Search

जानिए बैंक परीक्षा के साइकोमेट्रिक टेस्ट कैसे पास करें

साइकोमेट्रिक टेस्ट एक नयी टेस्ट विधि है जिसे आईबीपीएस द्वारा विभिन्न बैंकिग परीक्षाओं के लिए एक प्रायोगिक टेस्ट के रूप में शुरू किया गया है। भविष्य में इस टेस्ट के और अधिक बढ़ने की संभावना है क्योंकि यह उन बैंकों के बीच तेजी से लोकप्रिय होता जा रहा है,

Dec 27, 2018 11:53 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
How to approach Psychometric Tests in Bank Examinations
How to approach Psychometric Tests in Bank Examinations

इन दिनों साइकोमेट्रिक टेस्ट बैंकिग परीक्षाओं का अभिन्न हिस्सा बनता जा रहा है। इस तरह के टेस्ट पिछले आईबीपीएस परीक्षा में हुए थे और अब  बैंकिंग भर्ती परीक्षा लेने वाला बॉब मणिपाल स्कूल ने भी अपनी परीक्षा प्रणाली के अंतर्गत साइकोमेट्रिक टेस्ट को रखा है । आपको इस परीक्षा में शामिल होकर अपनी राय के अनुसार सवालों के जवाब देने होते हैं। इस टेस्ट के मामले में यह निश्चित होता है कि इसमें कुछ गलत या सहीं नहीं है, लेकिन यह टेस्ट मूल रूप से एक मनोवैज्ञानिक परीक्षा है जो भविष्य में बैंकों की कार्यप्रणाली में प्रयोग होगा। इस आर्टिकल के माध्यम से हम विस्तार से साइकोमेट्रिक टेस्ट के बारे में चर्चा करेंगे जिससे आप बैंकिंग परीक्षा भर्ती प्रक्रिया की परीक्षण में इसके महत्व को समझ सकें।

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में स्पेशलिस्ट ऑफिसर्स के लिए प्रमोशन पालिसी

साइकोमेट्रिक टेस्ट क्या है?

साइकोमेट्रिक टेस्ट के बारे में सही दृष्टिकोण अपनाने के बारे में विस्तार से  जानकारी देने से पहले, हमें इस बात को समझना जरूरी हैं कि आखिर भर्ती प्रक्रिया में आईबीपीएस द्वारा इस परीक्षा को रखने के पीछे लॉजिक( तर्क) क्या है । एक साइकोमेट्रिक टेस्ट बैंकिंग कार्य करने के लिए किसी भी उम्मीदवार की मनोवैज्ञानिक उपयुक्तता को परखने की एक कसौटी है। इस टेस्ट के जरिये विभिन्न परिस्थितियों में आपके द्वारा लिए गए त्वरित निर्णय तथा उपलब्ध सूचनाओं का सही उपयोग किये जाने की कला एवं ज्ञान का परीक्षण किया जाता है l आपको कई परिस्थितियों में से एक को चुनकर उससे सम्बंधित प्रश्नों का उत्तर देना होता है l आपके उत्तर के आधार पर आपके व्यक्तित्व का परीक्षण किया जाता है l साथ ही परीक्षा आयोजित करने वाली समिति (बॉडी) के मानकों के अनुसार आप उपरोक्त जॉब के लिए उपयुक्त (सही) हैं या नहीं इस पर विचार किया जाता है l

क्या देश में सिंगल बैंक भर्ती परीक्षा की आवश्यकता है?

बैंकिंग परीक्षा में कैसे करें साइकोमेट्रिक टेस्ट की तैयारी करें ?

