की आदत विकसित करनी होगी।
  • इस सेक्शन के बारे में सकारात्मक रहें। आपको उन सभी फार्मूलों को याद करने की जरूरत नहीं है जो आपने पढ़े हैं। लेकिन सतत और सूक्ष्म अभ्यास आपके लिए महत्वपूर्ण है। यदि आपके पास ज्ञान है और आप निरंतर अभ्यास कर रहे हैं तो आप निश्चित रूप से उच्च नंबर लाने जा रहे हैं।

एसएससी सीजीएल 2016 कटऑफ बनाम एसएससी सीजीएल 2015 कटऑफ: एक विस्तृत विश्लेषण

 

अंग्रेजी भाषा

अधिकांश उम्मीदवारों को इस सेक्शन से डर लगता है क्योंकि अंग्रेजी एक ऐसी भाषा है जिसमें अधिकांश छात्र कंफर्ट फील नहीं करते हैं। सबसे पहले यह एसएससी परीक्षा का सबसे अधिक भ्रमित (कंफ्यूजिंग) सेक्शन है। परीक्षा हॉल से बाहर आने के बाद भी आप जवाब की सत्यता के बारे में सुनिश्चित नहीं होते हैं। आप नंबरों को लेकर सुनिश्चित नहीं होते हैं और इस सेक्शन में आने वाले नंबरों के परिणामों के लिए इंतजार करना होता है। हालांकि, इसमें कुछ चीजें है जिनका आपको इस सेक्शन में पालन करना चाहिए, वो इस प्रकार हैं:

  • सबसे पहले अपनी शब्दावली सीमा बढ़ाएं। एसएससी परीक्षा आपके व्याकरण के साथ साथ उम्मीदवार की शब्दावली वाले हिस्से की जाँच करती है। शब्द प्रतिस्थापन, वाक्यांश प्रतिस्थापन, मुहावरे और वाक्यांश, पदबंधों, विदेशी शब्द, पर्यायवाची शब्द और विलोम आदि जैसे शब्दों पर आपकी अच्छी कमांड होना बेहद जरूरी है।
  • इसके अलावा, आपको व्याकरण की भी अच्छा नॉलेज होना चाहिए जो कि एससएससी का बेहद अहम हिस्सा है। एसएससी में यह ऐसा सेक्शन है जहां से अक्सर कुछ यूनिक और कुछ अलग तरह के सवाल पूछे जाते हैं जो सामान्य से हटकर होते हैं। तो इसके लिए आप एसपी बक्शी, आरएस अग्रवाल, प्लींथ टू पैरामाउंट जैसी किसी भी मानक व्याकरण (ग्रामर) की किताब का अध्ययन कर सकते हैं।
  • पुनरावृत्ति (रीपीटेशन) भी इस सेक्शन का हिस्सा है, इसलिए पिछले वर्ष के प्रश्न पत्रों का जितना हो सके उतना अभ्यास करें। ऐसा करने से आपको यह पता चलेगा कि एसएसी के किस साल में यह सवाल आया था।  इनके उत्तरों को याद कर लें,क्योंकि कई बार ऐसा होता है कि पुराने दिए गए प्रश्न के उत्तर में से आपको गलत उत्तर का चुनाव करना होता है और ऐसे समय में होता यह है कि आप लॉजिक का इस्तेमाल किए बिना ही उत्तर दे देते हैं।
  • अखबार और उपन्यास पढ़ने से आपको बहुत मदद मिलेगी। यह आपको एक वाक्य के गठन और एक वाक्य में त्रुटि के पैटर्न को समझाने में मदद करता है। इस संबंध में, आप चार्ल्स डिकेंस, टीएस एलियट, अगाथा क्रिस्टी, सर आर्थर कॉनन डॉयल जैसे प्रसिद्ध लेखकों के अंग्रेजी उपन्यासों का अध्ययन कर मदद ले सकते हैं।
  • किसी भी व्याकरण अध्याय में असाधारण नियमों का जितना संभव हो सके उतना अभ्यास करें, ऐसा करने से आप कभी भी इन्हें भूल नहीं सकते हैं। आप निश्चित रूप से हर क्षेत्रों से सवालों का आसानी से खोज सकते हैं।
  • अभ्यास इस सेक्शन का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है। हालाँकि, इस मामले में अधिक महत्वपूर्ण हैं- नियमों और अपवादों को जानना तथा उन्हें लागू करना। किसी भी सेक्शन के लिए कोई समय आधारित अभ्यास आवश्यक नहीं है। लेकिन आपको स्पष्ट रूप से पूरी तन्मयता के साथ अंग्रेजी का अभ्यास करना होगा।
  • विभिन्न परीक्षाओं के वर्णनात्मक सेक्शन के लिए कम से कम एक पत्र या एक निबंध हर दिन लिखना चाहिए। शब्द सीमा के भीतर लिखने की कला आपके सभी विचारों को  व्यक्त करती है। यह सब सोचने की विधि और उसके बाद कागज पर उसका अभ्यास करने से हासिल की जा सकती है।

7 वें वेतन आयोग के बाद एसएससी सीजीएल पदों के संशोधित वेतन

 

एसएससी की परीक्षा मुख्य रूप से ऊपर दिये गए इन चार विषयों पर आधारित होती है। इन के अलावा, अगर आप जूनियर इंजीनियर या जूनियर सांख्यिकीय अधिकारी जैसे विशेष पदों के लिए आवेदन कर रहे हैं तो आपको अपने विषय से संबंधित पेपर का अभ्यास करने की जरूरत है। इसकी तैयारी करने के लिए भी एक ही तरह के नियम और अभ्यास लागू होते हैं।

एसएससी में टॉप करने के लिए जिस चीज की आवश्यकता होती है वह है: स्टडी (अध्ययन) + रिवाइज + अभ्यास (प्रैक्टिस)।

बेस्ट ऑफ लक!!

 

Related Stories