बैंक ऑफ बड़ौदा की अधिसूचना के अनुसार साइकोमेट्रिक टेस्ट में प्राप्त किये गए नंबर भर्ती प्रक्रिया के अंतिम परिणाम की तैयारी में नहीं गिने जाएंगे। लेकिन इस टेस्ट से उम्मीदवार की योग्यता की जांच की जाएगी और अंतिम परिणाम ऑनलाइन परीक्षा और समूह चर्चा / व्यक्तिगत साक्षात्कार में प्राप्त हुए अंकों के आधार पर घोषित किया जाएगा। इस रुझान को देखते हुए हम भविष्य में किसी भी बैंकिंग परीक्षा में एक नियमित आधार पर इन टेस्ट को स्वीकार कर सकते हैं। आइए जानते हैं कि इस परीक्षा में बेहतर अंक लाने का सर्वोत्तम तरीका क्या है?
• जो आप हैं, वहीं रहें (दिखावा ना करें): सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि जब भी आप साइकोमेट्रिक टेस्ट से गुजर रहे हैं तो इस बात का ध्यान रखें कि जो आप अंदर से हैं वहीं बाहर भी रहें क्योंकि इस टेस्ट का मुख्य लॉजिक (तर्क) ही यही है। पूरे टेस्ट के दौरान आपको स्वयं को वास्तविक रूप में प्रदर्शित करना चाहिए और सवालों के जवाब देते समय इस बारे में ना सोचें कि इससे परीक्षक के बारे में मेरे प्रति क्या धारणा बनेगी।

• ज्यादा ना सोचें: इस टेस्ट को आयोजित करने का एक महत्वपूर्ण तर्क है, क्योंकि आपके लिए सवालों का जवाब देने के लिए सोचना जरूरी हो जाता है, इससे टेस्ट में आपके नंबर ज्यादा आ सकते हैं। अगर कोई आपके जवाबों को काउंटर करता है या विरोध करता है तो परीक्षा में आपके नंबर बहुत कम भी आ सकते हैं।

यदि आप बैंक पीओ परीक्षा में असफ़ल हो रहे है तो इन 6 स्टेप्स को अपनाए !

• सभी सवालों के जवाब दें: परीक्षा के दौरान आप किसी भी सवाल को छोड़े नहीं, क्योंकि आपके सभी सवालों के आधार पर ही आपके उत्तरों का विश्लेषण किया जाएगा। स्वंय को पहचानें और पुस्तिका में प्रश्नों के उत्तर दें, अगर आप ऐसा करते हैं तो निश्चित तौर पर सफलता आपके कदमों में होगी।
• परिणाम की चिंता ना करें: परीक्षा के दौरान आपको खुद को वास्तविक रूप में प्रस्तुत करना चाहिए और परीक्षक को पटाने के बारे में नहीं सोचना चाहिए। आपका ध्यान पूछे गए सभी सवालों के जवाब देने पर होना चाहिए।
• ईमानदार रहें: यदि आप ईमानदार हैं तो आपसे परीक्षा में भी इसकी उम्मीद की जाती है, क्योंकि परीक्षक आपके सवालों के जवाब के आधार पर आपकी वास्तविकता को पहचान लेते हैं। इसलिए जरूरी है कि परीक्षा की तैयारी के समय से ही स्वंय को दिखावटीपन से दूर रख कर वास्तविक रूप में तैयार करें।

साइकोमेट्रिक टेस्ट एक नयी टेस्ट विधि है जिसे आईबीपीएस द्वारा विभिन्न बैंकिग परीक्षाओं के लिए एक प्रायोगिक टेस्ट के रूप में शुरू किया गया है। भविष्य में इस टेस्ट के और अधिक बढ़ने की संभावना है क्योंकि यह उन बैंकों के बीच तेजी से लोकप्रिय होता जा रहा है, जो अपने कार्य के लिए उपयुक्त उम्मीदवारों की तलाश कर रहे हैं। हालांकि फिलहाल यह केवल क्वालिफाइंग है, भविष्य में इसमें प्राप्त होने वाले नंबरों को अंतिम सूची में जोड़ा जा सकता है। इसलिए ईमानदारी से इस परीक्षा में पूछे जाने वाले सभी प्रश्नों के जवाब दें। इस टेस्ट के लिए आपको किसी विशेष तैयारी की आवश्यकता नहीं होती है।

ऑल द बेस्ट!!

जानिए SBI PO Exam 2018 की तैयारी के लिए आपको कौन सा न्यूज़ पेपर पढना चाहिए

SBI PO परीक्षा 2018 की तैयारी के लिए सर्वश्रेष्ठ समाचार चैनल

 

Related Stories